scorecardresearch

नई दिल्लीः रेलवे की संपत्ति से छेड़छाड़ की तो आजीवन नौकरी के लिए हो जाएंगे अयोग्य- रेलवे मंत्रालय का फरमान

बिहार में प्रदर्शन के दौरान पटना समेत कई स्थानों पर रेल की पटरी पर युवकों के बैठ जाने की घटना के एक दिन बाद मंत्रालय का यह बयान सामने आया है।

Railway, Patna Train Block
सोमवार को पटना में रेलवे परीक्षार्थियों ने ट्रेन को रोककर विरोध प्रदर्शन किया था। (Photo- PTI)

रेलवे ने उन लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की चेतावनी दी है, जो अपनी मांगों के पूरे नहीं होने पर रेलवे की संपत्ति को नुकसान पहुंचाते हैं और रेल परिचालन पर असर डालते हैं। विभाग का कहना है कि इससे न केवल रेलवे को नुकसान पहुंचता है, बल्कि ट्रेन पर सफर कर रहे लाखों लोग और वे लोग जो स्टेशनों पर अपनी ट्रेनों की प्रतीक्षा में बैठे होते हैं, उन्हें भी भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

विभाग ने मंगलवार को कहा कि प्रदर्शन के दौरान तोड़फोड़ करने समेत गैर-कानूनी गतिविधियों में शामिल अभ्यर्थियों और अन्य लोगों की रेलवे में भर्ती पर प्रतिबंध लगा दिया जाएगा। बिहार में प्रदर्शन के दौरान पटना समेत कई स्थानों पर रेल की पटरी पर युवकों के बैठ जाने की घटना के एक दिन बाद रेलवे का यह बयान आया है।

एक सामान्य नोटिस में रेलवे ने कहा, ‘‘इस तरह की दिशाहीन गतिविधियां अनुशासनहीनता की पराकाष्ठा हैं, जो ऐसे लोगों को रेलवे में भर्ती के अयोग्य बना देती हैं। इस तरह की गतिविधियों के वीडियो का परीक्षण किया जाएगा। गैरकानूनी गतिविधियों में शामिल अभ्यर्थियों या नौकरी के इच्छुक अन्य लोगों की रेलवे में भर्ती पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया जाएगा। ऐसे लोग अपने खिलाफ पुलिस कार्रवाई के लिए खुद जिम्मेदार होंगे।’’

अभ्यर्थियों ने रेलवे भर्ती बोर्ड के नॉन-टेक्निकल पॉपुलर कैटेगरी (आरआरबी एनटीपीसी) परीक्षा के परिणाम में कथित गड़बड़ी को लेकर यह विरोध प्रदर्शन किया था। यह विरोध प्रदर्शन सोमवार देर शाम तक जारी रहा। इसके कारण पटना में कम से कम पांच लंबी दूरी की ट्रेन को रद्द करना पड़ा, जबकि राजेंद्र नगर टर्मिनल पर पटरी के बाधित होने से कई ट्रेन के मार्ग को परिवर्तित करना पड़ा। अधिकारियों ने बताया कि रेलवे ने कोचिंग केंद्रों से संपर्क करके अभ्यर्थियों के बीच जागरूकता फैलाने की अपील की है।

गौरतलब है कि एनटीपीसी परीक्षा में करीब 1.25 करोड़ अभ्यर्थी शामिल हुए थे, जिसका परिणाम इस महीने की शुरुआत में आया था। रेलवे ने पहले कहा था कि वह 35,281 पदों को भरने पर विचार कर रहा है। इनमें से 13 श्रेणियों में 24,281 पद स्नातक के लिए थे और छह श्रेणियों में 11,000 पद गैर-स्नातक के लिए थे। इन 13 श्रेणियों को सातवें केंद्रीय वेतन आयोग के वेतनमान स्तर (स्तर 2, 3, 4, 5 और 6) के आधार पर पांच समूहों में विभाजित किया गया था।

इन पदों में ट्रेन असिस्टेंट, गार्ड, जूनियर क्लर्क, समयपाल और स्टेशन मास्टर शामिल हैं। लेवल 2 की नौकरी पाने पर शुरुआती वेतन लगभग 19,000 रुपये है और इसके लिए कक्षा 12 पास होना आवश्यक है। स्टेशन मास्टर जैसे लेवल-6 के पद के लिए स्नातक होना जरूरी है, लेकिन शुरुआती वेतन लगभग 35,000 रुपये है। उम्मीदवारों का आरोप है कि पिछले साल आयोजित कंप्यूटर आधारित टेस्ट-1 के दौरान लेवल 2 की परीक्षा में उच्च योग्यता वाले उम्मीदवार बैठे।

एक अभ्यर्थी ने सोशल मीडिया पर लिखा, ‘‘अगर ये उम्मीदवार ऐसी नौकरियों के लिए बैठते हैं, तो हम इन नौकरियों को पाने की कल्पना भी कैसे करेंगे जो हमारे लिए हैं?’’ अधिकारियों ने कहा कि समस्या यह है कि रेलवे उच्च योग्यता वाले उम्मीदवारों को कम योग्यता की आवश्यकता वाली परीक्षा में बैठने से नहीं रोक सकता है।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.