ताज़ा खबर
 

तिरंगे पर महबूबा मुफ्ती के बयान पर ‘संग्राम’, पुतला फूंक बोले- इन्हें पाक रवाना करो, फारूख ने कहा, हम देशद्रोही नहीं

तिरंगे पर दिए गए महबूबा मुफ्ती के बयान के बाद पूरे देश में ही उनका विरोध हो रहा है। बीजेपी ने उनपर राजद्रोह का केस दर्ज करने की मांग की है तो वहीं शिवसेना ने उनको पाक भेज देने की बात कही। फारूख अब्दुल्ला ने कहा कि वे देशद्रोही नहीं हैं।

mehbooba muftiमहबूबा मुफ्ती के खिलाफ प्रदर्शन

महबूबा मुफ्ती के तिरंगे पर दिए गए बयान के बाद पूरे देश में बवाल मच गया है। आम लोगों समेत राजनीतिक पार्टियां भी महबूबा के विरोध में उतर आई हैं। शनिवार को शिव सेना के डोगरा मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने मुफ्ती का विरोध किया। वहीं जम्मू-कश्मीर बीजेपी ने उनकी गिरफ्तारी की मांग की है। दरअसल पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा था कि जब तक उनके हाथ में जम्मू-कश्मीर का झंडा नहीं आ जाता वह तिरंगा नहीं थामेंगी।

इस बीच मुफ्ती के आवास पर ही पीपल्स अलायंस फॉर गुपकर डेक्लेरेशन की बैठक हुई जिसमें नैशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारूख और उमर अब्दुल्ला भी मौजूद रहे। बैठक के बाद फारूख अब्दुल्ला ने कहा, ‘हम कोई राष्ट्र विरोधी जमात से नहीं हैं। हम केवल जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लोगों को उनके अधिकार वापस दिलाना चाहते हैं। हमें धर्म के आधार पर नहीं बांटा जा सकता। यह कोई धार्मिक युद्ध नहीं है।’ जम्मू-कश्मीर की मुख्य पार्टियों ने यहां अनुच्छेद 370 फिर से लागू करवाने के लिए यह अलायंस बनाया है। इससे पहले भी अब्दुल्ला के बयान पर विवाद हो गया था जब उन्होंने कहा था कि कश्मीर में दोबारा धारा 370 लगाने के लिए वह चीन की मदद लेंगे।

‘चले राजद्रोह का केस’
बीजेपी ने जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा से मांग की है कि महबूबा मुफ्ती के खिलाफ राजद्रोह का मामला दर्ज किया जाए। बीजेपी ने कहा कि दुनिया की कोई भी ताकत जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को लागू नहीं करवा सकती है। जम्मू-कश्मीर में बीजेपी के अध्यक्ष रविंद्र रैना ने कहा, ‘हम तिरंगे के लिए बलिदान दे सकते हैं। जम्मू-कश्मीर देश का अभिन्न अंग है इसलिए वहां केवल एक ही झंडा फहराया जा सकता है।’

14 महीने के बाद रिहा हुई हैं महबूबा
जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद कई नेताओं को हिरासत में लिया गया था जिसमें महबूबा मुफ्ती भी शामिल थीं। 14 महीने के बाद उन्हें 13 अक्टूबर को रिहा किया गया है। रिहा होने के बाद पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस में ही मुफ्ती ने कहा था कि वह चुनाव लड़ने में इंटरेस्टेड नहीं हैं। उन्होंने मेज पर रखे जम्मू-कश्मीर के झंडे की तरफ इशारा करते हुए कहा था कि जब यह झंडा वापस आ जाएगा तभी वह कोई दूसरा झंडा उठाएंगी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 सरकार ने बढ़ाई इनकम टैक्स फाइल करने की तारीख, जानिए कब तक भर सकते हैं आईटीआर
2 Republic TV के रिपोर्टर से होने लगी थी धक्का-मुक्की, निकलने लगा खून! न्यूज रूम से चिल्लाने लगे अर्णब- आप लाइव हैं, कोई रोक नहीं सकता, मेरे एडिटर पर हाथ मत लगाएं..
3 Bihar Elections 2020 में BJP ने बनाया टीके को मुद्दा, तो बोले दिल्ली CM- मुफ्त COVID-19 Vaccine हर किसी का अधिकार
यह पढ़ा क्या?
X