ताज़ा खबर
 

गोवा में पहली बार CAA के खिलाफ उतरे चर्च, कहा- भारत में बाइबल, कुरान व गीता के साथ बच्चों को पढ़ाया जाए इंसानियत का पाठ

Citizenship Amendment Act (CAA) Protest: 'गोवा बचाओ आंदोलन' से जुड़े Dr Oscar Rebello ने कहा कि 'यह सिर्फ मुस्लिमों की लड़ाई नहीं है। उन्होंने संविधान को पवित्र किताब कहा है।

गोवा में चर्च से जुड़े संगठनों ने प्रदर्शन किया। फोटो सोर्स – Indian Express, Smita Nair

Citizenship Amendment Act (CAA) Protest: नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ देश के अलग-अलग हिस्सों में प्रदर्शन हो रहे हैं। गोवा में पहली बार चर्च भी अब सीएए के खिलाफ एकजुट होकर प्रदर्शन कर रहे हैं। गोवा के Margao स्थित लोहिया मैदान में शुक्रवार को चर्च से जुड़े कई संगठनों ने विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान यहां आजादी के भी नारे लगाए गए।

इस प्रदर्शन के दौरान ऑडियंस के कतार में बैठे विधायकों को मंच पर आने की इजाजत नहीं थी। प्रदर्शन के दौरान Council for Social Justice and Peace (CSJP) संगठन के सचिव Savio Fernandes ने कहा कि विधानसभा में इस विवादित कानून के खिलाफ प्रस्ताव पास होना चाहिए। उन्होंने एनपीआर के लिए किसी तरह के कागजात दिखाने से भी इनकार किया।

‘गोवा बचाओ आंदोलन’ से जुड़े Dr Oscar Rebello ने कहा कि ‘यह सिर्फ मुस्लिमों की लड़ाई नहीं है। उन्होंने संविधान को पवित्र किताब कहा है। उन्होंने कहा कि स्कूलों में बाइबल, कुरान व गीता पढ़ाने के अलावा कम से कम 10 मिनट छात्रों को संविधान के बारे में भी पढ़ाया जाए। उन्होंने कहा कि ‘छात्रों को इंसानियत का पाठ पढ़ाया जाना चाहिए।’

सीएए के खिलाफ हो रहे इस प्रदर्शन में National Confederation of Human Rights Organisation के सदस्यों ने भी हिस्सा लिया था। संगठन के कार्यकारी अध्यक्ष ने राजन सोलोमन हैं। राजन सोलोमन पादरी हैं और हफ्ते भर पहले ही वो गोवा पहुंचे थे। उन्होंने ‘The Indian Express’ से बातचीत करते हुए कहा कि यहां आने से पहले हमने कानून के बारे में समझा है। हम अलग-अलग समुदायों के पास गए थे और हमने कहा कि हम ईसाई अब चुप नहीं रह सकते हैं। यह मानवाधिकार से जुड़ा मामला है हम किसी के तरफ से नहीं बोल रहे हैं।’

Concerned Citizens for Goa के अध्यक्ष समीर शेख ने कहा कि दूसरे समुदाय के लोग मुस्लिमों की आवाज बन रहे हैं। इससे उनकी आवाज और बुलंद हुई है। दिल्ली के नेता तंज कसते थे कि सिर्फ मुसलमान ही प्रदर्शन कर रहे हैं। उन्हें आज इस मैदान में जमा भीड़ के ऊपर ड्रोन चलाना चाहिए और यह देखना चाहिए की अलग-अलग समुदाय के लोग यहां हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 धार्मिक नफरत फैलाने के आरोप में बीजेपी सांसद पर FIR, पुरानी फोटो पोस्ट कर किया था “हिन्दू-मुसलमान”
2 शिवसेना का सामना के जरिए घुसपैठियों पर निशाना, कहा- देश में घुसे PAK व बांग्लादेशी मुसलमानों को निकाल फेंको
3 राजस्थान ने स्कूल की किताबों में संविधान की प्रस्तावना को किया अनिवार्य, छत्तीसगढ़ में सभी शैक्षणिक संस्थानों में संविधान पर होगी चर्चा
ये पढ़ा क्या?
X