पंजाब के मुख्यमंत्री चन्नी का बड़ा ऐलान, हिंसा में मरे किसानों और पत्रकार के परिवारों को 50 लाख की मदद

लखीमपुर खीरी घटना में मारे गए किसानों और एक पत्रकार के परिवारों को पंजाब सरकार ने 50-50 लाख रुपये देने की घोषणा की है। ये घोषणा पंजाब के सीएम ने लखनऊ में की। इसके साथ ही छत्तीसगढ़ सरकार ने भी 50-50 लाख रुपये देने की घोषणा की है।

charanjit singh channi, lakhimpur kheri
मारे गए किसानों के परिवारों को पंजाब देगा 50-50 लाख रुपये- सीएम (फोटो- एएनआई)

लखीमपुर खीरी हिंसा में मारे गए किसानों को लेकर पंजाब और छत्तीसगढ़ सरकार ने बड़ा ऐलान किया है। पंजाब के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी ने घोषणा की है कि हिंसा में मारे गए किसानों और पत्रकार के परिवारों को 50-50 लाख की आर्थिक मदद दी जाएगी।

चन्नी ने कहा- “हम मारे गए किसानों के परिवारों के साथ खड़े हैं। पंजाब सरकार की ओर से मैं मारे गए पत्रकार सहित किसानों के परिवारों को 50-50 लाख रुपये देने की घोषणा करता हूं।”

पंजाब के साथ-साथ छत्तीसगढ़ सरकार ने भी किसानों के परिवारों के लिए 50-50 लाख देने की घोषणा की है। छत्तीसगढ़ सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार की ओर से, मैं किसानों और पत्रकार के परिवारों के लिए 50-50 लाख रुपये की घोषणा करता हूं।

भूपेश बघेल और चरणजीत सिंह चन्नी कांग्रेस नेता राहुल गांधी के साथ बुधवार को लखीमपुर जाने के लिए लखनऊ एयरपोर्ट पर पहुंचे हैं। लखनऊ पहुंचने के बाद ही दोनों मुख्यमंत्रियों ने लखीमपुर हिंसा में मारे गए किसानों और एक पत्रकार के लिए ये मुआवजे की घोषणा की है। राहुल गांधी के साथ बघेल और चन्नी भी लखीमपुर जाने की तैयारी में है, लेकिन सरकार से परमिशन के बाद भी इन्हें अभी एयरपोर्ट पर ही रोक लिया गया है।

राहुल गांधी ने लखनऊ एयरपोर्ट पर मीडिया से बात करते हुए कहा कि यूपी सरकार ने मुझे किस तरह की इजाजत दी है? ये लोग मुझे एयरपोर्ट से बाहर नहीं जाने दे रहे हैं। हम अपनी कार में लखीमपुर खीरी जाना चाहते हैं लेकिन पुलिस हमें अपनी गाड़ी में ले जाना चाहती है। मैंने उनसे कहा कि मुझे अपने निजी गाड़ी से जाने दें। लेकिन उन्होंने हमें इसके लिए मना कर दिया है। वो कुछ योजना बना रहे हैं।

बता दें कि लखीमपुर खेरी कांड में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा पर आरोप लगा है कि उन्होंने अपनी गाड़ियां किसानों पर चढ़ा दी थी। इस घटना का एक वीडियो भी वायरल हो रहा है। जिसके बाद हुई हिंसा में आठ लोगों की मौत हो गई। मृतकों में चार किसान, तीन बीजेपी कार्यकर्ता और एक स्थानीय पत्रकार शामिल हैं। किसान संगठन पूरी घटना के लिए अजय मिश्रा के बेटे को जिम्मेदार ठहराते हुए गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट