ताज़ा खबर
 

कोरोना पर पीएम का भाषण: टीका कब आएगा, इस पर कुछ नहीं बोले नरेंद्र मोदी; कबीर, राम चरित मानस और अमेरिका-ब्रिटेन के उदाहरण से समझाई गंभीरता

मोदी ने कहा कि हाल के दिनों में हम सबने बहुत सी तस्वीरें, वीडियो देखे हैं जिसमें साफ दिखता है कि कई लोगों ने सावधानी बरतना बंद कर दिया है या ढिलाई कर रहे हैं। यह बिल्कुल ठीक नहीं है।

covid-19, covid-19 vaccineप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (ट्विटर)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार शाम छह बजे राष्ट्र के नाम अपने संदेश में देशवासियों को कोरोना वायरस महामारी की गंभीरता समझाई। उन्होंने कहा कि हाल के दिनों में हम सबने बहुत सी तस्वीरें, वीडियो देखे हैं जिसमें साफ दिखता है कि कई लोगों ने सावधानी बरतना बंद कर दिया है या ढिलाई कर रहे हैं। यह बिल्कुल ठीक नहीं है।

उन्होंने कहा कि अगर आप लापरवाही बरत रहे हैं, बिना मास्क के बाहर निकल रहे हैं तो आप अपने आपको, अपने परिवार को, अपने परिवार के बच्चों को, बुजुर्गों को उतने ही बड़े संकट में डाल रहे हैं। आप ध्यान रखिए आज अमेरिका हो या स्पेन, ब्राजील और ब्रिटेन हों, यहां कोरोना के मामले घटने लगे थे लेकिन अचानक बढ़ने लगे हैं।

अपने भाषण में मोदी ने संत कबीर दास का जिक्र करते हुए कहा कि जब तक पकी फसल घर ना आए तब तक काम पूरा नहीं मानना चाहिए। यानि जब तक सफलता पूरी नहीं मिल जाए तब तक लापरवाही नहीं करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि जब तक वैक्सीन नहीं आ जाती हमें कोरोना के खिलाफ अपनी लड़ाई को रत्ती भर भी कमजोर नहीं पड़ने देना है।

PM Modi Speech Today Live Updates

बकौल पीएम वर्षों बाद हम ऐसा देख रहे हैं कि मानवता को बचाने के लिए युद्ध स्तर पर काम हो रहा है। हमारे देश के वैज्ञानिक भी जुटे हुए हैं। हमारे देश में भी कोरोना की वैक्सीन पर कई स्तर पर काम हो रहा है। हालांकि पीएम ने अपने पूरे संबंध में ये नहीं बताया कि कोरोना से निजात पाने के लिए भारत को टीका कब तक मिल जाएगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने करीब 12 मिनट के भाषण में कहा कि देश में कोरोना पर रिकवरी रेट अच्छा है। भारत में प्रति दस लाख की आबादी में करीब 5500 लोगों को कोरोना हुआ है। अमेरिका और ब्राजील जैसे देशों में यह आकंड़ा 25 हजार के करीब है। भारत में प्रति 10 लाख लोगों में मृत्यु दर 83 है जबकि अमेरिका ब्राजील स्पेन और ब्रिटेन जैसे अनेक देशों में यह आंकड़ा 600 के पार है।

मोदी ने कहा कि दुनिया के साधन संपन्न देशों की तुलना में भारत अपने ज्यादा से ज्यादा नागरिकों का जीवन बचाने में सफल हो रहा है। आज हमारे देशो में कोरोना मरीजों के लिए 90 लाख से ज्यादा बेड की सुविधा है। 12,000 से ज्यादा क्वारंटाइन सेंटर हैं, 2,000 से अधिक लैब काम कर रही हैं। जिसमें टेस्ट की संख्या 10 करोड़ के आंकड़े को पार कर जाएगी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Reliance Jio Plans: 90GB डेटा वाला शानदार प्लान, 1 साल तक फ्री देखें Disney Plus Hotstar, जानें कीमत, वैलिडिटी और बेनिफिट्स
2 Delhi Riots 2020: ‘आपने सार्वजनिक कर दिए दस्तावेज, और खुद का नाम चाहते हैं गुप्त?’, Zee News से बोला कोर्ट
3 कमलनाथ के बयान पर बवालः ‘आइटम’ या ‘टंच माल’ कहेगा कोई तो जड़ दूंगी तमाचा, जिंदगी भर कोर्ट में घसीटूंगी- बोलीं BJP प्रवक्ता
यह पढ़ा क्या?
X