ताज़ा खबर
 
  • राजस्थान

    Cong+ 95
    BJP+ 80
    RLM+ 0
    OTH+ 24
  • मध्य प्रदेश

    BJP+ 111
    Cong+ 110
    BSP+ 4
    OTH+ 5
  • छत्तीसगढ़

    Cong+ 59
    BJP+ 22
    JCC+ 9
    OTH+ 0
  • तेलांगना

    TRS-AIMIM+ 93
    TDP-Cong+ 19
    BJP+ 1
    OTH+ 6
  • मिजोरम

    MNF+ 25
    Cong+ 10
    BJP+ 1
    OTH+ 4

* Total Tally Reflects Leads + Wins

रेल नीर मामला: दो रेलवे अधिकारी, एक व्यवसायी गिरफ्तार

सीबीआई ने सुपरफास्ट ट्रेनों में बोतल बंद पेयजल की आपूर्ति में कथित भ्रष्टाचार के लिए रेलवे के दो वरिष्ठ अधिकारियों और एक व्यवसायी को गिरफ्तार किया..

Author नई दिल्ली | October 18, 2015 7:36 PM
सीबीआई ने बीते शुक्रवार को छानबीन के दौरान अग्रवाल तथा उनके बेटों अभिषेक तथा राहुल के पास से 27 करोड़ रुपये की नकदी बरामद की थी। (पीटीआई फोटो)

केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने राजधानी, शताब्दी और अन्य सुपरफास्ट ट्रेनों में बोतल बंद पेयजल की आपूर्ति में कथित भ्रष्टाचार के लिए रेलवे के दो वरिष्ठ अधिकारियों और एक व्यवसायी को गिरफ्तार किया।

सीबीआई सूत्रों ने रविवार को कहा कि घोटाले के संबंध में वर्ष 1984 बैच के आईआरटीएस अधिकारी संदीप सिलास और वर्ष 1987 बैच के अधिकारी एमएस चालिया तथा आरके एसोसिएट्स के मालिक शरण बिहारी अग्रवाल को शनिवार देर रात हिरासत में लिया गया।

गिरफ्तारी ऐसे समय हुई जब सीबीआई ने बीते शुक्रवार को छानबीन के दौरान अग्रवाल तथा उनके बेटों अभिषेक तथा राहुल के पास से 27 करोड़ रुपये की नकदी बरामद की थी।

रेलवे के दो अधिकारियों और अग्रवाल को रविवार को अदालत में पेश किया गया जिसने उन्हें एक दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया। सीबीआई प्रवक्ता ने कहा कि उन्हें सोमवार को फिर से पटियाला हाउस अदालत में पेश किया गया।

सीबीआई ने 17 अक्तूबर को अधिकारियों के आवासों पर छापेमारी की थी जिसके बाद दोनों को तुरंत निलंबित कर दिया गया। सीबीआई ने चालिया, सिलास तथा सात निजी कंपनियों आरके एसोसिएट्स प्राइवेट लिमिटेड, सत्यम कैटरर्स प्राइवेट लिमिटेड, अंबुज होटल एंड रियल एस्टेट, पीके एसोसिएट्स प्राइवेट लिमिटेड, सनसाइन प्राइवेट लिमिटेड, बृंदावन फूड प्रोडक्ट एंड फूड वर्ल्ड के खिलाफ भ्रष्टाचार रोकथाम कानून के तहत मामला दर्ज किया था।

आरोप है कि मुख्य व्यावसायिक प्रबंधक के पद पर तैनात दो अधिकारियों ने ‘रेल नीर’ के अलावा सस्ते बोतल बंद पेयजल की आपूर्ति में इन निजी फर्मों को अनुचित लाभ पहुंचाया था। राजधानी और शताब्दी सहित प्रीमियम ट्रेनों में रेल नीर की आपूर्ति अनिवार्य होती है।

सीबीआई ने कहा था कि रेलवे बोर्ड ने तय किया है कि आईआरसीटीसी निजी कैटरर्स को करीब 10.50 रुपये प्रति बोतल की दर से ‘रेल नीर’ उपलब्ध कराएगा और उन्हें प्रीमियम ट्रेनों में यात्रियों को इसकी आपूर्ति के लिए 15 रुपये प्रति बोतल का भुगतान किया जाएगा।

हालांकि अनुचित लाभ कमाने के लिए, निजी आपूर्तिकर्ता ‘रेल नीर’ के अलावा 5 . 70 रुपये से सात रुपये प्रति बोतल की दर से बाजार में उपलब्ध अन्य सस्ते बोतल बंद पेयजल की कथित रूप से आपूर्ति करके लाभ कमा रहे थे और सरकारी राजस्व को नुकसान पहुंचा रहे थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App