रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव के दफ़्तर में बन रहा वॉर रूम, ये है प्लान

रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव अपने दफ्तर में एक वॉर रूम बना रहे हैं जो आधुनिक तकनीक से लैस होगा और किसी भी बड़ी घटना पर यहां से नजर रखी जा सकेगी।

रेल मंत्री अश्विनि वैष्णव। तस्वीर- उनके ट्विटर हैंडल से

रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव अपने दफ्तर यानी रेल भवन में एक वॉर रूम बनवा रहे हैं। इस बिल्डिंग में मंत्री के कार्यालय के ठीक ऊपर डिजास्टर मैनेजमेंट का कमरा हुआ करता थआ। इसके अलावा अन्य निदेशालयों के लिए भी जगह थी। अब इस जगह का उपयोग करके रेल मंत्री एक हाइटेक वॉर रूम बना रहे हैं जहां से किसी भी बड़ी घटना पर नजर रखी जा सकेगी और आधुनिक साधनों का उपयोग करके उचित फैसले लिए जा सकेंगे।

इस वॉर रूम को बनाने का उद्देश्य है कि अगर कोई भी बड़ी घटना या दुर्घटना होती है तो यहां बोर्ड के सभी सदस्य और अन्य अधिकारी बैठकर आवश्यक फैसले ले सकते हैं। इसके अलावा यह वॉररूम एक कमांड ऐंड कंट्रोल सेंटर के रूप में काम करेगा।

रेलवे के इस विभाग को बंद करने का फैसला
रेल मंत्री ने फैसला किया है कि भारतीय रेल
के वैकल्पिक ईंधन से जुड़े विभाग को बंद कर दिया जाए। यह इंडियन रेलवेज ऑर्गनाइजेशन ऑफ अल्टरनेट फ्यूल (IROAF) के तौर पर जाना जाता था। यह ग्रीन एनर्जी पर काम करता था। इसी विभाग से हाल ही में हाइड्रोजन फ्यूल के लिए टेंडर के आवेदन मंगाए गए थे। अब सवाल यह है कि अगर विभाग ही बंद हो जाएगा तो हाइड्रोजन फ्यूल की योजना और टेंडर के आवेदनों का क्या होगा?

मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने बताया कि IROAF के तहत जो भी अनुबंध किए गए हैं, उनपर कोई फर्क नहिं पड़ेगा। यह केवल एक प्रशासनिक बदलाव है, बाकी काम पहले की ही तरह चलता रहेगा। इस विभाग को बंद करने के आदेश में कहा गया था कि इससे जुड़े कार्य नॉर्दर्न रेलवे और रेलवे बोर्ड को सौंप दिए जाएँगे।

बता दें कि हाल ही में हुए मोदी सरकार के मंत्रिमंडल विस्तार में अश्विनी वैष्णव को रेल मंत्री बनाया गया है। इसके अलावा उनके पास संचार और इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय का कार्यभार भी है। जिम्मा संभालने के बाद रेल मंत्री ने ऑफिस के कामकाज में भी कई बदलाव किए हैं। उन्होंने कर्मचारियों को दो शिफ्ट में काम करने का आदेश दिया है। पहली शिफ्ट सुबह 7 बजे से शाम 4 बजे तक की होती है और दूसरी शिफ्ट 3 बजे से मध्य रात्रि 12 बजे तक चलती है।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट