ताज़ा खबर
 

राफेल मुद्दा: राहुल गांधी बोले- अगले कुछ दिन में बड़े बम गिराने वाला है राफेल

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल मामले को लेकर गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर फिर निशाना साधा और कहा कि यह ''विश्वव्यापी भ्रष्टाचार'' है और ''आने वाले कुछ हफ्तों में राफेल कुछ बड़े बम गिराने वाला है।'

राहुल गांधी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल मामले को लेकर शुक्रवार  को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर फिर निशाना साधा और कहा कि यह ”विश्वव्यापी भ्रष्टाचार” है और ”आने वाले कुछ हफ्तों में राफेल कुछ बड़े बम गिराने वाला है।” गांधी ने एक खबर साझा करते हुए ट्वीट किया, ‘यह विश्वव्यापी भ्रष्टाचार है। यह राफेल विमान वास्तव में दूर तक और तेज तक उड़ता है ! यह आने वाले कुछ हफ्तों में कुछ बड़े बंकर भेदी बम भी गिराने वाला है।’ उन्होंने कहा, मोदी जी कृपया अनिल (अंबानी) को बताएं कि फ्रांस में एक बड़ी समस्या है। गांधी ने जिस खबर को शेयर किया है उसमें कहा गया है कि जब राफेल को लेकर दोनों देशों के बीच बातचीत चल रही थी तब अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस एंटरनमेंट ने तत्कालीन फ्रांसीसी राष्ट्रपति फ्रांस्वा अलोंद की पार्टनर को फिल्म निर्माण में सहयोग किया था। राहुल गांधी का कहना है कि आखिरकार क्या वजह रही है कि मोदी जी जनता के समक्ष राफेल मुद्दे की सच्चाई उजागर नहीं कर रहे हैं।

राहुल गांधी ने गुरुवार को अपने ट्विटर अकाउंट पर अरुण जेटली पर भी निशाना साधा था।  कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरुवार को केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली को याद दिलाते हुए कहा कि राफेल विमान सौदे की जांच के लिए संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) के गठन में छह घंटे से भी कम का समय रह गया है। बता दें कि कांग्रेस प्रमुख ने बुधवार को जेटली पर तब निशाना साधा, जब उन्होंने अपने एक ब्लॉगपोस्ट में राफेल सौदे पर कांग्रेस के आरोपों को ‘पूरी तरह से झूठ’ बताया था। इस पर राहुल ने कहा था कि ‘ग्रेट राफेल रॉबरी’ की जांच के लिए केंद्र जेपीसी का गठन करे। उन्होंने जेटली को चौबीस घंटे में इस मुद्दे को देखकर इसका जवाब देने (चेक एंड रिवर्ट) को कहा था। राहुल ने कहा, “युवा भारत इंतजार कर रहा है। मुझे उम्मीद है कि आप मोदीजी (प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी) और अनिल अंबानीजी को यह समझाने में लगे हुए हैं कि उन्हें आपकी बात क्यों सुननी चाहिए और इसे (जेपीसी) क्यों स्वीकार करना चाहिए। इसके बाद राहुल ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस भी आयोजित कर मोदी पर तीखी तमलेबाजी की। राफेल मामले में संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) के गठन की मांग पर वित्त मंत्री अरुण जेटली से 24 घंटे के भीतर जवाब मांगने के एक दिन बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज कहा कि ऐसा लगता है कि जेटली के ‘बॉस’ ने जेपीसी के लिए मना कर दिया क्योंकि वो जनता का सामना करने को लेकर डरे हुए हैं।

जेपीसी पर जवाब के लिए जेटली को दी गई 24 घंटे की ‘‘समयसीमा’’ खत्म होने के बाद गांधी ने एक और ट्वीट किया, ‘‘प्रिय जेटली जी, मुझे लगता है कि आपके बॉस ने ‘ग्रेट राफेल रॉबरी’ पर जेपीसी गठित करने से मना कर दिया? छिपाने के लिए बहुत कुछ है, इतना डरे हैं कि लोगों का सामना नहीं कर सकते। मुझे ऐसा लगता है…।’’ इससे कुछ घंटे पहले गांधी ने ट्वीट कर कहा था, ‘‘प्रिय जेटली जी, राफेल की जांच के लिए जेपीसी के गठन के संदर्भ में आपकी समयसीमा खत्म होने में छह घंटे बचे हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘युवा भारत इंतजार कर रहा है। मैं आशा करता हूं कि आप मोदी जी और अनिल अंबानी जी को इस बात के लिए मनाने में लगे हैं कि उन्हें आपकी बात क्यों सुननी चाहिए और इसकी अनुमति देनी चाहिए।’’ जेटली द्वारा कल राफेल मामले में कांग्रेस पर झूठ फैलाने का आरोप लगाए जाने के बाद राहुल गांधी ने उन पर पलटवार किया था और आरोप लगाया कि ‘आपके सुप्रीम लीडर’ अपने एक मित्र को बचा रहे हैं।  दरअसल, जेटली ने कल राफेल विमान सौदे के बारे में कांग्रेस के ऊपर झूठ फैलाने का आरोप लगाया और कहा कि विपक्षी पार्टी तथा उसके नेता राहुल गांधी फर्जी अभियान चलाकर राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ गंभीर खिलवाड़ कर रहे हैं।

भाषा के इनपुट के साथ।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App