ताज़ा खबर
 

बड़े मुद्दों पर रुख तक तय नहीं कर पा रही कांग्रेस, अब राहुल गांधी ने बनाया है पार्टी में जान फूंकने का प्लान

माना जा रहा है कांग्रेस 15 अक्टूबर के बाद आंतरिक चुनाव कराएगी और राहुल गांधी पार्टी के अध्यक्ष चुने जाएंगे।

राहुल गांधी। (PTI Photo by R Senthil Kumar)

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने पार्टी में नई जान फूंकने के लिए नई योजना बनाई है। राहुल ने मंगलवार (छह जून) को कांग्रेस वर्किंग कमेटी (सीडब्ल्यूसी) की बैठक में इस योजना का खाका पेश किया। बैठक में कांग्रेस सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह समेत पार्टी के वरिष्ठ नेता शामिल थे। राहुल अहम मुद्दों पर पार्टी की राय तय करने के लिए एक उच्च स्तरीय पैनल बनाएंगे जिसकी अध्यक्षता वो खुद करेंगे। राहुल पेशेवरों और कारोबारियों तक पार्टी की पहुंच बढ़ाने के लिए अलग से विशेष सेल बनाएंगे। मंगलवार को सीडब्ल्यूसी की बैठक में पार्टी के अंदर विभिन्न पदों के लिए चुनाव की तारीखों को भी मंजूरी दी गई। माना जा रहा है कांग्रेस 15 अक्टूबर के बाद आंतरिक चुनाव कराएगी और राहुल गांधी पार्टी के अध्यक्ष चुने जाएंगे।

पिछले साल नवंबर में हुई सीडब्ल्यूसी की बैठक में पार्टी नेताओं ने राहुल गांधी से पार्टी का अध्यक्ष पद संभालने की मांग की थी। पार्टी के सूत्रों के अनुसार मंगलवार को हुई बैठक में राहुल को तत्काल अध्यक्ष बनाने की कोई मांग नहीं की गई। संभवतः पार्टी ने औपचारिक आंतरिक चुनाव के तहत उन्हें अध्यक्ष बनाना तय किया है। पेशेवरों और कारोबारियों के लिए कांग्रेस की विशेष इकाइयों का गठन बहुत जल्द हो जाएगा। कांग्रेस ने हाल ही में बीजेपी की तर्ज पर प्रवासी भारतीयों के लिए ओवरसीज कांग्रेस के गठन की घोषणा की थी।

सीडब्ल्यूसी की बैठक में राहुल ने बताया कि वो पार्टी की निष्क्रिय प्रदेश इकाइयों में बदलाव कर रहे हैं। अहम मुद्दों पर पार्टी की राय तय करने के लिए विशेष समूह बनाने के राहुल के विचार को पार्टी के नेताओं ने समर्थन दिया। माना जा रहा है कि पिछले कुछ समय में विभिन्न मुद्दों पर कांग्रेसी नेताओं के परस्पर विरोधी बयानों के देखते हुए राहुल ने ये फैसला लिया है ताकि बड़े मुद्दों पर पार्टी साफ और एक राय रख सके। मसलन, बीफ के मुद्दे पर ही कांग्रेसी नेताओं ने अलग-अलग बयान दिए हैं। कांग्रेस कहती रही है कि लोगों की खानपान से जुड़ी आदतें सरकार नहीं तय कर सकती लेकिन पार्टी ने आधिकारिक तौर पर नरेंद्र मोदी सरकार के बीफ से जुड़ी अधिसूचना का समर्थन या विरोध नहीं किया।

कश्मीर में सेना के मेजर द्वारा एक कश्मीरी को मानवढाल बनाकर जीप के आगे बांधने का केरल कांग्रेस ने जमकर विरोध किया लेकिन पंजाब के कांग्रेसी मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने इसके लिए सेना की तारीफ की। वहीं वरिष्ठ कांग्रेसी नेता दिग्विजय सिंह ने इसे अनैतिक बताया। सीडब्ल्यूसी की बैठक में फैसला किया गया कि पार्टी के अहम मामलों पर निर्णय लेना वाली कमेटी हर दो महीने में एक बार बैठक करेगी। सूत्रों के अनुसार बैठक में कुछ नेताओं ने कहा कि उच्च-स्तरीय कमेटी को और भी जल्दी-जल्दी मिलना चाहिए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 मोदीजी इफ्तार पार्टी दे रहे हैं- शाहनवाज हुसैन के यह कहते ही कुछ पल के लिए हैरान रह गए सुनने वाले
2 अमित शाह के दौरे से पहले सात राज्यों के बीजेपी प्रमुखों ने किया आगाह- बीफ बैन से पार्टी को हो सकता है नुकसान
3 बीफ विवाद पर वेंकैया नायडू बोले- भोजन पसंद का मामला है, मैं खुद भी मांसाहारी हूं