scorecardresearch

Rahat Indori Death News HIGHLIGHTS: राहत इंदैरी ने बतौर साइनबोर्ड पेंटर से की थी करियर की शुरुआत, इन फिल्मों के लिए लिखे हिट गाने

Rahat Indori Death News: श्री अरबिंदो इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (सैम्स) ने बीती रात जारी बयान में कहा, ‘इंदौरी को मंगलवार दोपहर एक बजे दिल का दौरा पड़ा था। इससे उन्हें बचा लिया गया था। लेकिन इसके दो घण्टे बाद ही उन्हें फिर से दिल का दौरा पड़ा और शाम पांच बजे उनका निधन हो गया।’

rahat indori, rahat indori news, rahat indori death news
जाने-माने शायर राहत इंदौरी। (फाइल फोटो)
मशहूर शायर राहत इंदौरी का इंतकाल हो गया है। वह 70 साल के थे। दिल का दौरा पड़ने की वजह से इंदौर के एक अस्पताल में उन्होंने मंगलवार की शाम लगभग 5 बजे आखिरी सांस ली। मंगलवार (11 अगस्त) को ही रात में करीब 10.30 बजे उन्हें इंदौर में सुपुर्दे-खाक कर दिया गया। वायरस संक्रमण की चपेट में आने के बाद से वो इंदौर के श्री अरबिंदो इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (सैम्स) में इलाजरत थे।

राहत इंदौरी ने शायरी के साथ-साथ फिल्म जगत के लिए गाने भी लिखे। राहत की कलम से निकले ये गीत लोगों ने खूब गुनगुनाए। फिल्म इश्क, तमन्ना, जुर्म और मुन्ना भाई एमबीबीएस जैसी फिल्मों के लिए राहत इंदौरी ने छन्न छन्न, तुमसा कोई प्यारा, मेरी चाहतों का समंदर तो देखो, नींद चुराई मेरी किसने ओ सनम जैसे गाने लिखे जो काफी लोकप्रिय हुए।

साइनबोर्ड पेंटर से करियर की शुरुआत करने वाले राहत इंदौरी उर्दू के प्रोफेसर भी रहे। बाद में उन्होंने शेरो-शायरी में हाथ आजमाया और काफी सफल रहे। उनकी शायरी के बढ़ते प्रभाव ने उन्हें बॉलीवुड तक खींच लाया। उन्होंने एक से बढ़कर एक बेहतरीन फिल्मी गाने लिखे हैं। फिल्म खुद्दार का गीत तुमसे कोई प्यारा, कोई मासूम नहीं है, काफी लोकप्रिय हुआ था।

राहत इंदौरी को हमेशा जिंंदा रखेंगे उनके शेर: मैं जब मर जाऊं, मेरी अलग पहचान लिख देना, लहू से मेरी पेशानी पे हिंंदुस्‍तान लिख देना…

रविवार (9 अगस्त) की रात खांसी, बुखार और घबराहट होने पर राहत इंदौरी को सीएचएल अस्पताल लाया गया था। जांच में उन्हें निमोनिया से ग्रस्त पाया गया था, तब डॉक्टरों ने भर्ती होने की सलाह दी थी। बाद में उन्हें कोविड हॉस्पिटल अरबिंदो में भर्ती किया गया। देर रात कोरोना की पुष्टि हुई। अरबिंदो मेडिकल कॉलेज के चेयरमैन डॉ. विनोद भंडारी के मुताबिक, जब इंदौरी अस्पताल में भर्ती हुए थे तब शुगर बढ़ी हुई थी। हालांकि, मंगलवार सुबह तक सेहत में सुधार होने लगा था लेकिन अचानक दोपहर में उन्हें हार्ट अटैक आया। सीपीआर देने पर कुछ सुधार हुआ। दो घंटे बाद दूसरा अटैक आ गया और उन्हें बचाया नहीं जा सका।

Coronavirus Live Updates

बेटे सतलज ने राहत इंदौरी साहब का आखिरी शेर मीडिया से साझा किया है। वो इस प्रकार है-

नए सफ़र का जो ऐलान भी नहीं होता,
तो ज़िंदा रहने का अरमान भी नहीं होता/

तमाम फूल वही लोग तोड़ लेते हैं,
जिनके कमरों में गुलदान भी नहीं होता/

ख़ामोशी ओढ़ के सोई हैं मस्ज़िदें सारी,
किसी की मौत का ऐलान भी नहीं होता/

वबा ने काश हमें भी बुला लिया होता
तो हम पर मौत का अहसान भी नहीं होता…

कभी साइन बोर्ड पेंटर थे राहत इंदौरी, हालात से लड़ पाया शायरी में मुकाम; अब रुखसत पर गम में डूबे फैंस

Live Blog

05:22 (IST)13 Aug 2020
जब शख्स ने राहत इंदौरी को कहा ‘जिहादी’, रात भर सो नहीं पाए थे

पिछले साल जब साहित्य आजतक के मंच पर राहत इंदौरी की जीवनी का लोकार्पण हो रहा था तो उन्होंने एक किस्सा साझा किया था। उन्होंने कहा, ‘एक दिन एक साहब ने उन्हें कहा कि राहत इंदौरी एक ‘जिहादी’ है। यह सुनकर वे काफी परेशान हो गए थे और पूरी रात करवटें बदलते रहे और सोचते रहे कि उन्हें ऐसा क्यों कहा गया।’ उन्होंने कहा कि ‘मैं सारी रात बिस्तर पर अपना जायज़ा लेता रहा। रुआ-रुआ नापता रहा कि मैं कहां से जिहादी हूं? सुबह तक उन्हें कोई जवाब नहीं मिला। तभी उन्हें अज़ान सुनाई दी। उन्होंने उस तरफ इशारा किया और कहा तू ही बता दे क्या हूं मैं जिहादी?। पता चला जिहादी तो नहीं हूं लेकिन कुछ अलग जरूर हूँ’।

03:45 (IST)13 Aug 2020
खुद्दार फिल्म में कई गाने लिखे थे राहत इंदौरी ने

साल 1994 में गोविंदा और करिश्मा कपूर स्टारर फिल्म खुद्दार रिलीज हुई थी। इसी फिल्म में राहत इंदौरी ने गाना लिखा था- तुमसा कोई प्यारा कोई मासूम नहीं है..। गोविंदा और करिश्मा पर फिल्माया ये गाना काफी लोकप्रिया हुआ था। गीत राहत इंदौरी ने लिखे थे।

02:25 (IST)13 Aug 2020
दर्जनों फिल्मों के लिए गीत लिखे

राहत इंदौरी ने बॉलीवुड के दर्जनों फिल्मों के लिए चर्चित गीत लिखे थे। इसमें घातक फिल्म की कोई जाए तो ले आए, इश्क फिल्म की नींद चुराई मेरी तुमने वो सनम और मुन्नाभाई एमबीबीएस के एम बोले तो मुन्ना भाई एमबीबीएस जैसे लोकप्रिय गीत शामिल हैं।

00:38 (IST)13 Aug 2020
राहत इंदौरी ने दो शादियां की थीं

राहत इंदौरी (राहत कुरैशी) ने दो शादियां की थी। पहली शादी 27 मई 1986 को सीमा रहत से हुई थी। इनसे एक बेटी शिबिल और 2 बेटे जिनका नाम फैज़ल और सतलज राहत हुए। इसके बाद राहत इंदौरी ने साल 1988 में दूसरी शादी अंजुम रहबर से की । अंजुम से उनको एक पुत्र हुआ, कुछ सालों के बाद इन दोनों में तलाक हो गया था।

21:44 (IST)12 Aug 2020
कई अन्य बीमारियों से ग्रसित थे राहत इंदौरी

इंदौर के डीएम मनीष सिंह ने बताया कि  “कोविड-19 से संक्रमित इंदौरी का अरबिंदो इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (सैम्स) में इलाज के दौरान निधन हो गया।” उन्होंने बताया कि इंदौरी हृदय रोग, किडनी रोग और मधुमेह सरीखी पुरानी बीमारियों से पहले से ही पीड़ित थे।

18:59 (IST)12 Aug 2020
खाना बनाने के शौकीन थे राहत इंदौरी

राहत इंदौरी की पत्नी सीमा राहत ने बताया कि वो शायरी के साथ-साथ खाना भी पहुत अच्छा पकाते थे। बतौर सीमा राहत इंदौरी साहब अकसर किचेन चले जाया करते थे और कुछ बनाया करते थे। उन्हें गोश्त बनाने का बहुत शौक था। सीमा ने नम आंखों से उन्हें याद करते हुए कहा कि उनके साथ जिंदगी में कई सफर किए। सभा सफर यादगार रहा। पांच बार उमराह कर चुकी हूं। उन्होंने कहा कि शायर की बीवी होना फख्ऱ की बात है। 

18:05 (IST)12 Aug 2020
…जब कपिल शर्मा शो में कुमार विश्वास से बोले राहत इंदौरी, ‘तुम्हारे 20 लतीफों पर मेरा एक शेर भारी है’

राहत इंदौरी संजीदा शेर के साथ-साथ हंसी मजाक भी खूब करते थे। एक बार कपिल शर्मा शो में कुमार विश्वास के साथ राहत इंदौरी ने भी शिरकत की थी। कुमार विश्वास इस दौरान एक के बाद एक लतीफे सुना रहे थे जिसके बाद राहत ने एक शेर सुनाया और खूब तालियां बजी। इस पर कुमार विश्वास से राहत इंदौरी बोले तुम्हारे 20 लतीफों पर मेरा एक शेर भारी है।

 
17:14 (IST)12 Aug 2020
‘मैं दो कौड़ी के लोगों का नाम नहीं लेता’, अटल बिहारी वाजपेयी पर पुराना वीडियो शेयर कर राहत इंदौरी को अपशब्द कह रहे लोग

सोशल मीडिया में एक बेहद पुराना वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें राहत इंदौरी दिवंगत प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के घुटनों के ऑपरेशन पर मजाक उड़ाते हुए शायरी कर रहे हैं। इस वीडियो को शेयर करते हुए कई सोशल मीडिया यूजर्स दिवंगत शायर को ट्रोल कर रहे हैं। पढ़िए पूरी खबर….

16:10 (IST)12 Aug 2020
राहत इंदौरी ने लिखे थे बॉलीवुड के ये मशहूर गाने

राहत इंदौरी ने शायरी के साथ-साथ फिल्म जगत के लिए गाने भी लिखे। राहत की कलम से निकले ये गीत लोगों ने खूब गुनगुनाए। फिल्म इश्क, तमन्ना, जुर्म और मुन्ना भाई एमबीबीएस जैसी फिल्मों के लिए राहत इंदौरी ने छन्न छन्न, तुमसा कोई प्यारा, मेरी चाहतों का समंदर तो देखो, नींद चुराई मेरी किसने ओ सनम जैसे गाने लिखे जो काफी लोकप्रिय हुए।

13:54 (IST)12 Aug 2020
राहत इंदौरी का वो शेर जो NRC-CAA के विरोध का नारा बन गया

राहत इंदौरी ने इश्क और इंकलाब दोनों के शेर लिखे। राहत इंदौरी ने CAA-NRC के मुद्दे पर अपनी राय रखते हुए कहा था कि यह देश किसी व्यक्ति विशेष, पार्टी या धर्म की संपत्ति नहीं है। राहत इंदौरी ने एक शेर लिखा था।

‘लगेगी आग तो आएंगे घर कई ज़द में
यहां पे सिर्फ़ हमारा मकान थोड़ी है,
जो आज साहिबे मसनद हैं कल नहीं होंगे
किराएदार हैं, ज़ाती मकान थोड़ी है,
सभी का ख़ून है शामिल यहां की मिट्टी में
किसी के बाप का हिन्दोस्तान थोड़ी है!

राहत इंदौरी की यह पंक्तियां सीएए और एनआरसी के विरोध प्रदर्शनों का नारा बनी और सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन में इसे खूब गाया गया।

12:29 (IST)12 Aug 2020
राहत इंदौरी के मशहूर गीत

साइनबोर्ड पेंटर से करियर की शुरुआत करने वाले राहत इंदौरी उर्दू के प्रोफेसर भी रहे। बाद में वे शेरो-शायरी करने लगे। उनकी शायरी के बढ़ते प्रभाव ने उन्हें बॉलीवुड तक खींच लाया। उन्होंने एक से बढ़कर एक बेहतरीन फिल्मी गाने लिखे हैं। फिल्म खुद्दार का गीत तुमसे कोई प्यारा, कोई मासूम नहीं है, काफी लोकप्रिय हुआ था। उनकी कुछ मशहूर फिल्मी गीतों के बोल इस प्रकार हैं-
एम बोले तो मास्टर मैं मास्टर (फ़िल्म- मुन्नाभाई एमबीबीएस)
बुम्बरो बुम्बरो श्याम रंग बुम्बरो (फ़िल्म- मिशन कश्मीर
देखो-देखो जानम हम, दिल अपना तेरे लिए लाए (फ़िल्म-इश्क़)
नींद चुराई मेरी किसने ओ सनम तूने (फ़िल्म- इश्क़)

11:53 (IST)12 Aug 2020
शायरी का अलग अंदाज़-ए-बयां था राहत इंदौरी का

राहत इंदौरी साहब का शेर कहने का तरीका बेहद निराला था, वो युवाओंसे लेकर बुजुर्गों तक की महफिल की शान हुआ करते थे। उनकी आवाज इतनी बुलंद थी कि मंच पर आते ही लोगों को खामोश कर देते। जब वो शेर पढ़ते तो अक्सर आसामां की तरफ देखते, जैसे मानो वह अवाम से ही नहीं बल्कि खुदा से भी बातें कर रहे हों। वो अक्सर अपनी शायरी से सत्ता को ललकारते रहे हैं।

11:10 (IST)12 Aug 2020
फेफड़ों में 60 फीसदी तक था संक्रमण

राहत इंदौरी के दोनों फेफड़ों में 60 प्रतिशत तक निमोनिया हुआ था। इसलिए उन्हें कृत्रिम श्वसन प्रणाली पर रखा गया था। उन्हें उच्च स्तर की एंटीबायोटिक एवं नवीनतम एंटीवायरल दवाएं भी दी गई थीं। अस्पताल प्रशासन ने बयान में बताया कि इंदौरी, मधुमेह और उच्च रक्तचाप के साथ हृदय एवं किडनी के पुराने रोगों से पहले ही जूझ रहे थे। वह सोमवार शाम आई रिपोर्ट में कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए थे।

10:27 (IST)12 Aug 2020
कुमार ने बताया वो किस्सा, जब इंदौरी साहब ने फरमाया था- ‘मेरी पेशानी पर हिन्दुस्तान लिख देना’

राहत को याद करते हुए कवि कुमार विश्वास ने भी एक किस्सा शेयर किया। उनके साथ मंच साझा करने वाले कुमार विश्वास ने बताया कि बहरीन की एक महफिल में हिंदुस्तान और पाकिस्तान के श्रोता साथ में थे। तभी राहत ने एक शेर पढ़ा। उन्होंने कहा ‘मैं जब मर जाऊं तो मेरी अलग पहचान लिख देना, लहू से मेरी पेशानी पे हिंदुस्तान लिख देना।’

09:41 (IST)12 Aug 2020
खाना बहुत अच्छा बनाते थे राहत इंदौरी

राहत इंदौरी की पत्नी सीमा राहत ने बताया कि वो शायरी के साथ-साथ खाना भी पहुत अच्छा पकाते थे। बतौर सीमा राहत इंदौरी साहब अकसर किचेन चले जाया करते थे और कुछ बनाया करते थे। उन्हें गोश्त बनाने का बहुत शौक था। सीमा ने नम आंखों से उन्हें याद करते हुए कहा कि उनके साथ जिंदगी में कई सफर किए। सभी सफर यादगार रहा। पांच बार उमराह कर चुकी हूं। उन्होंने कहा कि शायर की बीवी होना फख़्र की बात है।

08:39 (IST)12 Aug 2020
राहत इंदौरी साहब का आखिरी शेर बेटे ने किया साझा

बेटे सतलज ने राहत इंदौरी साहब का आखिरी शेर मीडिया से साझा किया है। वो इस प्रकार है-

नए सफ़र का जो ऐलान भी नहीं होता,

तो ज़िंदा रहने का अरमान भी नहीं होता/

तमाम फूल वही लोग तोड़ लेते हैं,

जिनके कमरों में गुलदान भी नहीं होता/

ख़ामोशी ओढ़ के सोई हैं मस्ज़िदें सारी,

किसी की मौत का ऐलान भी नहीं होता/

वबा ने काश हमें भी बुला लिया होता

तो हम पर मौत का अहसान भी नहीं होता…

07:53 (IST)12 Aug 2020
रविवार को ही भर्ती हुए थे इंदौरी

रविवार (9 अगस्त) की रात खांसी, बुखार और घबराहट होने पर राहत इंदौरी को सीएचएल अस्पताल लाया गया था। जांच में उन्हें निमोनिया से ग्रस्त पाया गया था, तब डॉक्टरों ने भर्ती होने की सलाह दी थी। बाद में उन्हें कोविड हॉस्पिटल अरबिंदो में भर्ती किया गया। देर रात कोरोना की पुष्टि हुई। अरबिंदो मेडिकल कॉलेज के चेयरमैन डॉ. विनोद भंडारी के मुताबिक, जब इंदौरी अस्पताल में भर्ती हुए थे तब शुगर बढ़ी हुई थी। हालांकि, मंगलवार सुबह तक सेहत में सुधार होने लगा था लेकिन अचानक दोपहर में उन्हें हार्ट अटैक आया। सीपीआर देने पर कुछ सुधार हुआ। दो घंटे बाद दूसरा अटैक आ गया और उन्हें बचाया नहीं जा सका।

07:22 (IST)12 Aug 2020
छोटी खजरानी कब्रिस्तान में दफनाए गए राहत इंदौरी

जाने-माने उर्दू शायर डॉक्टर राहत इंदौरी मंगलवार (11 अगस्त, 2020) रात साढ़े नौ बजे छोटी खजरानी (इंदौर) कब्रिस्तान में सुपुर्द-ए-खाक कर दिए गए। इंदौरी ने मंगलवार शाम पांच बजे अंतिम सांस ली थी। उन्हें कोरोना वायरस भी था। मध्य प्रदेश के इंदौर स्थित एक अस्पताल में वह भर्ती थे। उन्हें दो बार दिल का दौरा पड़ा था, लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका। अस्पताल के डॉक्टर विनोद भंडारी ने बताया, “राहत इंदौरी को दो दिल के दौरे पड़े थे, पर हम उन्हें नहीं बचा सके। उन्हें कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद रविवार को अस्पताल लाया गया था। उन्हें 60 फीसदी निमोनिया भी था।

07:04 (IST)12 Aug 2020
फिल्मों में लिखे राहत इंदौरी के गीत

Image may contain: text that says "हमने हर किस्सा (फ़िल्म- तुमसा कोई प्यारा कोई मासूम नहीं है (फ़िल्म- खुद्दार) तुम मानो या न मानो, पर प्यार इंसां की जरूरत है (फ़िल्म- खुद्दार) रात क्या मांगे एक सितारा (फ़िल्म- खुद्दार) को बार रोका रोका (फ़िल्म- मर्डर) बोले तो मास्टर मैं (फ़िल्म- मुन्नाभाई एमबीबीएस) बुम्बरो बुम्बरो श्याम रंग बुम्बरो (फ़िल्म- मिशन कश्मीर) -चोरी-चोरी जब नजरें मिलीं, चोरी चोरी फिर नींदें उड़ीं (फ़िल्म- करीब) देखो-देखो दिल तेरे लिए लाए (फ़िल्म- इश्क़) नींद चुराई मेरी ओ सनम तूने (फ़िल्म- इश्क़) -कोई जाए तो ले आए मेरी लाख पाए (फ़िल्म- घातक)"

06:22 (IST)12 Aug 2020
नीतीश ने राहत इंदौरी के निधन पर शोक जताया

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उर्दू के मशहूर शायर राहत इंदौरी के निधन पर गहरा शोक जताया है। मुख्यमंत्री ने अपने शोक संदेश में कहा कि इंदौरी एक मशहूर शायर के साथ ही बेहतरीन शख्सियत थे। अपनी शायरी और नज्म की बदौलत वह प्रशंसकों के दिलों पर राज करते थे। उन्होंने हिन्दी फिल्मों के लिये भी कई गीत लिखे थे। उनके निधन से साहित्य और उर्दू शायरी के क्षेत्र में अपूरणीय क्षति हुयी है।

06:22 (IST)12 Aug 2020
राहत इंदौरी का निधन मध्यप्रदेश और देश के लिए अपूरणीय क्षति है : चौहान

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को मशहूर शायर राहत इंदौरी के निधन पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि यह मध्यप्रदेश और देश के लिए अपूरणीय क्षति है। चौहान ने ट्वीट किया, ‘‘अपनी शायरी से लाखों-करोड़ों दिलों पर राज करने वाले मशहूर शायर, हरदिल अज़ीज़ श्री राहत इंदौरी का निधन मध्यप्रदेश और देश के लिए अपूरणीय क्षति है।’’

06:22 (IST)12 Aug 2020
राहत इंदौरी का निधन मध्यप्रदेश और देश के लिए अपूरणीय क्षति है : चौहान

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को मशहूर शायर राहत इंदौरी के निधन पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि यह मध्यप्रदेश और देश के लिए अपूरणीय क्षति है। चौहान ने ट्वीट किया, ‘‘अपनी शायरी से लाखों-करोड़ों दिलों पर राज करने वाले मशहूर शायर, हरदिल अज़ीज़ श्री राहत इंदौरी का निधन मध्यप्रदेश और देश के लिए अपूरणीय क्षति है।’’

06:22 (IST)12 Aug 2020
राहत इंदौरी का निधन मध्यप्रदेश और देश के लिए अपूरणीय क्षति है : चौहान

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को मशहूर शायर राहत इंदौरी के निधन पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि यह मध्यप्रदेश और देश के लिए अपूरणीय क्षति है। चौहान ने ट्वीट किया, ‘‘अपनी शायरी से लाखों-करोड़ों दिलों पर राज करने वाले मशहूर शायर, हरदिल अज़ीज़ श्री राहत इंदौरी का निधन मध्यप्रदेश और देश के लिए अपूरणीय क्षति है।’’

06:00 (IST)12 Aug 2020
इंदौरी साहब का यूं चला जाना उर्दू शायरी के लिए बहुत बड़ा नुकसान : गहलोत

राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, विधानसभा अध्यक्ष सी पी जोशी व पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने दिलअजीज शायर राहत इंदौरी के निधन पर शोक जताते हुए इसे उर्दू शायरी के लिए बड़ा नुकसान बताया है।

01:59 (IST)12 Aug 2020
राहत साहब के जाने पर चौतरफा दुख

मशहूर शायर राहत इंदौरी के जाने से मुशायरे की शान फीकी पड़ गई। देश के कवियों, लेखकों, साहित्यकारों ने जाने-माने शायर राहत इंदौरी के निधन पर दुख जताया है।

23:03 (IST)11 Aug 2020
तूफ़ानों से आँख मिलाओ, सैलाबों पर वार करो

राहत इंदौरी साहब शब्दों से उत्साह बढ़ाने में हमेशा आगे रहे हैं। उनके शब्द ‘तूफ़ानों से आँख मिलाओ, सैलाबों पर वार करो
मल्लाहों का चक्कर छोड़ो, तैर के दरिया पार करो’, कई बार मुशायरों में पढ़े गए।

22:29 (IST)11 Aug 2020
तब साइन बोर्ड पेंटिंग के जरिये चल रहा था इंदौरी साहब का जीवन

कोरोना वायरस संक्रमण से मंगलवार को राहत इंदौरी का निधन होने के बाद अदब की मंचीय दुनिया ने वह नामचीन दस्तखत खो दिया है जिनका काव्य पाठ सुनने के लिये दुनिया भर के मुशायरों और कवि सम्मेलनों में लोग बड़ी तादाद में उमड़ पड़ते थे। हालांकि, यह बात कम ही लोग जानते होंगे कि एक जमाने में वह पेशेवर तौर पर साइन बोर्ड पेंटर थे।

इंदौरी के परिवार के करीबी सैयद वाहिद अली ने “पीटीआई-भाषा” को बताया, “शहर के मालवा मिल इलाके में करीब 50 साल पहले उनकी पेंटिंग की दुकान थी। उस वक्त वह साइन बोर्ड पेंटिंग के जरिये आजीविका कमाते थे।” अली ने बताया कि उर्दू में ऊंची तालीम लेने के बाद इंदौरी एक स्थानीय कॉलेज में इस जुबान के प्रोफेसर बन गये थे। लेकिन बाद में उन्होंने यह नौकरी छोड़ दी और वह अपना पूरा वक्त शायरी और मंचीय काव्य पाठ को देने लगे थे।

22:04 (IST)11 Aug 2020
बता इंतजाम क्या है?…


गुलाब, ख्वाब,
दवा, जहर, जाम
क्या-क्या है
मैं आ गया हूं,
बता इंतजाम
क्या क्या है

21:37 (IST)11 Aug 2020
मुशायरा लूट लेते थे राहत इंदौरी : गुलज़ार

‘‘उर्दू शायरी में बुलंदियों को छूने वाले राहत इंदौरी का चला जाना बहुत बड़ा ही नहीं बल्कि पूरे का पूरा नुकसान है क्योंकि ज़नाब मुशायरे की जान थे और मुशायरा ही लूट लेते थे।’’ लोगों के ख़यालों और जज़्बातों को शब्दों में बांध कर शायरी के जरिये पेश करने वाले, उर्दू शायरी के अज़ीमोशान फ़नकार राहत इंदौरी के निधन पर उन्हें याद करते हुए यह पंक्तियां प्रख्यात गीतकार और रचनाकार गुलज़ार ने कहीं। राहत इंदौरी का आज मंगलवार को कोविड-19 महामारी के कारण निधन हो गया। इंदौरी के इस दुनिया से चले जाने की खबर पर गुलज़ार ने कहा ‘‘यह केवल बड़ा नुकसान नहीं है बल्कि उससे कहीं ज्यादा है। मुझे नहीं पता कि कितना बड़ा….।’’ गुलज़ार ने कहा ‘‘कोई अभी अभी वह जगह खाली कर गया जो केवल मुशायरे की थी। उर्दू शायरी आज के मुशायरे में राहत इंदौरी के बगैर पूरी नहीं है। एक वही थे जो इतनी बेहतरीन शायरी कहते थे।’’

21:30 (IST)11 Aug 2020
AIMIM चीफ भी थे इंदौरी साहब के फैन, यूं किया याद
21:23 (IST)11 Aug 2020
MP के मुख्यमंत्री शिवराज ने जताया दुख, कहा- ये अपूरणीय क्षति है

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को मशहूर शायर राहत इंदौरी के निधन पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि यह मध्यप्रदेश और देश के लिए अपूरणीय क्षति है। चौहान ने ट्वीट किया, ‘‘अपनी शायरी से लाखों-करोड़ों दिलों पर राज करने वाले मशहूर शायर, हरदिल अज़ीज़ श्री राहत इंदौरी का निधन मध्यप्रदेश और देश के लिए अपूरणीय क्षति है।’’

21:03 (IST)11 Aug 2020
पांच दिन से बेचैनी कर रहे थे महसूस

उन्होंने बताया कि इंदौरी को पिछले पांच दिन से बेचैनी महसूस हो रही थी और डॉक्टरों की सलाह पर जब उनके फेफड़ों का एक्स-रे कराया गया, तो इनमें निमोनिया की पुष्टि हुई थी। बाद में जांच में वह कोरोना वायरस से संक्रमित पाये गये थे।

20:48 (IST)11 Aug 2020
कभी चित्रकार हुआ करते थे राहत इंदौरी

शायरी की दुनिया में कदम रखने से पहले, इंदौरी एक चित्रकार और उर्दू के प्रोफेसर थे। उन्होंने हिन्दी फिल्मों के लिये गीत भी लिखे थे और दुनिया भर के मंचों पर काव्य पाठ किया था।

20:36 (IST)11 Aug 2020
इंदौरी साहब का यूं चला जाना उर्दू शायरी के लिए बहुत बड़ा नुकसान : गहलोत

राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, विधानसभा अध्यक्ष सी पी जोशी व पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने दिलअजीज शायर राहत इंदौरी के निधन पर शोक जताते हुए इसे उर्दू शायरी के लिए बड़ा नुकसान बताया है। इंदौरी का मंगलवार को इंदौर के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। उनका कोरोना वायरस संक्रमण के लिए इलाज चल रहा था। वह 70 वर्ष के थे। राज्यपाल मिश्र ने इंदौरी के निधन पर शोक जताते हुए ट्वीट किया, ‘‘विख्यात उर्दू शायर और गीतकार राहत इंदौरी के निधन से उर्दू गीत एवं शायरी जगत में उत्पन्न निर्वात की भरपाई लंबे समय तक संभव नही होगी।’’ मुख्यमंत्री गहलोत ने अपने शोक संदेश में कहा कि उर्दू अदब में राहत इंदौरी का अपना एक अलग मकाम था। उनका अंदाज-ए-बयां अलग था और उनकी शायरी में बेबाकी थी। देश के मौजूदा हालात को भी वे अपनी शायरी में बड़े खूबसूरत अंदाज में पेश करते थे।

20:33 (IST)11 Aug 2020
राहत साहब ने ली दुनिया से रुखसत, टीम जनसत्ता को उनका आखिरी सलाम!

20:05 (IST)11 Aug 2020
गंभीर हालत में अस्पताल लाया गया था राहत इंदौरी को- डॉक्टर

सैम्स के छाती रोग विभाग के प्रमुख डॉ. रवि डोसी ने बताया, “इंदौरी के दोनों फेफड़ों में निमोनिया था और उन्हें गंभीर हालत में अस्पताल लाया गया था।” उन्होंने बताया, “सांस लेने में तकलीफ के चलते उन्हें आईसीयू में रखा गया था और ऑक्सीजन दी जा रही थी। लेकिन तमाम कोशिशों के बावजूद हम उनकी जान नहीं बचा सके।”

19:37 (IST)11 Aug 2020
चार महीने से अधिक से घर पर ही थे इंदौरी साहब, सिर्फ…

इंदौरी के बेटे और युवा शायर सतलज राहत ने अपने पिता की मौत से पहले मंगलवार सुबह “पीटीआई-भाषा” को बताया था, “कोविड-19 के प्रकोप के कारण मेरे पिता पिछले साढ़े चार महीनों से घर में ही थे। वह केवल अपनी नियमित स्वास्थ्य जांच के लिये घर से बाहर निकल रहे थे।”

19:08 (IST)11 Aug 2020
खुद ट्वीट कर दी कोरोना संक्रमण होने की जानकारी

70 वर्षीय शायर ने मंगलवार सुबह खुद ट्वीट कर अपने संक्रमित होने की जानकारी दी थी। इंदौरी ने अपने ट्वीट में यह भी कहा था, “दुआ कीजिये (मैं) जल्द से जल्द इस बीमारी को हरा दूं।”

18:56 (IST)11 Aug 2020
गंभीर बीमारियों से ग्रसित थे इंदौरी साहब

इंदौर के डीएम मनीष सिंह के हवाले से समाचार एजेंसी “पीटीआई-भाषा” की खबर में कहा गया, “कोविड-19 से संक्रमित इंदौरी का अरबिंदो इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (सैम्स) में इलाज के दौरान निधन हो गया।” उन्होंने बताया कि इंदौरी हृदय रोग, किडनी रोग और मधुमेह सरीखी पुरानी बीमारियों से पहले से ही पीड़ित थे।

18:23 (IST)11 Aug 2020
टि्वटर हैंडल से दी गई निधन की जानकारी

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट