ताज़ा खबर
 

मां के साथ विदेश गए कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी, जाते-जाते बीजेपी की ट्रोल आर्मी पर कसा तंज

राहुल ने ट्वीट किया, ''सोनिया जी की वार्षिक चिकित्सा जांच के लिए उनके साथ कुछ दिनों के लिए भारत से बाहर रहूंगा। भाजपा के सोशल मीडिया ट्रोल समूह के मेरे दोस्‍तों : ज्यादा परेशान मत होइएगा... मैं जल्द ही वापस लौटूंगा।''

कर्नाटक: एचडी कुमारस्‍वामी के शपथ-ग्रहण समारोह में कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी व यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी। (Photo: PTI)

यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी अपने बेटे और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ मेडिकल चेकअप के लिए रविवार रात विदेश रवाना हो गईं। दोनों कहां गए हैं, इसकी जानकारी नहीं दी गई है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक ट्वीट में यह जानकारी दी और साथ ही सत्‍ताधारी भाजपा के ट्रोल्‍स पर भी निशाना साधा। उन्‍होंने ट्वीट किया, ”सोनिया जी की वार्षिक चिकित्सा जांच के लिए उनके साथ कुछ दिनों के लिए भारत से बाहर रहूंगा। भाजपा के सोशल मीडिया ट्रोल समूह के मेरे दोस्‍तों : ज्यादा परेशान मत होइएगा… मैं जल्द ही वापस लौटूंगा।” सोनिया गांधी की 2011 में अमेरिका में एक सर्जरी हुई थी। पीटीआई के अनुसार, राहुल गांधी एक सप्ताह में स्वदेश लौट आएंगे जबकि सोनिया कुछ अधिक समय तक विदेश में रहेंगी।

रविवार को राहुल गांधी ने अपने ट्विटर अकाउंट के जरिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी निशाना साधा। दरअसल, उत्तर प्रदेश के बागपत में प्रधानमंत्री की रैली के एक दिन पहले प्रदर्शन के दौरान एक किसान की मौत हो गई थी। यहां से 50 किलोमीटर दूर कैराना लोकसभा सीट पर 28 मई को उपचुनाव के लिए मतदान चल रहा है। राहुल गांधी ने ट्वीट के जरिए कहा, “उत्तर प्रदेश के गन्ना उत्पादक किसान सोच रहे हैं कि यूपीए की स्कीम का श्रेय लेने वाले प्रधानमंत्री रोडशो में उनके खेतों से होकर पार करते हैं, लेकिन उन पर ध्यान नहीं देते हैं। दुर्भाग्यवश, अपने अधिकारों की लड़ाई लड़ते हुए अपनी जान देने वाले उदयवीर जैसे किसान यह नजारा देखने के लिए जीवित नहीं रहे।”

गन्ना किसान उदयवीर की शनिवार को बागपत के बड़ौत तहसील में प्रदर्शन के दौरान मौत हो गई। मोदी ने इससे पहले रविवार को दिल्‍ली-मेरठ एक्‍सप्रेसवे के पहले चरण (कुंडली-गाजियाबाद-पलवल एक्सप्रेस-वे परियोजना) का उद्घाटन किया। इस एक्सप्रेस-वे के चालू हो जाने से यातायात के दबाव से दिल्ली को राहत मिलेगी।

राहुल गांधी ने रविवार को राज्य इकाइयों में बदलाव करते हुए दिग्विजय सिंह को आंध्र प्रदेश के प्रभारी महासचिव पद से हटाकर केरल के पूर्व मुख्यमंत्री ओमान चांडी को यह प्रभार सौंप दिया है। चांडी ने कहा, “मेरी नियुक्ति मेरे व्यापक अनुभव की वजह से की गई है और मुझे कांग्रेस को आंध्र प्रदेश में फिर से वापस लाने का भरोसा है।” ओमान चांडी की कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से अगले सप्ताह मुलाकात निर्धारित है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App