ताज़ा खबर
 

अजीत डोभाल की जांच करो, पुलवामा हमले का सच सामने आ जाएगा: राज ठाकरे

पुलमावा आतंकी हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ के जवानों को ‘‘राजनीतिक शिकार’’ करार देते हुए मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने रविवार (24 फरवरी) को दावा किया कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल से पूछताछ करने पर सच्चाई सामने आ जाएगी।

मनसे प्रमुख राज ठाकरे का भाजपा पर निशाना।

पुलमावा आतंकी हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ के जवानों को ‘‘राजनीतिक शिकार’’ करार देते हुए मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने रविवार (24 फरवरी) को दावा किया कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल से पूछताछ करने पर सच्चाई सामने आ जाएगी।  ठाकरे ने महाराष्ट्र के कोल्हापुर जिले में कहा, ‘‘यदि एनएसए डोभाल से पूछताछ की जाती है तो पुलवामा आतंकी हमले की सच्चाई सामने आ जाएगी। ’’ उन्होंने कांग्रेस के आरोपों से सहमति जताते हुए कहा, ‘‘पुलवामा हमले के वक्त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कॉरबेट नेशनल पार्क में एक फिल्म की शूटिंग करने में व्यस्त थे। आतंकी हमले की खबरें आने के बाद भी उनकी शूटिंग जारी रही।’’

मनसे प्रमुख ने कहा कि पुलवामा हमले में शहीद हुए 42 जवान ‘‘राजनीतिक शिकार’’ बने और हर सरकार ने इस तरह की चीजें गढ़ीं, लेकिन मोदी के शासन में यह अक्सर हो रहा है।  वहीं, प्रदेश भाजपा प्रवक्ता माधव भंडारी ने कहा, ‘‘राज ठाकरे अपने पूरे करियर में नकल उतारते रहे हैं। अब वह डोभाल के खिलाफ आरोप लगा कर राहुल गांधी का अनुकरण रहे हैं।’’

हमले के दिन भी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना प्रमुख राज ठाकरे ने पीएम नरेंद्र का समर्थन करते हुए कहा था कि इस समय हमे सभी राजनीतिक मतभेदों को एक तरफ रखते हुए, सरकार के साथ खड़ा होना चाहिए। उन्होंने कहा इस मुद्दे पर हमें मिलकर प्रतिक्रिया देने की आवश्यकता है। ठाकरे ने कहा कि हमारी पार्टी जवानों की शहादत पर पर शोक व्यक्त करती है और उनके परिवारों के साथ दुख की इस घड़ी में साथ खड़ी है। उन्होंने कहा था कि इस वक्त सभी राजनीतिक मतभेदों को एक तरफ रखते हुए, एक साथ प्रतिक्रिया देने की आवश्यकता है।

भाषा के इनपुट के साथ।

Next Stories
1 Kumbh 2019: जब पीएम ने अचानक पुरोहित से पूछा- अपना यूपी मजबूत है न? मिला यह जवाब
2 मामला लंबित छोड़ जज साहब चले गए थे गोल्‍फ खेलने, तीन हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस नहीं बन पाएंगे सुप्रीम कोर्ट जज
3 ‘सबसे निचले पायदान वाले को पक्का फायदा, यही है असली शासन’
ये पढ़ा क्या?
X