ताज़ा खबर
 

रफाल विवाद: राहुल ने PM मोदी को कहा अंबानी का ‘बिचौलिया’, गोपनीयता कानून के उल्लंघन का लगाया आरोप

ई-मेल का जिक्र करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि अनिल अंबानी ने फ्रांस के रक्षा मंत्री को रफाल विमान सौदे की जानकारी दी। मतलब उन्हें डील के बारे में पहले से पता था। जबकि, इसके बारे में भारत के रक्षा मंत्री, एचएएल और विदेश सचिव को भी जानकारी नहीं थी।

रफाल विवाद: राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी पर लगाया सीक्रेट एक्ट के उल्लंघन का आरोप. कहा- अंबानी को 10 दिन पहले थी डील की जानकारी। (फोटो क्रेडिट/ ANI Twitter Handle)

रफाल विमान सौदे में कथित धांधली के आरोप पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को घेरा है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अनिल अंबानी का बिचौलिया करार दिया है। मंगलवार को नई दिल्ली में आयोजित एक प्रेस-कॉन्फ्रेंस में राहुल गांधी ने एक ई-मेल का जिक्र किया और आरोप लगाए कि अनिल अंबानी को सौदे से संबंधित जानकारियां इसके फाइन होनों के 10 दिन पहले ही पता चल गई थीं। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अनिल अंबानी के लिए ‘मीडिल मैन’ का काम कर रहे थे। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने गोपनीयता की शर्तों का उल्लंघन किया है लिहाजा यह देशद्रोह है और उनके खिलाफ मुकदमा चलाया जाना चाहिए तथा जेल भेजना चाहिए।

ई-मेल का जिक्र करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि अनिल अंबानी ने फ्रांस के रक्षा मंत्री को रफाल विमान सौदे की जानकारी दी। मतलब उन्हें डील के बारे में पहले से पता था। जबकि, इसके बारे में भारत के रक्षा मंत्री, एचएएल और विदेश सचिव को भी जानकारी नहीं थी।

कांग्रेस अध्यक्ष ने रफाल सौदे पर सीएजी (नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक) की रिपोर्ट को लेकर भी पीएम मोदी पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि यह सीएजी नहीं बल्कि ‘चौकीदार ऑडिटर जनरल’ रिपोर्ट है। प्रधानमंत्री सब जानते थे और उन्होंने अनिल अंबानी की मदद की। इसलिए किसी को कोई शक नहीं है कि वह भ्रष्ट हैं। राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री ने डिफेंस सीक्रेट को लेकर देश की सुरक्षा के साथ समझौता किया। उन्होंने पूछा, जिस डील के बारे में न तो रक्षा मंत्री को पता था और न ही दूसरे अधिकारियों को, ऐसे में इसकी जानकारी अनिल अंबानी को कैसे हो गई? राहुल ने कहा कि प्रधानमंत्री विपक्षी नेताओं की भी जांच कराएं लेकिन रफाल की भी जांच कराएं। उन्होंने मामले में जेपीसी गठित करने की मांग उठाई।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App