ताज़ा खबर
 

साक्षी मलिक, दीपा कर्माकर, संजीव कपूर समेत 89 हस्तियों को राष्‍ट्रपति ने दिया पद्म सम्‍मान

इस साल पद्म पुरस्कारों के लिये जनवरी में 7 पद्म विभूषण, 7 पद्म भूषण और 75 पद्मश्री सम्मान के लिये चुना गया।
Author April 13, 2017 19:47 pm
पद्म विभूषण के लिये इस साल सात लोगों को चुना गया था। (Photo: PTI)

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्योंं के लिये पद्म सम्मान के लिए चयनित 89 लोगों को पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्मश्री सम्मान से नवाजा। राष्ट्रपति भवन में गुरुवार को आयोजित सम्मान समारोह में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने खिलाड़ी दीपा कर्माकर और साक्षी मलिक से लेकर शैफ संजीव कपूर तक ज्ञान, विज्ञान, साहित्य, संगीत और कला सहित विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय काम के लिये सर्वोच्च नागरिक सम्मान के तौर पर दिये जाने वाले पद्म पुरस्कारों से सम्मानित किया। इस श्रेणी में अप्रतिम और उत्कृष्ट सेवाओं के लिये हर साल दिये जाने वाले सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म विभूषण के लिये इस साल सात लोगों को चुना गया था।

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने इस श्रेणी के तहत सार्वजनिक जीवन में उल्लेखनीय योगदान के लिये वरिष्ठ राजनेता मुरली मनोहर जोशी और शरद पवार को पद्म विभूषण से सम्मानित किया। जबकि इसी श्रेणी में पीए संगमा और सुंदर लाल पटवा को मरणोपरांत पद्म विभूषण से नवाजा गया। वहीं कला और संगीत के क्षेत्र में केजे यशुदास, विज्ञान एवं इंजीनियरिंग के क्षेत्र में प्रो. उदिपि रामचंद्र राव और आध्यात्म के क्षेत्र में अप्रतिम उत्कृष्ट सेवाओं के लिये सदगुरु जग्गी वासुदेव को पद्म विभूषण से सम्मानित किया।

ज्ञात हो कि विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्यों के लिये सर्वाच्च नागरिक सम्मान के रूप में तीन श्रेणी वाले पद्म पुरस्कारों में अप्रतिम उत्कृष्ट सेवाओं के लिये पद्म विभूषण, शीर्ष स्तर की उल्लेखनीय सेवाओं के लिये पद्म भूषण और किसी भी क्षेत्र में श्रेष्ठ योगदान के लिये पद्मश्री सम्मान दिया जाता है। इस साल पद्म पुरस्कारों के लिये जनवरी में चयनित लोगों में 7 पद्म विभूषण, 7 पद्म भूषण और 75 पद्मश्री सम्मान के लिये चुना गया। इनमें 70 पुरुष, 19 महिलायें, 5 विदेशी मूल या अनिवासी भारतीय शामिल हैं जबकि 6 को मरणोपरांत यह सम्मान दिया गया है।

आपको बता दें कि भारत की युगल विशेषज्ञ ज्वाला गुट्टा ने पदम पुरस्कार नहीं मिलने पर गुरुवार (26 जनवरी) को सोशल मीडिया पर अपनी भड़ास निकाली और कहा कि ये पुरस्कार उन्हें मिलते हैं जो सिफारिशी पत्र लेकर जाते हैं। ज्वाला ने फेसबुक पोस्ट पर लिखा, ‘मुझे किसी खास पुरस्कार के लिये आवेदन करने की अवधारणा पर हमेशा हैरानी होती है जो कि देश के प्रतिष्ठित पुरस्कार हैं। लेकिन इसी तरह से इन्हें खरीदा जा सकता है और इसलिए मैंने आवेदन किया। इसलिए आवेदन किया क्योंकि इन्हें हासिल करना प्रतिष्ठा माना जाता है क्योंकि मुझे लगता है कि मैंने अपने देश का नाम रोशन किया और मैं इसकी हकदार हूं।’ उन्होंने आगे लिखा, ‘मैं पिछले 15 से भी अधिक वर्षों से देश के लिये खेल रही हूं और मैंने कई प्रतिष्ठित टूर्नामेंट जीते हैं। मुझे लगा कि इसके लिये आवेदन करना चाहिए लेकिन मुझे लगता है कि यह पर्याप्त नहीं है। आपको सिफारिश की जरूरत पड़ती हैं। आपको इसके लिये सिफारिश की जरूरत होती है कि आप इसके हकदार हो।’

पद्म नामांकन: केंद्र सरकार ने एमएस धोनी, राम रहीम, नीरजा भनोट के नाम के प्रस्ताव को ठुकराया, देखें वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.