ताज़ा खबर
 

PM नरेंद्र मोदी बने Somnath Temple Trust के अध्यक्ष, ट्रस्टी में अमित शाह समेत 6 के नाम

मोदी से पहले गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल इस ट्रस्ट के चीफ थे। यह पद उनके देहांत के बाद से रिक्त था।

Author Edited By अभिषेक गुप्ता नई दिल्ली | Updated: January 18, 2021 11:00 PM
Somnath Temple Trust, Somnath Temple, Narendra Modiसोमवार को यह जानकारी केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने दी। उन्होंने इसके अलावा सोमनाथ मंदिर में पीएम के साथ खुद की तीन तस्वीरें भी शेयर कीं। (फोटोः टि्वटर/@AmitShah)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमनाथ मंदिर ट्रस्ट (Somnath Temple Trust) के अध्यक्ष बना दिए गए हैं। सोमवार को मंदिर के ट्रस्ट के लोगों के बीच एक वर्चुअल बैठक हुई, जिसमें सभी ने पीएम के नाम का प्रस्ताव रखा था और उन्हें अध्यक्ष के तौर पर चुना। यही नहीं ट्रस्ट में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी हैं। इन दोनों नेताओं के अलावा चार लोगों के नाम ट्रस्टियों में हैं।

न्यास के सचिव पी के लाहेरी ने कहा, ‘‘ सोमनाथ मंदिर न्यास के न्यासियों में एक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आज न्यासियों की डिजिटल बैठक के दौरान नया अध्यक्ष नियुक्त किया गया।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ प्रधानमंत्री को न्यास का अध्यक्ष नियुक्त करन का निर्णय ऑनलाइन बैठक के दौरान सभी न्यासियों द्वारा सर्वसम्मति से लिया गया। ’’

वहीं, यह जानकारी केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने दी। उन्होंने ट्वीट कर बताया, “पीएम मोदी को सोमनाथ मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष बनने पर हृदयपूर्वक बधाई देता हूं। सोमनाथ तीर्थ क्षेत्र के विकास के प्रति मोदी जी का समर्पण अद्भुत रहा है। मुझे पूर्ण विश्वास है कि मोदी जी की अध्यक्षता में ट्रस्ट, सोमनाथ मंदिर की गरिमा व भव्यता को और बढ़ाएगा।”

न्यास के अन्य सदस्य भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी, केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, गुजरात के विद्वान जे डी परमार और व्यापारी हर्षवर्द्धन नियोतिया हैं। बता दें कि मोदी से पहले गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल इस ट्रस्ट के चीफ थे। यह पद उनके देहांत के बाद से रिक्त था।

सोमनाथ मंदिर को जानिए 1 नजर मेंः यह मंदिर गुजरात में गिर-सोमनाथ जिले स्थित परभास पाटन में है। विश्व प्रसिद्ध सोमनाथ मंदिर का प्रबंधन यही ट्रस्ट संभालता है। यहां का शिवलिंग 12 पवित्र ज्योतिर्लिंगों में से एक है। इसे स्वयंभू भी माना जाता है। आक्रमणकारियों ने इस मंदिर पर कई बार हमला किया और लूटा था। पर इसे दोबारा बनाया गया। सरदार पटेल ने इस मंदिर के पुनःनिर्माण का आदेश दिया, जबकि राजेंद्र प्रसाद (देश के पहले राष्ट्रपति) ने इसका उद्घाटन किया था। (भाषा इनपुट्स के साथ)

Next Stories
1 मिट्टी का तेल छिड़क जिंदा जला दूंगा…’AAP’ नेता संजय सिंह को मिली धमकी! बोले- डरने वाला नहीं
2 भगोड़े विजय माल्या को भारत लाने में कहां आ रही अड़चन? केंद्र ने बताया कहां आ रही है दिक्कत
3 अलर्ट! उत्तर भारत को और सताएगी शीत लहर, 5 राज्यों में छाएगा और ज्यादा कोहरा
ये पढ़ा क्या?
X