ताज़ा खबर
 

रेलमंत्री बोले- जब मैं 10 साल का था तब बंगाल में रेलवे का एक प्रोजेक्ट शुरू हुआ था, चाहता हूं मेरे जीते जी यह प्रोजेक्ट पूरा हो जाए

रेल मंत्री ने कहा कि माननीय अध्यक्ष महोदय एक तो प्रोजेक्ट 1974 का है जो आज तक अटका हुआ है। वह प्रोजेक्ट 110 किलोमीटर की दूरी का था। सिर्फ 42 किलोमीटर ही पूरा हो पाया है बाकि सब अटका पड़ा है।

rail minister, rajya sabha, piyush goyal, rail project pending, rajya sabha member, rupa ganguly, india news, Hindi news, news in Hindi, latest news, today news in Hindiरेल मंत्री राज्यसभा में रेल परियोजनाओं में देरी के कारणों का जिक्र कर रहे थे। (फाइल फोटो)

रेल मंत्री ने रेल परियोजनाओं में हो रही देरी के पीछे मंगलवार को राज्यसभा में जवाब दिया। रेल मंत्री ने कहा मेरे पास पश्चिम बंगाल में सब रेलवे प्रोजेक्टस का ब्यौरा है। उन्होंने कहा कि कैसे एक-एक प्रोजेक्ट्स में जमीन ना होने के कारण, वन विभाग से क्लियरेंस नहीं मिलने के कारण, कही अतिक्रमण के कारण हम प्रोजेक्ट्स को जो तेज गति देना चाह रहे हैं वह दे नहीं पा रहे हैं।

रेल मंत्री ने कहा कि माननीय अध्यक्ष महोदय एक तो प्रोजेक्ट 1974 का है जो आज तक अटका हुआ है। वह प्रोजेक्ट 110 किलोमीटर की दूरी का था। सिर्फ 42 किलोमीटर ही पूरा हो पाया है बाकि सब अटका पड़ा है। पीयूष गोयल ने कहा कि बरगछिया से चंपादंगा, चंपादंगा से तारकेश्वर, आमटा से बागनन, जंगीपुरा से फुरफुरा समेत कई प्रोजेक्ट हैं जो सालों से लंबित पड़े हैं।


केंद्रीय मंत्री ने कहा कि मेरी दिल्ली इच्छा है कि राज्य सरकार जमीन अधिग्रहण में सहयोग करें और मेरे जीते जी यह प्रोजेक्ट पूरा हो जाए। रेलवे के लंबित परियोजनाओं के मुद्दे पर भाजपा की तरफ से सांसद रूपा गांगुली ने भी अपने क्षेत्र की मांग रखी। रूपा गांगुली ने रेलवे की डिमांड ग्रांट का जिक्र करते हुए कहा कि संघीय व्यवस्था के सम्मान की कमी की बात कही। उन्होंने अपने क्षेत्र के कसाई हाल्ट के मुद्दे को रखा।

भाजपा सांसद ने कहा कि काशी रिवर के ऊपर एक हाल्ट है जहां पर 30 साल से लोगों की मांग थी। उन्होंने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और पूर्व रेल मंत्री ममता बनर्जी पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि तत्कालीन रेल मंत्री ने काशी हाल्ट जैसी कई परियोजनाओं का शिलान्यास तो किया लेकिन वह परियोजनाएं आज तक पूरी ही नहीं हो पाईं।

सांसद ने कहा कि कहीं कहीं तो परियोजना शुरू भी नहीं हो सकी। उन्होंने कहा कि मैंने अपने सांसद कोष से 2.5 करोड़ रुपये देकर काम शुरू करवाने की कोशिश की। आज 2.5 साल बाद भी वह काम पूरा नहीं हो पाया है। उस काम को रुकवा दिया गया है। उन्होंने कहा कि मैं भी जिद पर अड़ी हूं, लोग 30 साल से परेशान हैं। लोग अपने घर से स्टूल लेकर आते हैं और ट्रेन पर चढ़ते हैं। वहां सिंगल बोगी प्लेटफॉर्म है। उन्होंने रेल मंत्री से कहा कि वह डीआरएम से कह कर इस परियोजना को पूरा करवाएं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कांग्रेस नेता अभय दुबे ने कहा- इतिहास से प्रतिशोध मत लीजिए, BJP प्रवक्ता गौरव भाटिया बोले- चुप हो जाइए पढ़े-लिखे हैं, अच्छा नहीं लगता
2 साथी रहे जज ने अब उठाए जस्टिस रंजन गोगोई पर सवाल, बोले- पूर्व CJI ने ‘ज्यूडीश्यरी की आजादी और निष्पक्षता के सिद्धांतों से समझौता’ किया
3 पूर्व CJI रंजन गोगोई को राज्यसभा ऑफर मिलने पर हैरान रह गए थे जस्टिस एपी शाह, बोले- यह ‘रिटर्न गिफ्ट’ जैसा
IPL 2020 LIVE
X