scorecardresearch

राष्ट्रपति चुनाव में द्रौपदी मुर्मू ने बनाया जीत का रिकॉर्ड- बोले पीएम नरेंद्र मोदी, जानिए आंकड़े क्या बोलते हैं

पीएम मोदी के अलावा गृहमंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी द्रौपदी मुर्मु के घर जाकर उनको बधाई दी। वहीं विपक्ष के नेता राहुल गांधी, सोनिया गांधी, ममता बनर्जी, अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर मुर्मू को बधाई संदेश दिया।

राष्ट्रपति चुनाव में द्रौपदी मुर्मू ने बनाया जीत का रिकॉर्ड- बोले पीएम नरेंद्र मोदी, जानिए आंकड़े क्या बोलते हैं
आंध्र प्रदेश, नगालैंड और सिक्किम जैसे राज्यों में द्रौपदी मुर्मू को 100 फीसदी वोट हासिल हुए(फोटो सोर्स:koo/ashwinivaishnaw)।

राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू ने विपक्षी दलों के संयुक्त उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को हराया। भाजपा इस जीत को ऐतिहासिक बता रही है। वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इसे रिकॉर्ड जीत करार दिया है। हालांकि द्रौपदी मुर्मू की जीत के आंकड़े कुछ और ही तस्वीर पेश करते हैं। आंकड़ों के मुताबिक राष्ट्रपति चुनाव के इतिहास में मुर्मू की यह जीत सबसे कम वोट शेयर और जीत के अंतर के मामले में तीसरी जीत है।

बता दें कि मुर्मू की जीत में अगर केवल वोट या वोट के मूल्य को ध्यान में रखा जाए तो संख्या बेहतर दिखती है। वहीं विपक्ष के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा ने 1952 के बाद से अबतक राष्ट्रपति चुनाव के लिए 16 राउंड के चुनावों में सबसे अधिक वोट पाने वाले उपविजेता बने हैं। हालांकि उनका वोट शेयर देंखे तो वो इस सेगमेंट में शीर्ष पर नहीं हैं।

क्या कहते हैं आंकड़ें:

द्रौपदी मुर्मू को 6,76,803 वोट वैल्यू के साथ वोट शेयर 64.03 प्रतिशत रहा। यह 1969 में पांचवें राष्ट्रपति चुनाव के बाद सबसे कम था। वहीं यशवंत सिन्हा को मिलने वाले वोटों की वैल्यू 3,80,177 रही। यह राष्ट्रपति चुनाव में विपक्षी उम्मीदवार को मिले वोटों की सबसे बड़ी संख्या है। बता दें कि उनकी हार का अंतर अब तक का तीसरा सबसे कम अंतर 296,626 था।

राष्ट्रपति चुनाव में अगर कम वोट शेयर वाली तीन जीत का जिक्र करें तो पहले नंबर पर वराहगिरी वेंकट गिरी(वीवी गिरी) हैं। जिन्होंने 1969 में 48 फीसदी वोट शेयर हासिल किया था। इसके बाद जाकिर हुसैन को 1967 में 56.20 प्रतिशत वोट शेयर मिले और राष्ट्रपति चुने गये थे। वहीं तीसरे पर द्रौपदी मुर्मू हैं। जिन्हें 64.03 प्रतिशत वोट शेयर मिला है।

राष्ट्रपति के लिए हुए पिछले तीन चुनावों में, हार का अंतर 3 लाख से अधिक था। वहीं राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के लिए सबसे शानदार जीत में से एक जीत अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार के रहते भाजपा के हिस्से में है। बता दें कि 2002 में ए.पी.जे. अब्दुल कलाम को 815,518 मतों से जीत मिली थी।

मुर्मू की जीत में क्रॉस वोटिंग ने काफी योगदान दिया। भाजपा का दावा है कि संसद के दोनों सदनों के 17 सांसदों और अलग-अलग राज्यों के 126 विधायकों ने मुर्मू को पार्टी लाइन से अलग जाकर वोट किया। असम, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, झारखंड, गुजरात और बिहार में सबसे अधिक क्रॉस वोटिंग हुई। द्रौपदी मुर्मू को आंध्र प्रदेश, नागालैंड और सिक्किम में पूरे सदन का समर्थन मिला। इसके अलावा मुर्मू को केरल से भी एक वोट मिला, जहां भाजपा का एक भी विधायक, सांसद नहीं है।

पीएम मोदी ने क्या कहा:

द्रौपदी मुर्मू के राष्ट्रपति का चुनाव जीतने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनके निवास पर जाकर उन्हें बधाई दी। इस दौरान भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा भी मौजूद रहे। पीएम मोदी मुर्मू की जीत पर कहा कि भारत ने इतिहास रच दिया है। ऐसे समय में जब सवा अरब भारतीय आजादी का अमृत महोत्सव मना रहे हैं, पूर्वी भारत के एक दूरदराज इलाके से आदिवासी समुदाय से आने वाली भारत की बेटी को देश का राष्ट्रपति चुना गया है।

पीएम मोदी के अलावा गृहमंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी द्रौपदी मुर्मु के घर जाकर उनको बधाई दी। वहीं विपक्ष के नेता राहुल गांधी, सोनिया गांधी, ममता बनर्जी, अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर मुर्मू को बधाई संदेश दिया।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 23-07-2022 at 07:33:53 am