ताज़ा खबर
 

रेलवे विभागों को लेकर पीयूष गोयल ने किया यह बड़ा ऐलान

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने मंत्रालय के मुख्यालय रेल भवन में अधिकारियों के जमावड़े को कम करने का भी संकेत दिए हैं।

Author नई दिल्ली | October 25, 2017 11:22 PM
रेल मंत्री पीयूष गोयल।

भारतीय रेलवे अपने विभिन्न विभागों व इकाइयों के एकीकरण तथा सुदृढ़ीकरण पर जोर दे रही है ताकि उनका बेहतर और अधिकतम इस्तेमाल हो सके लेकिन इस प्रक्रिया में किसी विभाग को बंद नहीं किया जाएगा। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने सोमवार को यह जानकारी दी। उन्होंने स्पष्ट शब्दों में कहा- रेलवे के किसी विभाग को बंद नहीं किया जा रहा है। मंत्री ने संवाददाताओं से कहा कि बदलती जरूरतों व परिस्थितियों के मद्देनजर कुछ विभागों का विलय किया जा रहा है। यह विभागों के एकीकरण व सुदृढ़ीकरण की प्रक्रिया है जिसका उद्देश्य सम्बद्ध विभागों व उसके कर्मचारियों का बेहतर और अधिकतम इस्तेमाल सुनिश्चित करना है।

उन्होंने इस संबंध में पूर्व मंत्री सुरेश प्रभु द्वारा शुरू की गई पहलों को भी महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि वे उस काम को ही आगे बढ़ा रहे हैं। रेल मंत्री ने इसके साथ ही मंत्रालय के मुख्यालय रेल भवन में अधिकारियों के जमावड़े को कम करने का भी संकेत दिया और कहा कि अधिकारों के विकेंद्रीकरण के साथ शायद यहां केंद्र में इतनी बड़ी संख्या में अधिकारियों और कर्मचारियों की जरूरत नहीं रहे। उन्होंने कहा कि सुरक्षा रेलवे की शीर्ष प्राथमिकता है और इसमें धन की कोई कमी नहीं आने दी जाएगी। इस अवसर पर उन्होंने हाल ही में किए गए विभिन्न फैसलों की जानकारी दी।

उल्लेखनीय है कि रेल मंत्री ने ट्रेन में मिलने वाले खाने की क्वालिटी सुधारने के लिए कुछ दिनों पहले नई पहल शुरू की है। उन्होंने रेलवे के अधिकारियों से कहा है कि यात्रा के दौरान ट्रेन में यात्रियों को मिलने वाले खाने के साथ खाने की मात्रा और कॉन्ट्रैक्टर की जानकारी भी दी जाए। रेल मंत्रालय की तरफ से सभी जॉनल जनरल मेनेजर्स को एक पत्र भेजा गया था। पत्र में रेलवे बोर्ड ने बताया कि रेल मंत्री ने कहना है कि ट्रेन में यात्रियों को खाने के साथ सप्लायर या कॉन्ट्रैक्टर की डिटेल्स के साथ, वजन, पैकिंग की तारीख भी बतानी चाहिए। इसके साथ ही पैकेट पर एक ऐसा सिंबल भी होना चाहिए जिससे पता चले कि पैकेट में खाना वेज है या नॉन वेज।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App