scorecardresearch

Gas theft : सिलेंडर से गैस चोरी रोकने के लिए क्यूआर कोड लगेगा

एलपीजी सिलेंडर के पूरे पैसे देने के बावजूद कम गैस मिलने को लेकर बढ़ रही शिकायतों को लेकर अब आपको परेशान नहीं होना पड़ेगा।

Gas theft : सिलेंडर से गैस चोरी रोकने के लिए क्यूआर कोड लगेगा
(प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

महेश केजरीवाल

देर से ही सही इंडियन आयल कंपनी ने एलपीजी सिलेंडर पर क्यूआर कोड लगाने की पहल की बात कही है। गैस की कमी को लेकर आए दिन एलपीजी सिलेंडर आपूूर्तिकर्ता से लेकर वितरकों की मनमानी के दिन लदने वाले है। गैस सिलेंडर में एक से तीन किलो वजन की कमी को लेकर अक्सर ग्राहकों की शिकायत रहती है। गैस सिलेंडर पर क्यू आर कोड लगने से बाटलिंग से लेकर वितरण तक की प्रक्रिया में पारदर्शिता आएगी।

इसके तहत पहले चरण में करीब 20 हजार एलपीजी सिलेंडर पर क्यूआर कोड लगेगा। आगामी दो से तीन महीने में सभी एलपीजी सिलेंडर पर गैस चोरी की शिकायतों को दूर करते हुए क्यूआर कोड लगाने की प्रकिया पूरी की जाएगी।

इस सुविधा से संबंधित उपभोक्ता अपने मोबाइल से क्यूआर कोड को स्कैन करने के बाद आसानी से वजन की जानकारी हासिल कर सकेंगे। क्यूआर कोड का मेटल स्टीकर लगे होने से इसकी ट्रैकिंग भी आसान होगी। इसके अलावा इस प्रकार के सिलेंडर में कितनी बार गैस भरा गया यह भी जानकारी मिल जाएगी। इससे इंडियन आयल के सर्वाधिक घरेलू उपभोक्ता है।

ग्रेटर नोएडा में एलपीजी वीक कार्यक्रम में आए केंद्रीय पेट्रोलियम व प्राकृतिक गैस मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने बताया कि प्लांट से निकलने वाले हर एलपीजी पर बार कोड लगा होगा। इससे सिलेंडर आपूर्तिकर्ता गैस चोरी नहीं कर पाएगा और बार कोड से भी छेड़छाड़ नही कर पाएगा। इंडियन आयल कारपोरेशन के अध्यक्ष एसएम वैद्य ने बताया कि इसके लिए दिल्ली में एक प्लांट भी लगाया जा रहा है। उम्मीद है कि दो से तीन महीने बार कोड लगे एलपीजी सिलेंडर की आपूर्ति शुरू हो जाएगी।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 17-11-2022 at 05:44:57 am
अपडेट