ताज़ा खबर
 

पाक आर्मी चीफ से गले मिलने पर सिद्धू को कैप्‍टन की खरी-खरी, बोले: इतना प्यार दिखाना गलत

कैप्टन अमरिंदर ने कहा कि भारत के जवानों के शहीद होने के लिए किसे दोष दिया जाए जो ट्रिगर दबाता है या फिर वो जो ऐसा करने का आदेश देता है...और ये शख्स आर्मी चीफ जनरल बाजवा है।

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू (फाइल फोटो)

पाकिस्तान के आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा से गले मिलने पर पंजाब सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू को अपने बॉस यानी की सीएम कैप्टन अमिरंदर सिंह से फटकार मिली है। कैप्टन ने अपने ही कैबिनेट के सहयोगी को दो टूक सुनाते हुए कहा कि वे इसके पक्ष में नहीं हैं। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने समाचार एजेंसी एएनआई से कहा, “जहां तक पाक आर्मी चीफ को गले लगाने का सवाल है मैं इसके पक्ष में नहीं हूं, जब हमारे जवान शहीद हो रहे हैं तो उनके द्वारा पाकिस्तानी आर्मी चीफ के प्रति प्यार दिखाना गलत है।” कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि कुछ ही दिन पहले उनके अपने ही रेजिमेंट के एक मेजर और दो जवान शहीद हो चुके हैं। बता दें कि कैप्टन अमरिंदर सिंह खुद आर्मी में ऑफिसर रह चुके हैं। इसके बाद अमरिंदर सिंह ने सियासी पारी शुरू की है।

पंजाब सीएम ने सिद्धू पर बरसते हुए कहा, “रोज हमारे फौजी शहीद होते हैं…और जनरल बाजवा उनके चीफ को झप्पी वगैरह डालनी…मैं इसके हक में नहीं हूं…।” कैप्टन अमरिंदर ने कहा कि भारत के जवानों के शहीद होने के लिए किसे दोष दिया जाए जो ट्रिगर दबाता है या फिर वो जो ऐसा करने का आदेश देता है…और ये शख्स आर्मी चीफ जनरल बाजवा है। कैप्टन ने कहा कि ये कहना कि कोई जनरल बाजवा को पहचानता नहीं है…उनके यहां पर लिखा होता है…मैं समझता हूं कि उन्होंने पाकिस्तानी आर्मी चीफ के लिए जो प्यार दिखाया वो गलत है।”

हालांकि कैप्टन अमरिंदर ने सिद्धू के पाकिस्तान जाने पर उनका बचाव किया। सीएम ने कहा कि जहां तक उनके शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने का सवाल है तो वे अपनी निजी हैसियत में वहां गये थे, इसका सरकार से कोई लेना-देना नहीं है।” पाक अधिकृत कश्मीर के कथित राष्ट्रपति के बगल में सिद्धू के बैठने पर कैप्टन ने कहा कि हो सकता है कि उन्हें पता नहीं हो कि उनके बगल में बैठने वाला शख्स कौन है। सिद्धू 18 अगस्त को इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह के दौरान पाकिस्तान के आर्मी चीफ जनरल बाजवा से गले मिले थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App