ताज़ा खबर
 

7th Pay Commission की सिफारिशों से Indian Railways पर बढ़ा बोझ- संसद में बोले रेल मंत्री पीयूष गोयल

7th Pay Commission की सिफारिशें लागू होने से Indian Railways पर पिछले तीन सालों में वित्तीय बोझ काफी बढ़ गया है। यह बात रेल मंत्री पीयूष गोयल ने मानी है।

Author नई दिल्ली | Updated: December 4, 2019 8:16 PM
7th Pay Commission: रेल मंत्री पीयूष गोयल। (फाइल फोटोः PTI)

7th Pay Commission, 7th CPC Latest News Today 2019, 7th Pay Commission Latest Hindi News: Indian Railways की माली हालात पर हाल ही में जारी सीएजी रिपोर्ट पर कांग्रेस सदस्य गौरव गोगाई ने बुधवार को संसद में आवाज उठाई। उन्होंने इस साल और अगले वर्ष के लिए अनुमानित ऑपरेटिंग रेशियो की सरकार से जानकारी मांगी। रेलवे मंत्री पीयूष गोयल ने माना कि सातवें वेतन आयोग की सिफारिशें लागू होने की वजह से रेलवे पर पिछले तीन सालों में वित्तीय बोझ काफी बढ़ गया है। रेलवे के हालात पर जानकारी देते हुए पीयूष ने यह भी कहा कि रेलवे स्टेशन अब पहले के मुकाबले ज्यादा साफ सुथरे हैं और स्टेशनों पर टॉयलेट्स उपयोग के लिए उपलब्ध हैं।

बता दें कि भारतीय रेल का परिचालन अनुपात वित्त वर्ष 2017-18 में 98.44 प्रतिशत दर्ज किया गया जो पिछले 10 वर्षो में सबसे खराब है । यह बात नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक :कैग: की एक रिपोर्ट से सामने आई है। इसके साथ ही कैग ने सिफारिश की है कि रेलवे को आंतरिक राजस्व बढ़ाने के लिए उपाय करने चाहिए ताकि सकल और अतिरिक्त बजटीय संसाधनों पर निर्भरता कम की जा सके।

रेलवे में इस परिचालन अनुपात :ओआर: का तात्पर्य यह है कि रेलवे ने 100 रूपये कमाने के लिये 98.44 रूपये व्यय किये। रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय रेल का परिचालन अनुपात वित्त वर्ष 2017-18 में 98.44 प्रतिशत रहने का मुख्य कारण संचालन व्यय में उच्च वृद्धि है। इसमें बताया गया है कि वित्त वर्ष 2008..09 में रेलवे का परिचालन अनुपात 90.48 प्रतिशत था जो 2009..10 में 95.28 प्रतिशत, 2010..11 में 94.59 प्रतिशत, 2011..12 में 94.85 प्रतिशत, 2012..13 में 90.19 प्रतिशत, 2013..14 में 93.6 प्रतिशत, 2014..15 में 91.25 प्रतिशत, 2015..16 में 90.49 प्रतिशत, 2016..17 में 96.5 प्रतिशत तथा 2017..18 में 98.44 प्रतिशत दर्ज किया गया।

रिपोर्ट में कहा गया है कि भारतीय रेल का कुल व्यय 2016..17 में 2,68,759.62 करोड़ रूपये से 2017..18 में बढ़कर 2,79,249.50 करोड़ रूपये हो गया । जबकि पूंजीगत व्यय 5.82 प्रतिशत से घटा है और वर्ष के दौरान राजस्व व्यय में 10.47 प्रतिशत की वृद्धि हुई । इसमें कहा गया है कि कर्मचारी लागत, पेंशन भुगतानों और रोंिलग स्टाक पर पट्टा किराया के प्रतिबद्ध व्यय 2017..18 में कुल संचालन व्यय का लगभग 71 प्रतिशत था ।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 महाराष्ट्र: सत्ता गंवाने के बाद नाखुश नेताओं को संतुष्ट करने में जुटी बीजेपी, जिनका टिकट काटा उन्हें दिया पद और नए नेताओं की भी करा रही एंट्री
2 ITBP जवान ने साथियों पर बरसाईं गोलियां, 6 की मौत
3 एक शब्द और कहा तो हो जाओगे अवमानना के दोषी’, जानें वकील पर क्यों इतना भड़क गए सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस अरुण मिश्रा
जस्‍ट नाउ
X