ताज़ा खबर
 

राहुल गांधी ने VHP ‘विरोधी’ महन्त ज्ञानदास से लिया आशीर्वाद, किछौछा शरीफ की दरगाह पर भी टेकेंगे मत्था

राजनीतिक पंडितों द्वारा राहुल के अयोध्या दौरे को कांग्रेस की कट्टर हिन्दुत्व से परहेज रखने वाली पार्टी की छवि बदलने की कोशिश के रूप में भी देखा जा रहा है।

Author फैजाबाद | Updated: September 9, 2016 6:12 PM
राहुल गांधी ने अयोध्या में हनुमानगढ़ी के महंत ज्ञानदास से मुलाकात की और उनका आशीर्वाद लिया।(PC: ANI)

राम मंदिर आंदोलन के बाद उत्तर प्रदेश की सत्ता से दूर हुई कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी आज भगवान हनुमान का आशीर्वाद लेने के लिये अयोध्या स्थित हनुमानगढ़ी पहुंचे। वर्ष 1992 में विवादित ढांचा विध्वंस के बाद अयोध्या की यात्रा करने वाले नेहरू-गांधी परिवार के वह पहले सदस्य हैं। उत्तर प्रदेश में अपनी किसान यात्रा के चौथे दिन राहुल ने अयोध्या के विवादित स्थल से लगभग एक किलोमीटर दूर स्थित हनुमानगढ़ी में दर्शन किये। हालांकि राहुल उस शिलान्यास स्थल से भी दूर रहे जहां वर्ष 1989 में राम मंदिर के निर्माण की आधारशिला रखी गयी थी।

राजनीतिक हलकों में कई निहितार्थों को जन्म देने वाली अपनी अयोध्या यात्रा के दौरान राहुल ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के सदस्य महन्त ज्ञानदास से मुलाकात की। ज्ञानदास विश्व हिन्दू परिषद के प्रति विरोधी रुख रखने वाले माने जाते हैं। उनके इस दौरे को कांग्रेस की कट्टर हिन्दुत्व से परहेज रखने वाली पार्टी की छवि बदलने की कोशिश के रूप में भी देखा जा रहा है। यह भी उल्लेखनीय है कि राम मंदिर आंदोलन के बाद से ही कांग्रेस उत्तर प्रदेश में सत्ता से बाहर है। राहुल से बंद कमरे में करीब 15 मिनट तक बातचीत के बाद महंत ज्ञानदास ने संवाददाताओं से कहा,‘वह हम लोगों का आशीर्वाद लेने आये थे। साधु संतों के पास कोई नेता आए, ये कोई बड़ी बात नहीं है।’

मीडिया के सवालों के जवाब में महंत ज्ञानदास ने कहा कि कोई आशीर्वाद लेने आता है तो उसकी कोई ना कोई अपेक्षा तो होती ही है। संत आशीर्वाद लेने वाले के कल्याण की कामना करते हैं। सूत्रों की माने तो राहुल गांधी ने ज्ञानदास से मुलाकात के दौरान यह आश्वासन दिया कि इस मामले में उच्चतम न्यायालय का जो भी फैसला होगा, कांग्रेस उसके साथ खड़ी होगी।

Read Also: राज्य संगठनों पर दोष मढ़कर पाकिस्तान अपनी जिम्मेदारी से नहीं बच सकता: विदेश सचिव

राजनीतिक पर्यवेक्षक राहुल की अयोध्या की यह यात्रा कांग्रेस के एजेंडे में हिन्दुत्व की हल्की छुअन देख रहे हैं। सियासी बिसात पर राहुल को हर कदम होशियारी से आगे बढ़ा रहे चुनावी रणनीतिकार प्रशान्त किशोर की मंत्रणा से कांग्रेस हिन्दूत्व-केन्द्रित रणनीति के साथ सामने आती दिख रही है। राहुल अम्बेडकर नगर में किछौछा शरीफ की दरगाह भी जाएंगे। माना जा रहा है कि संतुलन बनाये रखने के लिये उनकी यात्रा तय की गयी है।

Read Also: राज बब्बर की एक्ट्रेस बेटी जूही बब्बर लड़ सकती हैं यूपी से विधान सभा चुनाव

वर्ष 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में कांग्रेस उत्तर प्रदेश में महज रायबरेली और अमेठी की सीटें ही जीत सकी थी। प्रदेश की 403 सदस्यीय विधानसभा में मात्र 29 विधायकों वाली कांग्रेस राज्य में अपना पुराना गौरव वापस पाने को बेताब है। कांग्रेस वर्ष 1989 में ‘मंडल-कमंडल’ के गिर्द घूमती राजनीति के उभार के बाद से ही प्रदेश की सत्ता से बाहर है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 बेटा नहीं होने पर मां ने चार महीने की बेटी पर चाकू से 17 वार करके AC में छिपाया, फिर मचाया शोर
2 राज बब्बर की एक्ट्रेस बेटी जूही बब्बर लड़ सकती हैं यूपी से विधान सभा चुनाव