scorecardresearch

उदयपुरः जनता से कनेक्शन टूटा, राहुल बोले- मेहनत से बनेगा रास्ता, भारत जोड़ो यात्रा पर सोनिया ने ऐसे किया मोटिवेट

राहुल गांधी ने चिंतन शिविर में कहा कि पार्टी में सभी को अधिकार दिए गए हैं। कांग्रेस के डीएनए में है कि हम हर धर्म, हर जाति के लिए उपलब्ध हैं। हिंदू, मुस्लिम, सिक्ख ईसाई, देश की हर जनता के बीच हैं और बातचीत कर रहे हैं।

rahul gandhi| chintan shivir| congress
चिंतन शिविर को संबोधित करते राहुल गांधी (Photo Source- ANI)

राजस्थान के उदयपुर में चल रहे कांग्रेस पार्टी के चिंतन शिविर के तीसरे दिन राहुल गांधी ने भारतीय जनता पार्टी पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने बीजेपी को हिंदुस्तान के युवाओं का भविष्य नष्ट करने के लिए जिम्मेदार ठहराया। इसके साथ ही राहुल ने कांग्रेस के नेताओं और कार्यकर्ताओं को जनता के साथ जो कनेक्शन बनाने की सलाह दी। वहीं, सोनिया गांधी ने कहा कि हम 2 अक्टूबर से गांधी जयंती के दिन ‘राष्ट्रीय कन्याकुमारी टू कश्मीर भारत जोड़ों यात्रा’ शुरू करेंगे।

तीन-दिवसीय नव संकल्प शिविर के आखिरी दिन अपने संबोधन में पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि सरकार ने हिंदुस्तान के युवाओं के भविष्य को नष्ट कर दिया है। एक तरफ बेरोजगारी दूसरी तरफ महंगाई, यूक्रेन में युद्ध हुआ है आने वाले समय में मुद्रा स्फ़ीति पर इसका असर पड़ेगा। उन्होंने आगे कहा, “कांग्रेस पार्टी ने निर्णय लिया है कि अक्टूबर महीने में पूरी कांग्रेस पार्टी जनता के बीच जाएगी और यात्रा करेगी। जनता के साथ जो रिश्ता कांग्रेस का था उसे फिर से पूरा करेगी। ये शॉर्टकट से नहीं होने वाला है और ये काम पसीना बहाकर ही किया जा सकता है।”

जनता के बीच बैठना चाहिए: राहुल गांधी ने कांग्रेस के नेताओं और कार्यकर्ताओं से कहा कि हमें बिना सोचे जनता के बीच जाकर बैठ जाना चाहिए जो उनकी समस्या है उसे समझना चाहिए, हमारा जनता के साथ जो कनेक्शन था उस कनेक्शन को फिर से बनाना पड़ेगा। राहुल ने कहा कि हम जनता से पैदा हुए हैं, जनता जानती है कि कांग्रेस पार्टी ही देश को आगे ले जा सकती है।

लोगों से टूट गया है संबंध: कांग्रेस नेता ने कहा, “हमें लोगों के साथ अपने संबंध को पुनर्जीवित करना होगा और यह स्वीकार करना होगा कि यह टूट गया था। हम इसे मजबूत करेंगे, यह किसी शॉर्टकट से नहीं होगा, इसके लिए कड़ी मेहनत की जरूरत है।” कांग्रेस के नव संकल्प शिविर में राहुल ने कहा कि इस देश का कौन सा राजनीतिक दल इस तरह की बातचीत की अनुमति देगा? निश्चित तौर पर बीजेपी और आरएसएस ऐसा कभी नहीं होने देंगे।

उन्होंने कहा कि भारत राज्यों का एक संघ है, भारत के लोग संघ बनाने के लिए एक साथ आते हैं। राहुल ने कहा कि वरिष्ठ नेताओं ने हमें दिशा दिखाई और स्पष्ट बताया है कि कांग्रेस पार्टी को नीति, सोच, राजनीतिक स्थिति के मामले में कहां जाना है। इसके साथ ही उन्होंने पार्टी में युवाओं को अवसर देने पर ज़ोर दिया। राहुल गांधी ने कहा कि मेरी लड़ाई RSS व BJP की विचारधारा से है, जो हिंसा और नफरत ये फैलाते हैं उसके खिलाफ है, ये मेरी जिंदगी की लड़ाई है। उन्होंने कहा, “मैं मानने को तैयार नहीं हूं कि हमारे देश में इतनी नफरत फैल सकती है। हमारे खिलाफ बड़ी शक्तियां है, मैं इन शक्तियों से नहीं डरता हूं।”

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने नव संकल्प शिविर के आखिरी दिन कहा कि हम 2 अक्टूबर से गांधी जयंती के दिन ‘राष्ट्रीय कन्याकुमारी टू कश्मीर भारत जोड़ों यात्रा’ शुरू करेंगे। सभी युवा और सभी नेता यात्रा में शामिल होंगे। उन्होंने कहा, “हमें मेरे जैसे वरिष्ठों को आसानी से पार्टी में समायोजित करने का एक तरीका खोजना होगा। हम जीतेंगे, यही हमारा संकल्प है, यही हमारा नव संकल्प है।”

चिंतन शिविर के आखिरी दिन लिए बड़े फैसले: कांग्रेस के चिंतन शिविर के आखिरी दिन ‘एक परिवार, एक टिकट’ की व्यवस्था को मंजूरी देने के साथ ही कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) ने अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) और अल्पसंख्यकों का संगठन में प्रतिनिधित्व बढ़ाकर 50 प्रतिशत करने को भी स्वीकृति प्रदान की है। पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने चिंतन शिविर से पहले राजनीति, सामाजिक न्याय एवं सशक्तीकरण, अर्थव्यवस्था, संगठन, किसान एवं कृषि तथा युवा और सशक्तीकरण से संबंधित समन्वय समितियां गठित की थीं। इन समितियों की अलग-अलग बैठकों में 400 से अधिक नेताओं ने पिछले दो दिन में गहन मंथन किया और पार्टी के संगठन में सुधार तथा कई अन्य विषयों पर सुझाव दिए।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.