किसानों की बीजेपी नेताओं को चेतावनीः 15 अगस्त पर नहीं फहराने देंगे तिरंगा, बोले- ये झंडे के लायक नहीं

दिल्ली की सीमाओं पर 7 महीने से भी अधिक समय से किसानों का आंदोलन चल रहा है। केंद्र सरकार द्वारा पारित किए गए तीनों कृषि कानूनों से गुस्साए पंजाब और हरियाणा के किसानों ने भाजपा नेताओं के सामाजिक बहिष्कार का ऐलान कर रखा है।

farmers, protest
प्रदर्शनकारी किसानों ने कहा है कि भाजपा के नेताओं और मंत्रियों को 15 अगस्त के दिन झंडा फहराने नहीं दिया जाएगा। (एक्सप्रेस फोटो: मनोज ढाका)

पिछले 7 महीने से भी अधिक समय से देशभर से आए किसान केंद्र सरकार द्वारा पारित किए गए तीनों कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली की सीमाओं पर धरना दे रहे हैं। इस आंदोलन का सबसे ज्यादा प्रभाव पंजाब और हरियाणा में देखने को मिल रहा है। आए दिन भाजपा नेताओं को किसानों के गुस्से का सामना करना पड़ रहा है। कृषि कानूनों से गुस्साए किसानों ने भाजपा नेताओं को चेतावनी देते हुए कहा है कि हम उन्हें 15 अगस्त पर झंडा नहीं फहराने देंगे। किसानों ने कहा है कि भाजपा के नेता झंडा फहराने लायक नहीं हैं।

टाइम्स नाउ की खबर के अनुसार प्रदर्शनकारी किसानों ने कहा है कि भाजपा के नेताओं और मंत्रियों को 15 अगस्त के दिन झंडा फहराने नहीं दिया जाएगा। साथ ही किसानों ने कहा है कि पूरे हरियाणा में बड़ा प्रदर्शन भी आयोजित किया जाएगा। किसानों ने  कहा कि भाजपा के नेता झंडा फहराने के लायक नहीं है। किसानों ने हरियाणा में ट्रैक्टर परेड निकालकर भाजपा नेताओं को काले झंडे दिखाने का ऐलान किया है।

गौरतलब है कि तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलनरत किसान 26 जनवरी को ट्रैक्टर रैली के दौरान लाल किले में घुस आए थे। इस दौरान उनके और पुलिस के बीच हुई झड़प में बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी घायल हो गए थे। इस मामले में पुलिस ने करीब 151 लोगों को गिरफ्तार किया था। हालांकि कोर्ट ने लाल किला हिंसा मामले में सभी लोगों को जमानत दे दी है। साथ ही इस मामले में मुख्य साजिशकर्ता माने जाने वाले दीप सिद्धू को भी अदालत ने जमानत दे दी है। दीप सिद्धू पर प्रदर्शनकारियों को उकसाने का आरोप है।

 

बता दें कि दिल्ली की सीमाओं पर 7 महीने से अधिक समय से किसानों का आंदोलन चल रहा है। केंद्र सरकार द्वारा पारित किए गए तीनों कृषि कानूनों से गुस्साए पंजाब और हरियाणा के किसानों ने भाजपा नेताओं के सामाजिक बहिष्कार का ऐलान कर रखा है। हरियाणा में लोगों ने भाजपा की सहयोगी जेजेपी के भी बहिष्कार का ऐलान कर रखा है। किसानों ने दोनों दलों के नेताओं के किसी भी सार्वजनिक कार्यक्रम का विरोध करने की बात कही है।

किसानों के विरोध के कारण हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर अपने गृह जिले करनाल में भी रैली नहीं कर पाए थे। किसानों ने उनके हेलीकॉप्टर को भी नहीं उतरने नहीं दिया था। इसके अलावा हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला समेत भाजपा और जेजेपी के अधिकांश नेता किसानों के गुस्से का सामना कर चुके हैं। पिछले दिनों किसानों ने सिरसा में हरियाणा विधानसभा के डिप्टी स्पीकर रणबीर गंगवा की गाड़ी पर भी हमला कर दिया था। जिसके बाद 100 लोगों के खिलाफ मामला भी दर्ज किया गया था। 

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट
X