ताज़ा खबर
 

महात्मा गांधी की हत्या के लिए RSS को जिम्मेदार ठहरा रहे राहुल पर सख्त हुआ सुप्रीम कोर्ट

उच्चतम न्यायालय ने आज कहा कि राहुल गांधी को एक संगठन की ‘‘सार्वजनिक रूप से निंदा’’ नहीं करनी चाहिए थी

Author नई दिल्ली | Updated: July 19, 2016 4:07 PM
Rahul Gandhi,Defamation,Mahatma Gandhi assassinationराहुल गांधी (Photo-PTI)

उच्चतम न्यायालय ने आज कहा कि राहुल गांधी को एक संगठन की ‘‘सार्वजनिक रूप से निंदा’’ नहीं करनी चाहिए थी और अगर उन्होंने खेद नहीं जताया तो उन्हें मानहानि मामले में मुकदमे का सामना करना पड़ेगा। राहुल ने महात्मा गांधी की हत्या के लिए आरएसएस को जिम्मेदार ठहराया था।

न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा और न्यायमूर्ति आर. एफ. नरीमन की पीठ ने कहा, ‘‘हमारा यह मानना है कि यह ऐतिहासिक रूप से सही हो सकता है लेकिन तथ्य या बयान लोगों की भलाई के लिए होना चाहिए। आप सार्वजनिक रूप से निंदा नहीं कर सकते। पीठ ने कहा कि ‘‘स्वतंत्रता को दबाया या कुचला नहीं गया है। मानहानिपूर्ण बयान पर अंकुश लगाया गया है। लेखक, नेता, आलोचक या विपक्षी क्या कहते हैं, आप में उसे सहन करने की महान क्षमता होनी चाहिए।

पीठ ने राहुल के भाषण पर सवाल उठाए और आश्चर्य जताया कि ‘‘उन्होंने गलत ऐतिहासिक तथ्य का उद्धरण देकर भाषण क्यों दिया।
उच्चतम न्यायालय ने कहा कि उन्होंने अपने विवेक से काम लिया है और राहुल गांधी को मामले में मुकदमे का सामना करना होगा।

पीठ ने कहा, ‘‘हमें देखना है कि याचिकाकर्ता के आरोप भादंसं की धारा 499 :मानहानि: के तहत आते हैं या नहीं। फैसला हो चुका है। अगर आपने खेद नहीं जताया तो आपको मुकदमे का सामना करना होगा। इसने यह भी कहा, ‘‘कानून का मकसद लोगों को वादी बनाना नहीं है। कानून का उद्देश्य है कि लोग कानून का पालन करें। अराजकता के बजाए शांति और सौहार्दता का वातावरण हो।’’

Next Stories
1 Smartphone के जरिए आसान होगा मनी ट्रांसफर, जानें कैसे?
2 जानिए क्यों रोहन बोपन्ना ने कहा कि, टेनिस खेल है, मुर्गबाजी नहीं
3 पहला मैच हारी भारतीय महिला हॉकी टीम
यह पढ़ा क्या?
X