ताज़ा खबर
 

प्रियंका गांधी वाड्रा की राजनीति में एंट्री से मायावती नाराज? सपा को पहले से पता था!

उत्तर प्रदेश के पड़ोसी राज्य मध्यप्रदेश में बहुजन समाज पार्टी ने कांग्रेस को समर्थन दे रखा है। हालांकि यूपी में ऐसी किसी भी गुंजाइश से मायावती और अखिलेश यादव इंकार कर चुके हैं।

Author January 27, 2019 3:12 PM
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी (Photo : Express Archive)

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए कांग्रेस ने बड़ा दांव चला दिया है। कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश से दिल्ली का रास्ता तय करने के लिए प्रियंका गांधी को उत्तर प्रदेश में पूर्वी हिस्से की जिम्मेदारी देते हुए राजनीति में उतारा है। आम चुनाव में जीत के लिए पार्टी ने तुरुप का इक्का के तौर पर प्रियंका गांधी को बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है। उत्तर प्रदेश पर कांग्रेस ने फोकस किया हुआ है। हालांकि राज्य में पहले से ही सपा और बसपा ‘एक’ हैं। दोनों ही पार्टियों ने गठबंधन का ऐलान करते वक्त कांग्रेस के लिए दो सीटें छोड़ दी थीं। लेकिन अब प्रियंका के आने से समीकरण बदलते दिखाई पड़ रहे हैं। द इंडियन एक्सप्रेस के कॉलम इनसाइट ट्रैक में छपी कूमी कपूर की खबर के अनुसार प्रियंका के राजनीति में आने की जानकारी पहले से ही सपा को थी।

उत्तर प्रदेश के पड़ोसी राज्य मध्यप्रदेश में बहुजन समाज पार्टी ने कांग्रेस को समर्थन दे रखा है। हालांकि यूपी में ऐसी किसी भी गुंजाइश से मायावती और अखिलेश यादव इंकार कर चुके हैं। लेकिन इस बीच खबर है कि प्रियंका गांधी राजनीति में एंट्री के बार में समाजवादी पार्टी को पहले से जानकारी थी? इसके बाद से बीएसपी सुप्रीमो मायावती नाराज बताई जा रही हैं।

प्रियंका के आने से संभावनाओं ने जोर पकड़ना शरू कर दिया है। जो ताकतें यूपी में कांग्रेस को अब तक खारिज करते थे, अब स्वीकार करने लगे हैं कि प्रियंका की मौजूदगी से पार्टी कानपुर, झांसी, सहारनपुर, गाजियाबाद, पडरौना, लखनऊ, बाराबंकी, वाराणसी, इलाहाबाद और फर्रुखाबाद जैसे निर्वाचन क्षेत्रों में दमदार प्रदर्शन कर सकती है। इसके अलावा अमेठी और रायबरेली सीट पर गांधी परिवार की एकतरफा जीत निश्चित ही मानी जाती है।

2019 चुनाव के दौरान प्रियंका पूर्वी उत्तर प्रदेश की जिम्मेदारी संभालेंगी। उन्हें महासचिव का पद दिया गया है। इससे पहले प्रियंका गांधी वाड्रा राजनीति में सीधे नहीं थीं। वह अपनी मां की संसदीय सीट रायबरेली में चुनाव प्रयार जरूर करती थीं लेकिन पार्टी में उन्होंने कोई पद नहीं लिया था। बताया जा रहा है कि प्रियंका गांधी फरवरी पहले हफ्ते से अपनी जिम्मेदारी संभालेंगी।

बता दें कि, प्रियंका गांधी के अलावा कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश के लिए एक और दांव चला है। कांग्रेस ने ज्योतिरादित्य सिंधिया के कंधों पर भी नई जिम्मेदारी डाली है। कांग्रेस नेतृत्व ने सिंधिया को महासचिव बनाकर पश्चिमी उत्तर प्रदेश की कमान सौंपी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App