CM चन्नी के खिलाफ नवजोत सिंह सिद्धू ने फिर खोला मोर्चा, कहा- ड्रग्स मामले की रिपोर्ट करें सार्वजनिक वरना करुंगा भूख हड़ताल

पिछले दिनों डीजीपी और एजी की नियुक्ति को लेकर भी नवजोत सिंह सिद्धू ने सीएम चरणजीत सिंह चन्नी के खिलाफ बगावती तेवर अपना लिए थे और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा भी दे दिया था।

सिद्धू ने एकबार फिर से सीएम चन्नी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

पंजाब कांग्रेस में उपजा बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। पंजाब कांग्रेस प्रधान नवजोत सिंह ने एक बार फिर से मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। सिद्धू ने कहा है कि अगर ड्रग्स और बेअदबी मामले की रिपोर्ट सार्वजनिक नहीं की गई तो वे भूख हड़ताल करेंगे। पिछले दिनों डीजीपी और एजी की नियुक्ति को लेकर भी नवजोत सिंह सिद्धू ने सीएम चरणजीत सिंह चन्नी के खिलाफ बगावती तेवर अपना लिए थे और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा भी दे दिया था।

राज्य में आयोजित एक रैली को संबोधित करते हुए पंजाब कांग्रेस प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि नशे की वजह से लाखों युवाओं का जीवन बर्बाद हो गया है। लाखों लोग राज्य छोड़ के चले गए। साथ ही उन्होंने कहा कि अगर पंजाब सरकार ने नशे और बेअदबी को लेकर रिपोर्ट सार्वजनिक नहीं की तो मैं ही सरकार के खिलाफ भूख हड़ताल करूंगा।  

पिछले दिनों लुधियाना में आयोजित रैली में भी दोनों नेताओं के बीच दूरियां दिखी। दोनों एक दूसरे के साथ डेढ़ घंटे स्टेज पर रहे लेकिन कोई बातचीत नहीं हुई। सिद्धू ने सीएम चन्नी की मौजूदगी में महंगी रेत का जिक्र कर अपनी ही सरकार पर निशाना साधा और कहा कि इसे सस्ता करवा कर रहेंगे और अगर ऐसा नहीं हुआ तो इस्तीफा दे देंगे। इसके बाद सीएम चन्नी ने भी अपने भाषण के जरिए सिद्धू पर पलटवार किया और कहा कि हमने सरकार में आते ही रेत सस्ती की।

बता दें कि चरणजीत सिंह चन्नी के मुख्यमंत्री बनने के तुरंत बाद ही डीजीपी और एडवोकेट जनरल की नियुक्ति को लेकर नवजोत सिंह सिद्धू और उनके बीच तकरार वाली स्थिति बन गई थी। सिद्धू ने चन्नी द्वारा नियुक्त किए गए डीजीपी इकबाल सिंह सहोता और एजी एपीएस देओल को हटाने की मांग शुरू कर दी थी। बीते दिनों एपीएस देओल ने एजी के पद से इस्तीफा दे दिया। सिद्धू  2015 में धार्मिक ग्रंथ बेअदबी के बाद हुए पुलिस गोलीबारी के मामले में पूर्व डीजीपी सुमेध सिंह सैनी के वकील रहने के कारण देओल को हटाने की मांग कर रहे थे।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
आरटीआइ के तहत सूचना मांगने की वजह बताएं: मद्रास हाई कोर्ट1975 LN Mishra Murder Case
अपडेट