ताज़ा खबर
 

पुलवामा में शहादत के सालभर बाद भी घरवालों को न मिली पेंशन, न नौकरी; अब पूरा परिवार करने जा रहा अनशन

परिजनों का आरोप है कि एक साल बीत जाने के बाद भी अभी तक वो वादे अधूरे हैं। परिजनों का कहना है कि उन्होंने वादे पूरा कराने के लिए कई बार अफसरों और नेताओं के चक्कर काटे, लेकिन अभी तक कहीं से कोई मदद नहीं मिली है।

पुलवामा हमले में शहीद हुए महेश यादव की अंतिम यात्रा में बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए। (पीटीआई फोटो)

पुलवामा आतंकी हमले को हुए आज एक साल बीत गया है। हमले में शहीद हुए जवानों की शहादत को यह देश कभी नहीं भूलेगा। जवानों की शहाद के बाद उनके परिजनों के लिए बड़ी-बड़ी घोषणाएं हुई थीं और तमाम वादे किए गए थे। लेकिन प्रयागराज के शहीद महेश यादव के परिजनों को अभी तक उन वादों के पूरा होने का इंतजार है। स्थिति ये है कि शहीद के परिजन ने अगले माह लखनऊ में अनशन शुरू करने की बात कह रहे हैं।

पुलवामा हमले में शहीद हुए 40 जवानों में प्रयागराज के मेजा इलाके के महेश यादव भी शामिल थे। सीआरपीएफ की 118वीं बटालियन में कांस्टेबल महेश यादव अपने परिवार के इकलौते कमाऊ सदस्य थे और पूरे घर की जिम्मेदारी उन पर थी।

महेश यादव के पुलवामा हमले में शहादत की खबर सुनते ही उनके घर कोहराम मच गया था। इस दौरान पूरा गांव और आसपास के इलाके के लोग भी उनके घर पहुंचे थे। एबीपी न्यूज की खबर के अनुसार, शहीद महेश यादव के पिता ने बेटे की अर्थी को कंधा देते वक्त गर्व से ऐलान किया था कि एक बेटे को खोने के बावजूद वह छोटे बेटे और अपने पोतों को भी देश सेवा के लिए फौज में भेजेंगे।

पुलवामा हमले के कुछ दिन बाद तक उनके घर मंत्रियों और दूसरे नेताओं का खूब आना जाना हुआ था। इस दौरान नेताओं द्वारा शहीद के परिजनों के लिए कई वादे किए गए थे, जिनमें परिवार के एक सदस्य को नौकरी दिलाने, हाईवे से घर तक पक्की सड़क, घर के पास हैंडपंप लगवाने, बच्चों की मुफ्त पढ़ाई, पत्नी को पेंशन देने, डेढ़ एकड़ जमीन देने, शहीद जवान की मूर्ति लगवाने और किसी स्कूल कॉलेज का नाम शहीद के नाम पर किए जाने के वादे किए गए थे।

परिजनों का आरोप है कि एक साल बीत जाने के बाद भी अभी तक वो वादे अधूरे हैं। परिजनों का कहना है कि उन्होंने वादे पूरा कराने के लिए कई बार अफसरों और नेताओं के चक्कर काटे, लेकिन अभी तक 11 लाख रुपए के अलावा कहीं से कोई मदद नहीं मिली है।

खबर के अनुसार, शहीद जवान के पिता का कहना है कि यदि किए गए वादों को जल्द पूरा नहीं किया गया तो उनका पूरा परिवार अगले माह लखनऊ में सीएम ऑफिस के बाहर धरने पर बैठने को मजबूर हो जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 अब सुप्रीम कोर्ट में कागज के दोनों साइड ल‍िया जाएगा प्र‍िंट, दशकों पुरानी परंपरा बदलने का सर्कुलर जारी
2 ‘पुलवामा हमले से किसे फायदा?’ राहुल के ट्वीट पर कपिल मिश्रा का पलटवार- इंदिरा, राजीव की हत्या से किसका फायदा, देश ने पूछा तो?
3 ‘मेट्रो, ट्रेन में तो मोदी चलते नहीं, फिर 18-19 घंटे काम करने में क्या दिक्कत है’? समान छुट्टी का अधिकार दिलाएं, शिवसेना का तंज
ये पढ़ा क्या?
X