ताज़ा खबर
 

कोरोनाः ‘दवाई भी, कड़ाई भी’, बोले PM- लंबा चलेगा टीकाकरण; जानिए उनके भाषण की बड़ी बातें

टीकाकरण अभियान के शुरुआत के मौके पर प्रधानमंत्री ने कहा कि हमें अभी भी सावधानी बरतने की जरुरत है। उन्होंने कहा कि भले ही देश में कोरोना के टीके लगने शुरू हो गए हों लेकिन मास्क, 2 गज की दूरी और साफ़ सफाई का पालन अभी और आगे भी किया जाना चाहिए।

corona ,vaccine , indiaदेश में आधिकारिक तौर पर हुई कोरोना टीकाकरण की शुरुआत

देश में आज से टीकाकरण अभियान शुरू हो गया है। टीकाकरण अभियान के शुरुआत के मौके पर प्रधानमंत्री ने कहा कि हमें अभी भी सावधानी बरतने की जरुरत है। उन्होंने कहा कि भले ही देश में कोरोना के टीके लगने शुरू हो गए हों लेकिन मास्क, 2 गज की दूरी और साफ़ सफाई का पालन अभी और आगे भी किया जाना चाहिए। साथ ही उन्होंने देशवासियों को संबोधित करते हुए कहा कि अगर आप लोगों को टीका लग भी जाये तो कोरोना से बचाव के दूसरे तरीके को नहीं छोड़ना है। टीकाकरण शुभारंभ के अवसर उन्होंने देश के सामने “ दवाई भी कड़ाई भी” का नारा दिया। आइए जानते हैं पीएम मोदी के भाषण की बड़ी बातें।

पीएम मोदी के भाषण की बड़ी बातें

  • भारत ने जिस प्रकार कोविड-19 महामारी का मुकाबला किया उसका लोहा आज पूरी दुनिया मान रही है। केंद्र और राज्य सरकारें, स्थानीय निकाय, हर सरकारी संस्थान, सामाजिक संस्थाएं, कैसे एकजुट होकर बेहतर काम कर सकते हैं, ये उदाहरण भी भारत ने दुनिया के सामने रखा।’’

  •  इस महामारी से देश की लड़ाई आत्मविश्वास और आत्मनिर्भरता की रही और इस मुश्किल दौर में भी हर भारतीय में आत्मविश्वास को कमजोर न पड़ने देने का संकल्प दिखा।
  • ‘‘जनता कर्फ्यू, कोरोना के विरुद्ध हमारे समाज के संयम और अनुशासन का भी परीक्षण था, जिसमें हर देशवासी सफल हुआ। जनता कर्फ्यू ने देश को मनोवैज्ञानिक रूप से लॉकडाउन के लिए तैयार किया। हमने ताली-थाली और दीए जलाकर, देश के आत्मविश्वास को ऊंचा रखा।’’

  • संकट के उस समय में जब देश भर में निराशा का वातावरण था तब देश के चिकित्सकों, स्वास्थ्यकर्मी, एंबुलेंस ड्राइवर, आशा वर्कर, सफाई कर्मचारी, पुलिस और अग्रिम मोर्चे पर तैनात दूसरे कर्मी देशवासियों की जान बचाने में अपने प्राणों को संकट में डाल रहे थे।
  • ऐसे समय में जब कुछ देशों ने अपने नागरिकों को चीन में बढ़ते कोरोना के बीच छोड़ दिया था तब भारत चीन में फंसे हर भारतीय को वापस लेकर आया। सिर्फ भारत के ही नहीं, हम कई दूसरे देशों के नागरिकों को भी वहां से वापस निकालकर लाए।

  • विदेश में जब भारतीयों की कोविड जांच के लिए उपकरण कम पड़ गए तो भारत ने पूरी लैब भेज दी थी ताकि वहां से भारत आ रहे लोगों को टेस्टिंग की दिक्कत ना हो।

  • भारत ने 24 घंटे सतर्क रहते हुए हर घटनाक्रम पर नजर रखी और ‘‘सही समय पर सही फैसले लिए।’’ भारत दुनिया के उन पहले देशों में से था जिसने अपने हवाईअड्डों पर यात्रियों की स्क्रीनिंग शुरू कर दी थी।

Next Stories
1 कोरोनाः PM बोले- अफवाहों पर न दें ध्यान, कांग्रेसी का सवाल- इतना ही सेफ है टीका, तो लगवाने को केंद्र से कोई आगे क्यों न आया?
2 कोरोनाः आ गई वैक्सीनें! पर भारत कब होगा इम्यून? एक्सपर्ट्स ने बताया
3 Kerala Karunya Lottery KR 482 Today Results: घोषित हुए लॉटरी रिजल्ट, यहां चेक करें
ये पढ़ा क्या?
X