ताज़ा खबर
 

‘दीदी’ नहीं ‘बेटी’ बनकर मोदी-शाह से लड़ेंगी ममता बनर्जी, प्रशांत किशोर ने बनाई नई चुनावी रणनीति

बताया जा रहा है कि ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस 2 मार्च को अपने चुनावी अभियान का आगाज करेगी। इस दौरान ममता को बंगाल की बेटी और मोदी-शाह की जोड़ी को बाहरी बताने का प्लान है।

पश्चिम बंगाल में प्रशांत किशोर ने ममता बनर्जी के लिए चुनावी रणनीति तैयार की है।

पश्चिम बंगाल में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। चुनाव से पहले राजनीतिक पार्टियां कमर कसने में जुट गईं हैं। लोकसभा चुनाव में बीजेपी को बंगाल में मिली सफलता को लेकर ममता बनर्जी सचेत हो गई हैं और यही वजह है कि वह बंगाल के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को पांव जमाने नहीं देना चाहती हैं। खबर है कि ममता बनर्जी बंगाल का विधानसभा चुनाव ‘ममता दीदी’ के तौर पर नहीं बल्कि बंगाल की माटी की बेटी बनकर लड़ने के मूड में हैं। चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर और ममता बनर्जी की कई बैठक भी हुई है और दोनों इस संदर्भ में रणनीति भी बना रहे हैं।

बताया जा रहा है कि ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस 2 मार्च को अपने चुनावी अभियान का आगाज करेगी। इस दौरान ममता को बंगाल की बेटी और मोदी-शाह की जोड़ी को बाहरी बताने का प्लान है। प्रशांत किशोर की टीम इसके लिए नारे गढ़  रही है और थीम सॉन्ग भी कंपोज किया गया है।

दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 में आम आदमी पार्टी  के प्रमुख अरविंद केजरीवाल का भाई और बेटा वाला फॉर्मूला हिट रहा था। यही वजह हैं कि ममता बनर्जी बंगाल के चुनाव में खुद को बंगाल की बेटी के तौर पर स्थापित कर चुनाव लड़ना चाहती हैं और बाजी मारना चाहती हैं। ममता बनर्जी के लिए वाम दल और कांग्रेस ज्यादा बड़ी चुनौती नहीं है लेकिन बीजेपी की ध्रुवीकरण की राजनीति से लोहा लेने के लिए ममता बनर्जी को सधे हुए कदम उठाने होंगे। राजनीतिक पंडित मानते हैं कि बंगाल की आबाधी 30 प्रतिशत मुस्लिम है ऐसे में बीजेपी हिंदू-मुस्लिम ध्रुवीकरण कर वोट बैंक सुरक्षित करने के फिराक में जरूर रहेगी।

ममता बनर्जी के लिए बंगाल प्रतिष्ठा की लड़ाई है।ममता किसी भी सूरत में बंगाल को अपने हाथ से जाने नहीं देना चाहती हैं, अगर ममता बनर्जी बंगाल में हार जाती हैं तो उनकी राजनीतिक वर्चस्व पर सवाल उठेंगे, वहीं कई बड़े राज्यों में प्रशांत किशोर ने कई पार्टियों को चुनाव जिताया है और बंगाल की लड़ाई उनके लिए थोड़ी मुश्किल होगी। यही वजह है कि दोनों मिलकर बंगाल में भाजपा को पटकने के लिए पूरी तैयारी में हैं।

Next Stories
1 तेजस्वी की गैर मौजूदगी में बंद कमरे में मिले चार बड़े नेता, क्या चुनाव से पहले टूट जाएगा महागठबंधन? बिना राजद बनेगा नया मोर्चा?
2 सुप्रीम कोर्ट के सीनियर जज ने खारिज की हिन्दू राष्ट्र की थ्योरी, बोले- संविधान निर्माताओं ने बनाया था ‘रिपब्लिक ऑफ इंडिया’
3 ‘आप सिखाएंगे NIA को क्या कार्रवाई करनी चाहिए?’ टीवी डिबेट में पैनलिस्ट पर चिल्लाने लगे रिटायर्ड मेजर जनरल
ये पढ़ा क्या?
X