ताज़ा खबर
 

जम्मू हिंसा: कई इलाकों में कर्फ्यू जारी, एसएसपी का तबादला

जम्मू में शुक्रवार को भी स्थिति तनावपूर्ण बनी रही। सिख युवकों ने निषेधाज्ञा तोड़ कर लगातार तीसरे दिन शहर के कई इलाकों में विरोध-प्रदर्शन किया। इस बीच एक और पुलिसकर्मी पर चाकू से हमला कर उसकी एके राइफल छीन ली गई...

Author Updated: June 6, 2015 10:14 AM

जम्मू में शुक्रवार को भी स्थिति तनावपूर्ण बनी रही। सिख युवकों ने निषेधाज्ञा तोड़ कर लगातार तीसरे दिन शहर के कई इलाकों में विरोध-प्रदर्शन किया। इस बीच एक और पुलिसकर्मी पर चाकू से हमला कर उसकी एके राइफल छीन ली गई। प्रदर्शनकारियों ने कश्मीर के अलावा पुंछ, राजौरी और जम्मू संभाग के अन्य इलाकों में जम्मू में गुरुवार को हुई झड़पों में एक युवक की मौत के विरोध में प्रदर्शन किया। सैकड़ों सिखों ने गुरुवार को खालिस्तानी उग्रवादी नेता जरनैल सिंह भिंडरावाले के पोस्टरों को हटाने के विरोध पुलिसकर्मियों पर पथराव कर सड़कों पर जमा लगाया था।

शुक्रवार को तीसरे दिन निषेधाज्ञा का उल्लंघन कर सिख युवकों ने जम्मू, कठुआ, पुंछ और राजौरी जिलों में प्रदर्शन किया। जम्मू के दिगियाना, गंगयाल, कनाल, तालाब तिलू, रेहाड़ी, बख्शीनगर, नरवाल और गोले गुजराल में विरोध प्रदर्शन हुआ। सिखों ने जम्मू-पठानकोट राजमार्ग पर जाम लगाकर टायर जलाए। जम्मू में सड़कें सूनी रहीं। व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रहे। मोबाइल और इंटरनेट सेवाओं को भी जम्मू में जाम कर दिया गया। क्षेत्र के कई जिलों में कॉलेज और विद्यालय भी बंद रहे। जम्मू शहर के संवेदनशील इलाकों में पुलिस और अर्द्धसैनिक बलों की पर्याप्त संख्या में तैनाती की गई है।

अधिकारियों ने स्थिति को तनावपूर्ण लेकिन नियंत्रण में बताया है। हिंसक झड़पों के बाद गुरुवार देर रात सेना ने जम्मू में फ्लैग मार्च भी किया था। पूरे जम्मू जिले में सीआरपीसी की धारा 144 लगा दी गई थी। सतवाड़ी-रानीबाग-गडीगढ़-आरएसपुरा क्षेत्र के हिंसाग्रस्त इलाकों में कर्फ्यू जैसे हालात हैं।

पूर्वी जम्मू के उपसंभागीय पुलिस अधिकारी मोहम्मद रफीक ने कहा कि गुरुवार देर रात जम्मू शहर के गंगयाल क्षेत्र में प्रदर्शनकारियों में शामिल कुछ अराजक तत्वों ने एक पुलिसकर्मी पर चाकू से हमला किया और उसकी एके राइफल लेकर भाग गए। पुलिस अधिकारी ने कहा कि पूर्वी जम्मू के पुलिस उपाधीक्षक मोहम्मद रफीक के निजी सुरक्षा अधिकारी कांस्टेबल जोगिंदर पाल को जीएमसी अस्पताल में दाखिल कराया गया है, जहां उनकी हालत में सुधार है।

अधिकारी ने कहा,‘हमने आज दोपहर कुछ लोगों से एके राइफल बरामद कर एक मामला दर्ज किया है। इस मामले में गिरफ्तारियां भी होंगी।’ बुधवार के बाद इस तरह का यह दूसरा मामला है। इससे पहले बुधवार को धारदार हथियार लेकर घूम रहे एक सिख प्रदर्शनकारी ने उपनिरीक्षक अरुण कुमार पर हमला कर दिया था। जीएमसी अस्पताल में उनकी स्थिति स्थिर बताई जा रही है।

जम्मू क्षेत्र के पुंछ में बंद की अपील की गई, जहां सभी धर्मों के नेता धरने पर बैठे और उन्होंने पुलिस गोलीबारी में युवक की मौत की निंदा करते हुए शांति की अपील की। खबरों में कहा गया है कि कठुआ और उधमपुर में जम्मू-पठानकोट के बीच बसे राजौरी, राजबाग, हतली मोड़ और लखीपुर में प्रदर्शन और धरने हुए। राजमार्ग पर दो-तीन घंटों के लिए यातायात प्रभावित रहा।

सिखों ने कश्मीर में भी युवक की मौत को लेकर कई जगह प्रदर्शन किया। अधिकारियों ने कहा कि लाल चौक के पास अमीरा कदम और प्रेस कालोनी में प्रदर्शन हुए। उत्तरी कश्मीर के बारामुला और दक्षिण क्षेत्र में बसे अवंतीपुरा में भी इसी तरह के प्रदर्शन हुए। प्रदर्शनकारियों ने अवंतीपुरा में श्रीनगर-जम्मू राजमार्ग को अस्थायी रूप से जाम कर दिया।

एसएसपी का तबादला, पीएसओ पर मामला दर्ज
जम्मू कश्मीर सरकार ने सिख प्रदर्शनकारियों पर कथित पुलिस गोलीबारी में एक युवक की मौत के बाद जम्मू जिले के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक उत्तम चंद का शुक्रवार को तबादला कर दिया। इसी के साथ सरकार ने वरिष्ठ आइपीएस अधिकारी अशकूर वानी को जम्मू क्षेत्र का पुलिस उपमहानिरीक्षक नियुक्त किया है। गोलीबारी के आरोप में एसएसपी उत्तम चंद के पीएसओ पर सतवारी थाने में धारा 302 के तहत मामला दर्ज किया गया है। उपमुख्यमंत्री निर्मल सिंह ने कहा कि पुलिस ने आत्मरक्षा में गोलीबारी की थी। इस पूरे मामले की जांच होगी और इसमें शामिल लोगों के खिलाफ कार्रवाई होगी।

Next Stories
1 अब बाजार से बाहर हुई मैगी
2 ‘नमामि गंगे’ पर जोशी के बोल, अगले 50 साल में भी साफ नहीं हो सकेगी नदी
3 केरल में आया मानसून झूम के
यह पढ़ा क्या?
X