पंजाब सियासतः नाराज़ सिद्धू बोले, हक की लड़ाई लड़ता रहूंगा, सीएम चन्नी ने कहा, बैठकर निकलेगा समाधान

पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने कहा कि उन्होंने नवजोत सिंह सिद्धू से फोन पर बात की है और और वह कोशिश करेंगे साथ बैठकर समस्याओं का समाधान निकाला जाए।

पूर्व क्रिकेटर औऱ राजनेता नवजोत सिंह सिद्धू। फोटो- पीटीआई

पंजाब में नवजोत सिंह सिद्धू के विद्रोह की वजह से कांग्रेस पर कई बार संकट आ चुका है। अब सिद्धू ने पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष के पद से भी इस्तीफा दे दिया। इसके बाद बुधवार सुबह एक वीडियो जारी करके सिद्धू ने पार्टी और राज्य सरकार पर कई आरोप लगाए हैं। नवजोत सिंह सिद्धू ने पुलिस महानिदेशक और राज्य के महाधिवक्ता की नियुक्तियों पर बुधवार को सवाल उठाए। वहीं नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी से जब सिद्धू के बारे में सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि सरकार को पार्टी के साथ चलना होता है। उन्होंने कहा, सिद्धू से फोन पर बात हुई है। जो भी नाराजगी होगी, बैठकर बात करके दूर की जाएगी।

राज्य में विधानसभा चुनाव से कुछ महीने पहले कांग्रेस को एक नए संकट में डालते हुए, सिद्धू ने चरणजीत सिंह चन्नी कैबिनेट के नए मंत्रियों को विभागों के आवंटन के तुरंत बाद मंगलवार को अपना इस्तीफा दे दिया। सिद्धू ने बुधवार को ट्विटर पर एक वीडियो साझा करते हुए लिखा, ‘हक़-सच की लड़ाई आखिरी दम तक लड़ता रहूंगा …।’ उन्होंने कहा कि उनकी लड़ाई पंजाब के मुद्दों और राज्य के एजेंडा को लेकर है।

वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी इकबाल प्रीत सिंह सहोता को पंजाब पुलिस के महानिदेशक का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है। सहोता का स्पष्ट तौर पर जिक्र करते हुए, सिद्धू ने कहा, ‘‘जिन्होंने छह साल पहले बादल को क्लीन चिट दी थी…ऐसे लोगों को न्याय दिलाने की जिम्मेदारी दी गई है….।’’

[ie_dailymoton id=x84iziz]

सहोता बेअदबी की घटनाओं की जांच के लिए तत्कालीन अकाली सरकार द्वारा 2015 में गठित एक विशेष जांच दल के प्रमुख थे। सिद्धू ने ए पी एस देओल की राज्य के नए महाधिवक्ता के रूप में नियुक्ति पर भी सवाल उठाया। उन्होंने कहा, ‘‘ जिन लोगों ने ‘पक्की जमानत’ दिलाई है, वे महाधिवक्ता बनाए गए हैं।’’

देओल पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता हैं और पंजाब के पूर्व डीजीपी सुमेध सिंह सैनी के वकील रह चुके हैं। वह पूर्व शीर्ष पुलिस अधिकारी का उनके खिलाफ कई मामलों में प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। (भाषा के इनपुट्स के साथ)

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट