ताज़ा खबर
 

राधे मां की जूना अखाड़े में वापसी, खाई कसम- भक्‍तों की गोद में नहीं बैठूंगी

राधे मां ने लिखित माफीनामे में कहा कि अब से वे ऐसी किसी तरह की हरकत नहीं करेंगी, जो अखाड़े के नियमों के खिलाफ हो। उन्होंने भक्तों की गोद में नहीं बैठने बैठने की कसम भी खाई है।

धर्मगुरु राधे मां (Express archive photo)

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में लगने वाले कुंभ मेले से पहले विवादों में रहने वाली धर्मगुरु राधे मां उर्फ सुखविंदर कौर की जूना अखाड़े में वापसी हो गई है। अखाड़ा ने निलंबन रद्द करते हुए उनकी महामंडलेश्वर की पदवी भी वापस कर दी गई है। इसकी औपचारिक घोषणा रविवार (2 दिसंबर) को जूना अखाड़े के संरक्षक महंत हरिगिरी ने प्रयागराज में की। इस फैसले के बाद अब वे इस महीने 25 तारीख को कुंभ मेले में होने वाली जूना अखाड़े की पेशवाई में भी शामिल होंगी। साथ ही कुंभ मेले के तीनों शाही अखाड़े में भी शिरकत करेंगी। राधे मां के अलावा जूना अखाड़े ने पायलट बाबा का भी निलंबन रद्द कर दिया है।

दरअसल, अखाड़े ने यह फैसला राधे मां की लिखित माफीनामे के बाद लिया है। राधे मां ने लिखित माफीनामे में कहा कि अब से वे ऐसी किसी तरह की हरकत नहीं करेंगी, जो अखाड़े के नियमों के खिलाफ हो। उन्होंने भक्तों की गोद में नहीं बैठने बैठने की कसम भी खाई है। इस फैसले के बाद जूना अखाड़े ने राधे मां को कुंभ मेले के दौरान महामंडलेश्वर के तौर पर जमीन व अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराने का भी फैसला किया है।

बता दें कि अखाड़ा ने 2013 के कुंभ में राधे मां और पायलट बाबा के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई की थी। अब दोनों के निलंबन वापस लेने के पीछे यह तर्क दिया गया है कि उनके खिलाफ किसी तरह का पुलिस केस नहीं है और न हीं उन्होंने किसी के साथ छल कपट किया है। दोनों ने लिखित तौर पर आश्वासन दिया है कि वे अपना जीवन सनातन धर्म के उत्थान में लगाएंगे।

पंजाब के गुरुदासपुर जिले के दोरंगला गांव में एक सिख परिवार राधे मां उर्फ सुखविंदर कौर का जन्म हुआ था। सरदार मोहन सिंह नाम व्यापारी से इनकी शादी हुई थी। बताया जाता है कि 21 वर्ष की उम्र में इन्होंने आध्यात्म और भक्ति की ओर रूख किया। राधे मां के नाम से प्रसिद्ध हुई। पंजाब और हिमालच के कई स्थानों पर चौकियां लगाई। लाखों की संख्या में लोग उनके भक्त बने। हालांकि, बाद में उनसे जुड़े कई ऐसी बातें सोशल मीडिया पर वायरल हुई, जिसने विवादों को बढ़ावा दिया। काला चश्मा में उनकी फोटो और भक्त की गोद में बैठी हुई फोटो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हुई थी। साथ ही एक और तस्वीर वायरल हुई थी जिसमें वे दिल्ली के एक थाने में एसएचओ की कुर्सी पर बैठी हुई थी और पुलिसवाले हाथ जोड़कर उनके अगल-बगल खड़े थे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 देश की 323 नदियों का पानी प्रदूषित, गंगा-यमुना के पानी में नहा तक नहीं सकते, महाराष्ट्र में सबसे अधिक प्रदूषित नदियां
2 नीरव मोदी: आयकर विभाग ने 8 महीने पहले ही तैयार कर ली थी रिपोर्ट, किसी एजंसी से नहीं की गई साझा
3 गवर्नर पर फिर नाराजगी! अब्दुल्ला बोले- ‘अभी भी फैक्स नहीं चल रहा’, बीजेपी की सहयोगी पार्टी ने भी दे डाली हिदायत