ताज़ा खबर
 

COVID-19 के बीच लॉकडाउन पर बात न मानने वालों पर PM नरेंद्र मोदी नाराज, केंद्र की एडवाइजरी जारी- उल्लंघन पर होगा कानूनी ऐक्शन

प्रधानमंत्री मोदी ने एक दिन पहले (23 मार्च) को जनता कर्फ्यू के मौके पर कहा था कि यह सिर्फ कोरोनावायरस से लड़ाई की शुरुआत है।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र नई दिल्ली | Updated: March 23, 2020 11:46 AM
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो)

देश भर में रविवार (23 मार्च) को जनता कर्फ्यू की सफलता के बाद प्रधानमंत्री ने लोगों को बधाई दी थी। हालांकि, कुछ जगहों पर रविवार शाम और सोमवार सुबह सड़कों पर जनता के जुटने पर प्रधानमंत्री ने नाराजगी जताई है। राज्य सरकारों की पहल के जनता द्वारा तोड़े जाने पर पीएम मोदी ने ट्वीट में कहा, लॉकडाउन को अभी भी कई लोग गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। कृपया करके अपने आप को बचाएं, अपने परिवार को बचाएं, निर्देशों का गंभीरता से पालन करें। राज्य सरकारों से मेरा अनुरोध है कि वो नियमों और कानूनों का पालन करवाएं।

प्रधानमंत्री के इस ऐलान के बाद भारत सरकार ने एडवाइजरी जारी कर दी है। इसमें कहा गया है कि राज्य लॉकडाउन का कड़ाई से पालन कराएं। इसका उल्लंघन करने वालों पर कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

एक दिन पहले ही केंद्र सरकार ने कोरोनावायरस के खतरे को देखते हुए राज्य सरकारों से उन 75 जिलों में केवल आवश्यक सेवाओं का ही परिचालन किये जाने का आदेश जारी करने को कहा। जहां कोविड-19 के पुष्ट मामले सामने आए या जहां इससे लोगों की मौत हुई है, उनमें दिल्ली के 7 जिले शामिल हैं। इससे साथ ही अंतरराज्यीय बस सेवाएं भी 31 मार्च तक बंद रखने का फैसला किया गया है। इसके अलावा 31 मार्च तक दिल्ली मेट्रो समेत सभी मेट्रो सेवाएं भी स्थगित रहेंगी ।

जिन 75 जिलों में केवल आवश्यक सेवाओं का ही परिचालन किये जाने का फैसला किया गया है, उनमें दिल्ली से सेंटल, पूर्वी दिल्ली, उत्तर दिल्ली, उत्तर पश्चिम दिल्ली, उत्तर पूर्व दिल्ली, दक्षिण दिल्ली, पश्चिम दिल्ली शामिल हैं ।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 Coronavirus: जनता कर्फ्यू में भाजपा महासचिव कैलाश व‍िजयवर्गीय ने पकाया खाना, पोस्‍ट क‍िया वीड‍ियो
2 NITI आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष बोले- तेल से कमाए 50 अरब डॉलर कोरोना-पीड़ितों को दे सकती है सरकार
3 Coronavirus: भारत में COVID-19 के केस 400 के आस-पास, 5 प्वॉइंट्स में जानें आखिर देरी क्यों हो सकती है बेहद घातक