ताज़ा खबर
 

पंजाब न‍िकाय चुनाव: घरवालों ने भी नहीं द‍िया बीजेपी उम्‍मीदवार को वोट? हार के बाद बोलीं- ईवीएम में गड़बड़ क‍िया

एक यूजर ने ट्विटर पर लिखा, वाह आपके घर के लोग आपको वोट नही कर रहे हैं और आप लोग कहते हो किसानो के फायदे के लिए बिल लाए गए हैं बिल मे क्या फायदा है ये तो आप लोग अपने घरो मे भी समझा नही पाए।

CM Amrinder singhकांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह (फोटो सोर्सः /@NavroopDaleke5)

अक्सर देखा गया है कि चुनावों में जब बीजेपी जीतती है तो विपक्ष आरोप लगाता है कि ईवीएम में गड़बड़ी रही। लेकिन किसान आंदोलन के बीच हुए पंजाब के निकाय चुनाव में पार्टी का सूपड़ा साफ हुआ तो उसके उम्मीदवार ईवीएम का रोना रोने लगे हैं। बीजेपी की उम्मीदवार ने कहा कि उनके अपने घर में ही 15-20 लोग हैं, लेकिन वोट मिले कुल 9। उनका आरोप है कि कांग्रेस ने ईवीएम में गड़बड़ी की है।

बीजेपी उम्मीदवार ने कांग्रेस पार्टी हाय-हाय के नारे लगाते हुए कहा कि उन्हें सारी गली के वोट मिले। लेकिन रातों रात मशीनें बदल दी गईं। उनका कहना है कि 12 वार्ड से बीजेपी हमेशा जीतती आई है पर इस बार उसे शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा। उनका कहना है कि चुनाव में जमकर धांधली की गई है। बीजेपी के उम्मीदवारों को हराने के लिए सरकारी मशीनरी का इस्तेमाल किया गया।

हालांकि, उनके इस आरोप पर ट्विटर में मजेदार रिएक्शन आए। एक यूजर ने लिखा, चलो सही है इतना तो मान गए कि ईवीएम में गड़बड़ी हो सकती है। एक यूजर ने लिखा कि घर वालों ने भी बीजेपी के खिलाफ वोट डाल दिए। एस चंदन नाम के व्यक्ति ने लिखा, पंदाब निकाय चुनाव ने पीएम मोदी व अमित शाह को मैसेज दिया है कि सत्ता का सदुपयोग करें, नहीं तो आने वाले समय में परिणाम विपरीत होंगे।

एक यूजर ने बीजेपी उम्मीदवार पर मजेदार कमेंट करते हुए लिखा, अब बताइए आपको घर वाले ही पसंद नहीं कर रहे अपने तो देश क्या करेगा। एक अन्य ने लिखा, वाह आपके घर के लोग आपको वोट नही कर रहे हैं और आप लोग कहते हो किसानो के फायदे के लिए बिल लाए गए हैं। बिल मे क्या फायदा है ये तो आप लोग अपने घरो मे भी समझा नही पाए।

कुमार आलोक ने लिखा, मज़ा आ गया मोदीजी कृपया आप इस महिला उम्मीदवार का दर्द समझे ईवीएम बैन करो। ध्यान रहे कि पंजाब के निकाय चुनाव में बीजेपी को शिकस्त का सामना करना पड़ा है। कांग्रेस ने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए क्लीन स्वीप किया है। किसान आंदोलन के बीच लोगों की नजर इस बात पर थी कि निकाय चुनाव के परिणाम क्या रुख दिखाते हैं।

Next Stories
1 कृषि कानूनः केंद्र ही नहीं BKU के राकेश टिकैत भी नहीं ले पा रहे पूरी नींद, बोले- दिन में मीटिंग, रात में सफर कर रहे…
2 रिहाना के मुद्दे पर केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा-हमारे धैर्य की अब परीक्षा मत लो…
3 खुद को काम में बेहद व्यस्त रखती हैं नीता अंबानी, पर परिवार के साथ बिताया एक दिन देता है दिल को सुकून
यह पढ़ा क्या?
X