ताज़ा खबर
 

Pulwama Attack में NIA ने की पहली गिरफ्तारी, धरा गया जैश आतंकी शाकिर बशीर, आत्मघाती हमलावर को दी थी पनाह

एनआईए के मुताबिक बशीर ने खुलासा किया है कि उसने 2018 के अंत से फरवरी 2018 तक अपने घर में आदिल अहमद डार और पाकिस्तानी आतंकवादी मोहम्मद उमर फारूक को पनाह दी थी।

पुलवामा आतंकी हमले की जिम्मेदारी आंतकी संगठन जैश ए मुहम्मद ने ली थी। (फाइल फोटो)

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने शुक्रवार को जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी शाकिर बशीर को गिरफ्तार कर लिया। बशीर ने बीते साल पुलवामा हमले को अंजाम देने वाले आदिल अहमद की मदद की थी। आरोप है कि बशीर ने विस्फोटक और कैश पहुंचाने में मदद की थी। बशीर को 15 दिन की एनआईए रिमांड पर रखा गया है। मामले में यह एनआईए की पहली गिरफ्तारी है।

एनआईए के मुताबिक बशीर ने खुलासा किया है कि उसने 2018 के अंत से फरवरी 2018 तक अपने घर में आदिल अहमद डार और पाकिस्तानी आतंकवादी मोहम्मद उमर फारूक को पनाह दी थी। यही नहीं इस दौरान उसने आइईडी बम बनाने में उनकी सहायता की थी। उसने हमलावरों को कॉनवॉय की जानकारी दी थी। जैश आतंकी को गहनता से पूछताछ के लिए 15 दिन की एनआईए हिरासत में भेज दिया गया है।

बता दें कि आदिल अहमद डार आत्मघाती हमलावर था। आदिल अहमद डार ने विस्फोटक से भरी कार से सीआरपीएफ के काफिले में शामिल बस में टक्कर मार दी थी। इसके बाद भारतीय वायु सेना ने 26 फरवरी को पाकिस्तान के बालाकोट में एयर स्ट्राइक की थी और जैश-ए-मोहम्मद के अहम ठिकाने को ध्वस्त कर दिया था।

वहीं इससे पहले एनआईए ने इस खबर से इनकार किया कि विशेष अदालत ने पुलवामा आतंकवादी हमले के एक आरोपी को जमानत दे दी है। एक बयान में एनआईए ने कहा कि युसूफ चोपान नामक जिस व्यक्ति को जमानत मिली है उसे आतंकवाद की साजिश के एक अन्य मामले में गिरफ्तार किया गया था न कि फरवरी, 2019 के हमला मामले में।

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने आरोप लगाया था कि पुलवामा आतंकवादी हमले के आरोपी को जमानत मिल गयी क्योंकि एनआईए सबूत इकट्ठा नहीं कर पायी और न ही आरोपपत्र दाखिल कर पाई। पुलवामा आतंकी हमले को एक साल हो गया है। इस हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे। यह जवान सीआरपीएफ की 76 बटालियन से थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 ‘नौ राज्यों-यूटी में हिंदू हैं अल्पसंख्यक, फिर क्यों नहीं मिलते अधिकार?’ बीजेपी नेता की याचिका पर HC CJ ने 3 मंत्रालयों से मांगे जवाब
2 पूर्व JNU छात्र कन्हैया कुमार समेत तीन पर चलेगा राजद्रोह केस, दिल्ली सरकार ने पुलिस को दी मंजूरी
3 राजधानी एक्सप्रेस में बम की खबर निकली झूठी, यात्री ने गुस्से में किया था बम की जानकारी का ट्वीट
ये पढ़ा क्या?
X