ताज़ा खबर
 

बंगाल में पैगंबर के ‘अपमान’ के विरोध में हिंसा करने के आरोप में 10 लोग गिरफ्तार

पुलिस के मुताबिक करीब 2.5 लाख मुसलमानों ने मालदा के नेशनल हाइवे नंबर 34 पर रैली निकाली। बाद में हिंसक हो उठी भीड़ ने करीब दो दर्जन गाडि़यों में आग लगा दी।
Author कोलकाता | January 7, 2016 18:55 pm
यह तस्‍वीर 3 जनवरी 2016 की है। जब उग्र भीड़ ने पश्चिम बंगाल के कालियाचक में दर्जनों वाहन समेत पुलिस स्‍टेशन को आग लगा दी थी।

पश्चिम बंगाल के मालदा जिले में हिंदू महासभा के नेता कमलेश तिवारी के पैगंबर मोहम्‍मद के बारे में की गई कथित आपत्‍त‍िजनक टिप्‍पणी के विरोध में निकाले गए मुस्‍ल‍िमों की रैली में रविवार को अचानक हिंसा भड़क उठी थी। पुलिस के मुताबिक करीब 2.5 लाख मुसलमानों ने नेशनल हाइवे नंबर 34 पर रैली निकाली। बाद में हिंसक हो उठी भीड़ ने करीब दो दर्जन गाडि़यों में आग लगा दी। इसके अलावा मालदा जिले के कालियाचक पुलिस स्‍टेशन पर हमला भी किया। इसके बाद पूरे इलाके में धारा 144 लगा दी गई। इस मामले में 10 लोगों को गिरफ्तार कर उन पर कई गैरजमानती धाराएं लगाई गई हैं।

रैली कालियाचक पुलिस स्‍टेशन के अंतर्गत आने वाले सूरज इलाके में रविवार दोपहर निकाली गई थी। तिवारी की फांसी की मांग कर रहे प्रदर्शनकारी नेशनल हाइवे पर उतर आए। वहां से गुजर रही बस के साथ रैली में शामिल लोगों की पहले बहस हुई। बाद में भीड़ ने बस पर हमला कर दिया। यात्री किसी तरह वहां से बचकर निकल गए। इसके कुछ देर बाद मालदा से आ रही बीएसएफ की एक गाड़ी में आग लगा दी गई। इसके बाद, भीड़ पुलिस स्‍टेशन की ओर बढ़ी। थाने के कुछ हिस्‍सों में तोड़फोड़ की गई और बैरक वाले हिस्‍से में आग लगा दी गई। प्रत्‍यक्षदर्शी ने बताया कि हमले से बचने के लिए पुलिसवाले थाने से निकलकर भाग गए। कई राउंड फायरिंग हुई और बम भी चलाए गए। गोलियां लगने से दो लोग घायल हो गए। भीड़ ने कुछ घरों में लूटपाट भी की। इसके तुरंत बाद दुकानें बंद कर दी गईं और इलाके में तनाव फैल गया। एएसपी दिलीप हजरा और अभिषेक मोदी मौके पर पहुंचे। हालात संभालने के लिए रैपिड एक्‍शन फोर्स की टीम भी उनके साथ थी।

क्‍या कहना है पुलिस का

एएसपी हाजरा ने ‘इंडियन एक्‍सप्रेस’ से बातचीत में कहा, ”रैली में करीब 2.5 लाख लोग जुटे थे। बाद में भीड़ ने हिंसात्‍मक रुख अपना लिया। पुलिसवैन, जीप समेत 25 गाडि़यों में आग लगा दी गई। पुलिसवालों को पीटा गया, हालांकि, किसी को गंभीर चोट नहीं आई है। मैंने सुना है किसी शख्‍स को गोली लगी है, लेकिन इसकी आधिकारिक तौर पर पु‍ष्‍ट‍ि नहीं हुई है।”

पूर्व आरएसएस वर्कर को गोली मारी

राज्‍य के आरएसएस सचिव जिशनु बसु ने कहा कि गोली लगने से घायल हुआ शख्‍स गोपाल आरएसएस का मेंबर रह चुका है। बसु के मुताबिक, गोपाल थाने पर हमले का विरोध कर रहा था। उसके पैर में गोली मार दी गई। उसे अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है।

क्‍या है मामला

मामला उस वक्‍त शुरू हुआ, यूपी के कैबिनेट मंत्री आजम खान ने 29 नवंबर को कथित तौर पर राष्‍ट्रीय स्वयंसेवक संघ के बारे में कुछ आपत्‍त‍िजनक टिप्‍पणी की। कुछ रिपोर्ट्स के मुताबिक, इसकी प्रतिक्र‍िया में ही तिवारी ने कथित टिप्‍पणी की। कुछ दिन तक उनका बयान सोशल मीडिया पर सर्कुलेट हुआ, जिसके बाद मुस्‍ल‍िम धर्मगुरुओं का ध्‍यान इस ओर गया। बाद में तिवारी का बयान उर्दू मीडिया में भी छपा। बयान पर पहली प्रतिक्रिया स्‍वरुप 2 दिसंबर को सहारनपुर के देवबंद में एक बड़ा प्रदर्शन हुआ। इसमें दारूल उलूम के स्‍टूडेंट्स शामिल हुए। मुसलमानों में फैले गुस्‍से के मद्देनजर तिवारी को 2 दिसंबर को अरेस्‍ट कर लिया गया। वह फिलहाल जेल में हैं। शांति कायम करने के लिए सीएम अखिलेश यादव ने मुस्‍ल‍िम धर्मगुरुओं के साथ बीते बुधवार को अपने आवास पर मीटिंग भी की। सीएम ने आश्‍वासन दिया कि तिवारी के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

पढि़ए मामले का फॉलोअप:
बंगाल: इदारा-ए-शरिया का आरोप: पुलिस ने नहीं करने दिया पैगंबर के अपमान का विरोध, आज गवर्नर से मिलेंगे BJP नेता

Read also:

बंगाल: पुजारी का दावा, थाना जलाने से पहले मुस्लिमों ने लगाए थे मोदी विरोधी नारे

राजस्‍थान: पैगंबर पर टिप्‍पणी के विरोध में निकली रैली में लगे ‘ISIS जिंदाबाद’ के नारे, चार गिरफ्तार 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    abdul kadir
    Jan 6, 2016 at 2:14 am
    हिंसा किसी भी रुप में स्वीकार्य नही है पर किसी हिंसात्मक बयानबाजी का समर्थन भी किसी हिंसा से कम नहीं है।
    (2)(0)
    Reply
    1. J
      jitendra
      Jan 5, 2016 at 4:26 am
      क्या इसपर कोई सेकुलर अपना मुँह का ढक्क्न खोलेगा? क्या कोई महान व्यक्ति अपना अवार्ड वापस करेगा? क्या किसी को देश छोड़कर जाने का मन करेगा? कहाँ गई अिष्णुता पुराण की गाथा?
      (1)(0)
      Reply
      1. I
        imam
        Jan 5, 2016 at 6:20 am
        Agar kutta tmhari taraf bhouke iska mtlb tum bhi uski tarah bhouko
        (0)(0)
        Reply
        1. I
          imam
          Jan 5, 2016 at 6:24 am
          Anjaam dekha na kya hua but waisa nhi hona chahiye tha, koi kisi ke dharm ke baare jhuthi or galat baat bolta h WO galat h. Sirf insaan me nafrat failta h or kuch नही
          (0)(0)
          Reply
          1. I
            imam
            Jan 5, 2016 at 6:32 am
            Mai bolta hu tmhare Dada pardada Muslim paida hue honge bad me rasta bhatak e,
            (0)(0)
            Reply
            1. Load More Comments