ताज़ा खबर
 

‘अयोध्या में मुस्लिमों को दूसरी जमीन मिली तो आतंक की समर्थक कहलाएंगी कोर्ट और सरकार’, बोले पुरी के शंकराचार्य

जगद्गुरू शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र संघ के माध्यम से भी इस समस्या का समाधान हो सकता है। विश्व में 204 देश हैं जिसमें 50 से अधिक देश मुस्लिम तंत्र से संबंधित हैं। इससे अधिक ईसाई तंत्र से संबद्ध देश हैं।

Author प्रयागराज | Published on: January 21, 2020 1:23 PM
जगद्गुरू शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती (फोटो सोर्स: जनसत्ता)

गोवर्द्धनमठ पुरी के पीठाधीश्वर जगद्गुरू शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती ने सोमवार (20 जनवरी) को कहा कि अगर न्यायालय और शासन तंत्र आतंकवादी, उन्माद फैलाने वाले और मान बिंदुओं को ध्वस्त करने वाले के नाम पर मस्जिद बनाने के लिए जमीन देने को उत्सुक हैं तो ये दोनों ही आतंकवाद के समर्थक सिद्ध होंगे। उन्होंने कहा कि इतिहास न तो न्यायालय को छोड़ेगा और न शासन तंत्र को। यह सिद्ध हो जाएगा कि ये आतंकवाद के समर्थक थे। एक आतंकवादी के नाम पर जमीन देना, उसे महिमामंडित करना हुआ या नहीं।

सरस्वती ने क्या कहाः माघ मेले में लगे शिविर में संवाददाताओं से बातचीत में सरस्वती ने कहा, ‘यदि मुस्लिम तंत्र अयोध्या तो छोड़ दीजिए, भारत में कहीं भी एक इंच भूमि स्वीकार करता है तो वह बाबर का अनुगामी सिद्ध होगा। कंस भी हिंदू था, लेकिन हम कंस को आदर्श नहीं मानते। प्रहलाद जी हिरणकश्यपु को अपना पिता मानते थे, लेकिन प्रहलाद अपने पिता के मार्ग पर नहीं चले।’

Hindi News Live Hindi Samachar 21 January 2020: देश की बड़ी खबरों के लिए यहांं क्लिक करें 

आतंकवादी पर एक इंच भी जमीन नहीं लेने की बात कही- सरस्वतीः स्वामी निश्चलानंद सरस्वती ने कहा, ‘मुस्लिमों को यदि इतिहास में अपना नाम आतंकवाद के पोषक के रूप में अंकित नहीं कराना है तो वे घोषित करें कि वे एक आतंकवादी के नाम पर एक इंच भी भूमि नहीं लेंगे।’

CAA पर सरस्वती ने क्या कहाः देश में नागरिकता संशोधन कानून को लेकर चल रहे विरोध पर उन्होंने कहा कि विश्व स्तर पर इस तरह की समस्या का समाधान आवश्यक है। उदाहरण के लिए संयुक्त राष्ट्र संघ के माध्यम से भी इस समस्या का समाधान हो सकता है। विश्व में 204 देश हैं जिसमें 50 से अधिक देश मुस्लिम तंत्र से संबंधित हैं। इससे अधिक ईसाई तंत्र से संबद्ध देश हैं। लेकिन हिंदूराष्ट्र के तौर पर विश्व में कोई भी देश नहीं है।

संयुक्त राष्ट्र घोषित करे भारत, नेपाल और भूटान को हिंदूराष्ट्र-सरस्वतीः मामले में सरस्वती ने कहा, ‘मेरा मानना है कि संयुक्त राष्ट्र संघ भारत, नेपाल और भूटान को हिंदूराष्ट्र घोषित करे। जिनके (हिंदू) पूर्वजों ने विश्व को धर्म शास्त्र, मोक्ष शास्त्र, चिकित्सा शास्त्र, वास्तु विज्ञान, गणित आदि का ज्ञान दिया, 64 कलाएं दीं, 32 विद्याएं दीं.. इनका वंश विलुप्त न हो क्या इसके लिए मानवाधिकार की सीमा में इनका इतना भी अधिकार नहीं रह गया है।’

सरस्वती- नकली शंकराचार्य बनाया नहीं जा सकताः देश में दर्जनों की संख्या में शंकराचार्य होने के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि चीन चाहने पर भी नकली दलाई लामा नहीं बना सका.. पोप कोई नकली नहीं, प्रधानमंत्री कोई नकली नहीं तो क्या शंकराचार्य इतना घटिया पद है कि सैकड़ों व्यक्तियों को शंकराचार्य बनाकर घुमा रहे हो.. यहां का प्रशासन उनको पूरी सुविधा दे रहा है। उन्होंने कहा कि शंकराचार्य की गद्दी के साथ आप न्याय नहीं कर सकते तो शासन कैसे कर सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 दिल्ली चुनाव 2020: Congress उम्मीदवारों की तीसरी लिस्ट जारी, ओखला से परवेज हाशमी समेत इन 5 को दिए टिकट
2 साईंबाबा के जन्मस्थान का विवाद बेवजह, CM उद्धव ठाकरे को दोष देना गलत; सामना में शिवसेना की सफाई
3 दिल्ली चुनाव 2020: नामांकन भरने पहुंचे केजरीवाल का विरोध, अंदर जाने पर जामनगर हाउस में हुई हाथापाई
ये पढ़ा क्या?
X