नया दल बनाने पर अडिग कांग्रेस से रूठे अमरिंदरः कहा- जहां से खड़े होंगे सिद्धू, वहां से लड़ेंगे हम, सभी 117 सीटों पर ठोकेंगे ताल

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि किसान आंदोलन को खत्म कराने और इसका समाधान निकालने के लिए गुरुवार को वे 25-30 लोगों के साथ केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मिलेंगे।

Punjab, Election 2022
पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह। (फोटो- एएनआई)

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बुधवार को एक नया राजनीतिक दल बनाने का ऐलान किया। चंडीगढ़ में मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा, “मैं एक पार्टी बना रहा हूं। अब सवाल ये है कि पार्टी का नाम क्या है, ये मैं आपको नहीं बता सकता क्योंकि ये मैं खुद नहीं जानता। जब चुनाव आयोग पार्टी के नाम और चिन्ह को मंजूर करता है, मैं आपको बता दूंगा।” उन्होंने कहा कि राज्य के सभी 117 सीटों पर चुनाव लड़ेंगे।

उन्होंने कहा कि जहां से प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू चुनाव लड़ेंगे, वहां से वे भी लड़ेंगे। कांग्रेस से अलग होने के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पहले ही इस बात का संकेत किया था कि वे जल्द नई पार्टी का गठन करेंगे। उन्होंने यह भी कहा था कि किसानों के हित में अगर किसान आंदोलन की समस्या का कोई रास्ता निकला तो वे भाजपा से समझौता कर सकते हैं।

फिलहाल उन्होंने कहा कि कल यानी गुरुवार को वे 25-30 लोगों को साथ लेकर इस मुद्दे पर गृह मंत्री से मिलेंगे। उनसे इस समस्या के समाधान के लिए बात करेंगे। उम्मीद जताई कि जल्द ही किसान आंदोलन का कोई न कोई समाधान निकल आएगा।

सिद्धू के ट्वीट पर बोलते हुए कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा, “वह कुछ नहीं जानते हैं, बहुत ज्यादा बोलते हैं, उसके पास दिमाग नहीं है। मैंने इस पर कभी अमित शाह या ढींडसा से बात नहीं की, लेकिन मैं करूंगा। मैं कांग्रेस, शिअद, आप से लड़ने के लिए मजबूत होना चाहता हूं। मैं उनसे बात करूंगा, हम इन्हें हराने के लिए संयुक्त मोर्चा बनाएंगे।”

उन्होंने कहा कि, “सुरक्षा उपायों को लेकर जो मेरा मखौल उड़ाते हैं, मैं 10 साल सेना में रहा हूं। दूसरी तरफ मैं 9.5 साल पंजाब का गृह मंत्री रहा और संवेदनशील मुद्दे मेरे अधीन थे। जो एक महीने गृह मंत्री रहा वो कहता है कि वो मुझसे ज़्यादा जानता है। मेरी बेसिक ट्रेनिंग एक सैनिक की है। मेरे प्रशिक्षण की अवधि से लेकर सेना छोड़ने तक, इसलिए मुझे मूल बातें पता हैं। कोई भी परेशान पंजाब नहीं चाहता। हमें समझना चाहिए कि हम पंजाब में बहुत मुश्किल दौर से गुजरे हैं।”

पंजाब के पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह के नए कदम से पंजाब की राजनीति में जरूर उथल-पुथल मचेगी। इसको लेकर सभी दलों में भी मंथन शुरू हो गया। अभी वहां कांग्रेस की सरकार है, लेकिन उसमें भी आपसी विवाद अभी दूर नहीं हुआ है।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट