ताज़ा खबर
 

राहुल गांधी ने नरेंद्र मोदी पर हमला करते हुए कहा ‘क्रोधित लोग इन दिनों चला रहे हैं देश’

नई दिल्ली। कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर परोक्ष तौर पर सांप्रदायिकता का जहर फैलाने का आरोप लगाया और पार्टीजन से उन लोगों का मुकाबला करने को कहा जो जवाहरलाल नेहरू के उदार भारत को कथित रूप से तहस नहस करने पर तुले हैं। देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की 125वीं जयंती की पूर्व […]
उत्तराखंड में छुट्टियां मना रहे हैं राहुल गांधी, ट्विटर पर आई तस्वीरें (फाइल : फोटो)

नई दिल्ली। कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर परोक्ष तौर पर सांप्रदायिकता का जहर फैलाने का आरोप लगाया और पार्टीजन से उन लोगों का मुकाबला करने को कहा जो जवाहरलाल नेहरू के उदार भारत को कथित रूप से तहस नहस करने पर तुले हैं।

देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की 125वीं जयंती की पूर्व संध्या पर राजधानी के तालकटोरा स्टेडियम में आयोजित पार्टी के कार्यक्रम में सोनिया गांधी और राहुल गांधी दोनों ने अपने भाषणों में हालांकि मोदी का नाम नहीं लिया लेकिन उनका संदर्भ स्पष्ट था। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि क्रोधित लोग इन दिनों देश चला रहे हैं। उन्होंने स्वच्छता अभियान को लेकर मोदी पर कटाक्ष किया और कहा कि इस अभियान के नाम पर फोटो खिंचवाए जा रहे हैं। कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि इन दिनों प्यार और भाईचारे की बुनियाद को खत्म किया जा रहा है। एक तरफ घरों की रंगाई हो रही है और सड़कों को साफ किया जा रहा है। फोटो खिंचवाए जा रहे हैं। दूसरी तरफ जहर फैलाया जा रहा है। बुनियाद को ही कमजोर किया जा रहा है।
पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित सहित कई वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में सोनिया ने अपने भाषण में पार्टीजन से एकजुट होने और संगठन को मजबूत बनाने के साथ ही जनता से जुड़ने और उन तत्वों का मुकाबला करने को कहा जो लोग नेहरू के उदार भारत की दृष्टि को तहस नहस करने पर तुले हैं।

सोनिया गांधी ने कहा कि नेहरू जिस तरह से भारत को देखा करते थे उनकी दृष्टि को नष्ट करने का व्यापक प्रयास जारी है। जो ताकतें ऐसा कर रही हैं वे न सिर्फ उनके व्यक्तित्व को बल्कि उनकी विचारधारा, उनकी दृष्टि और उनके जीवन भर के योगदान व संघर्ष को निशाना बना रही हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि अगर नेहरू जिंदा होते तो वे निश्चित रूप से सभी कांग्रेसजन से भारत की आत्मा की रक्षा के लिए बहादुर सेक्युलर सिपाही बन कर हर तरह की सांप्रदायिकता से लड़ने के लिए कहते। लोकसभा चुनाव में हार के बाद सत्ता से बाहर हुई कांग्रेस जवाहरलाल नेहरू की 125वीं जयंती के सहारे सभी गैर राजग दलों को एक मंच पर इकट्ठा करने का प्रयास कर रही है।

पार्टी ने 17 और 18 नवंबर को एक अंतरराष्ट्रीय समारोह आयोजित किया है जिसके लिए उसने मोदी को आमंत्रित नहीं किया है। सोनिया ने व्यक्तिगत रूप से नीतीश कुमार और ममता बनर्जी सहित कई दूसरे नेताओं को निमंत्रण भेजे हैं। राहुल गांधी ने, जो अक्सर नफरत की राजनीति बनाम प्यार की राजनीति की बात किया करते हैं, उन्होंने कहा कि वर्तमान व्यवस्था का मुकाबला सिर्फ कांग्रेस ही कर सकती है।

लोकसभा चुनाव के दौरान पार्टी का चेहरा रहे राहुल ने अपनी पार्टी की गलतियों को भी स्वीकार किया। उन्होंने कहा कि मैं यह नहीं कह रहा कि कांग्रेस ने गलतियां नहीं की हैं। हमने निश्चित रूप से गलतियां कीं लेकिन हमारी विचारधारा में कोई खोट नहीं है। कांग्रेस प्यार और भाईचारे वाला संगठन है।
कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा-आज गुस्से वाले लोग देश चला रहे हैं। वे कहते हैं अंग्रेजी से दूर रहो। हमें सिर्फ हिंदी में काम करना चाहिए। अगर हमने आजादी के बाद ऐसा कर लिया होता तो हमारे युवा आइआइटी, आइआइएम और विदेशी मुल्कों में जाने में सक्षम नहीं हो पाते। मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए राहुल ने कहा कि बड़े-बड़े वादे किए गए और दावा किया गया था कि यह होगा और वह होगा। लेकिन अब तक ऐसा कुछ नहीं हुआ है। सिर्फ फोटो खिंचवाने के काम हो रहे हैं। मुझे पूरा भरोसा है कि यह कांग्रेस पार्टी ही है जो एक बार फिर देश का नेतृत्व करेगी।

सरकार के स्वच्छता अभियान पर कांग्रेस का कटाक्ष सरकार की उस योजना की पृष्ठभूमि में है, जिसमें सरकार ने नेहरू की 125वीं जयंती को बाल स्वच्छता वर्ष के रूप में मनाने की योजना बनाई है। सोनिया गांधी ने कांग्रेसजन को याद दिलाया कि कांग्रेस का इतिहास 129 साल पुराना है और यह हमेशा जीवंत बना हुआ है। उन्होंने कहा कि इस अवधि के दौरान हर तरह की कठिनाइयां आईं, लेकिन हमने उसे सहा। हमने अनेक तूफानों का सामना किया और हर संकट ने हमें नई ताकत दी। यह सब इसलिए क्योंकि हमने अपने नेताओं से सीखा है कि चुनौतियों का मुकाबला कैसे करना है।

देश के पहले प्रधानमंत्री को श्रद्धांजलि देते हुए कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि पूरा विश्व देश के सार्वजनिक जीवन में नेहरू के अतुलनीय स्थान से वाकिफ है। राष्ट्र निर्माण में नेहरू के योगदान का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि उन्होंने वैज्ञानिक संस्थानों की स्थापना की, जिसके बिना आज का मंगल मिशन संभव नहीं था। समारोह के दौरान दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं को धर्मनिरपेक्षता, बहुलतावाद और प्रगतिशीलता के नेहरू के आदर्शों के प्रति अडिग रहने की शपथ दिलाई। आज का यह कार्यक्रम नेहरू जयंती के अवसर पर कांग्रेस पार्टी की ओर से देशभर में साल भर तक आयोजित किए जाने वाले कार्यक्रमों की शुरुआत है।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. V
    vinayswarup swarup
    Nov 14, 2014 at 10:01 am
    राहुल गांधी को छोटे बच्चों जैसी हरकते बंद कर देनी चाहिए.कांग्रेस कहीं उनके मोदी की आलोचना के कारन लुप्त न होना पारद जाए.कुछ दिन बाद ,कांग्रेस हिस्ट्री बन जायेगी.नेहरू,इंदिरा को लोग याद करेंगे,परन्तु राहुल और उनकी माँ सोनिआ को भारत के बचे न तो किताब में पढ़ेंगे,न उनके बारे में किसी से पूंछेंगे.इसलिए राहुल जी से कहना चाहूंगा,जिस तरफ हवा का रुखा है बाह जाना चाहिए.
    (0)(0)
    Reply