ताज़ा खबर
 

पूर्व सीएम और बीजेपी नेता के दामाद के 25 ठिकानों पर 4 दिन चली IT रेड, 650 करोड़ की संपत्ति का खुलासा

एसएम कृष्णा के दामाद वी जी सिद्धार्थ हैं जो कैफे कॉफी डे (सीसीडी) रिटेल चेन के मालिक हैं।
एसएम कृष्णा के दामाद वी जी सिद्धार्थ कैफे कॉफी डे (सीसीडी) रिटेल चेन के मालिक हैं।

कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री, पूर्व विदेश मंत्री और हाल की में भाजपा में शामिल हुए एमएम कृष्णा के दामाद के ठिकानों पर इनकम टैक्स की छापेमारी में 650 करोड़ रुपये की अघोषित आय का खुलासा हुआ है। बता दें कि एसएम कृष्णा के दामाद वी जी सिद्धार्थ हैं जो  कैफे कॉफी डे (सीसीडी) रिटेल चेन के मालिक हैं। आयकर अधिकारियों ने गुरुवार (21 सितंबर) से रविवार (24 सितंबर) तक चार दिनों तक लगातार उनके व्यापारिक और आवासीय कुल 25 ठिकानों पर छापेमारी की गई। इस दौरान इनकम टैक्स अधिकारियों को कई कागजात मिले हैं, जिससे 650 करोड़ रुपये की अघोषित आय का खुलासा हुआ है।

समाचार एजेंसी आईएएनएस को एक वरिष्ठ आयकर अधिकारी ने बताया, “कर्नाटक, मुंबई और चेन्नई में कैफे कॉफी डे और उसके ग्रुप से जुड़े 25 ठिकानों पर छापेमारी की, जिसमें बरामद दस्तावेजों से करीब 650 करोड़ रुपये की अघोषित आय का खुलासा हुआ है।” बता दें कि इस ग्रुप की कंपनियां कॉफी, पर्यटन और आईटी के क्षेत्र में काम करती हैं।

आयकर अधिकारियों के मुताबिक पिछले चार दिनों में सीसीडी के मालिक वी जी सिद्धार्थ के बेंगलुरु, चिकमंगलुरु, हासन और मैसूरू समेत पूरे कर्नाटक स्थित दफ्तरों और आवासीय परिसर में छापेमारी की गई जो रविवार (24 सितंबर) की शाम तक चली। सिद्धार्थ पूर्व मुख्यमंत्री एस एम कृष्णा के बड़े दामाद हैं। कृष्णा 1999 से 2004 तक कर्नाटक के मुख्यमंत्री थे। उसके बाद वो केंद्र की यूपीए सरकार में विदेश मंत्री बनाए गए थे। अभी हाल ही में उन्होंने कांग्रेस छोड़कर भाजपा का दामन थाम लिया था। मुख्यमंत्री से हटने के बाद कृष्णा 2004 से 2008 तक महाराष्ट्र के राज्यपाल भी रहे हैं।

सिद्धार्थ कैफे कॉफी डे के संस्थापक मालिक हैं और जनवरी, 2015 से इसके सीएमडी हैं। इसके अलावा सिद्धार्थ की  कुछ आईटी कंपनियों में भी हिस्सेदारी है। वह देश में कॉफी के बीजों के सबसे बड़े निर्यातकों में से एक हैं। बेंगलुरु स्थित एक ट्रेडिंग कंपनी ‘अमैलगैमेटेड बीन ऑफिस’ (एबीसी) के कार्पोरेट कार्यालय की भी छानबीन की गई। ये सेंट्रल बेंगलुरु में कॉफी चेन आउटलेट संचालित करती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.