ताज़ा खबर
 

‘आत्ममुग्ध सरकार’, मोदी सरकार 2.0 के एक साल पूरे होने पर प्रशांत किशोर का तंज, ट्रोल्स बोले- आप बिन पेंदी का लोटा

एक यूजर ने पीके के ट्वीट पर रिप्लाई करते हुए लिखा कि "सरकार के भरोसे मत बैठिए, क्या पता सरकार राम भरोसे बैठी हो। वैसे भी सरकार ने कह दिया है कि आत्मनिर्भर बनें।"

prashant kishorपॉलिटिकल स्ट्रैटजिस्ट प्रशांत किशोर। (फोटो-पीटीआई)

केन्द्र की नरेंद्र मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का आज एक साल पूरा हो गया है। इस दौरान सरकार अपनी उपलब्धियां गिना रही है। वहीं दूसरी तरफ प्रशांत किशोर ने ट्वीट कर मोदी सरकार के कामकाज पर सवाल उठाए हैं। प्रशांत किशोर ने अपने एक ट्वीट में मोदी सरकार पर तंज कसते हुए लिखा है कि ‘मोदी सरकार 2.0 का पहला साल – आत्ममुग्ध सरकार’। हालांकि कुछ सोशल मीडिया यूजर्स प्रशांत किशोर के इस ट्वीट पर नाराज हो गए हैं और उन्होंने प्रशांत किशोर को ही ट्रोल करना शुरू कर दिया।

एक यूजर ने प्रशांत किशोर के ट्वीट पर रिप्लाई करते हुए उन्हें ‘बिन पेंदी का लोटा’ बता दिया है। वहीं एक यूजर ने प्रशांत किशोर पर तीखा हमला बोलते हुए कहा है कि ‘ये वो कह रहे हैं जिनकी स्वयं की आत्मा किराए पर उपलब्ध है।’ एक यूजर ने पीके के ट्वीट पर रिप्लाई करते हुए लिखा कि “सरकार के भरोसे मत बैठिए, क्या पता सरकार राम भरोसे बैठी हो। वैसे भी सरकार ने कह दिया है कि आत्मनिर्भर बनें।”

बता दें कि शुक्रवार को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने एक बयान में कहा था कि भारत चीन विवाद पर पीएम मोदी का मूड ठीक नहीं है। ट्रंप के इस बयान पर भी प्रशांत किशोर ने प्रधानमंत्री मोदी पर तंज कसते हुए निशाना साधा था। प्रशांत किशोर ने ट्वीट कर लिखा था कि “अब हम अपनी सभी चिंताएं भूल सकते हैं क्योंकि भारत अब सही मायनों में वैश्विक स्तर पर स्वयं को स्थापित कर चुका है। अब हमारे पास अमेरिका के राष्ट्रपति हैं जो दुनिया को हमारे पीएम के मूड के बारे में बताते हैं!!”

प्रशांत किशोर प्रवासी मजदूरों से किराया लेने के मुद्दे पर भी केन्द्र और राज्य सरकारों को घेर चुके हैं। बीते दिनों अपने एक ट्वीट में प्रशांत किशोर ने कहा था कि “रेलवे 85 फीसदी सब्सिडी दे रहा है। केंद्र पैसे ले नहीं रहा और राज्य तो किराए के साथ और सुविधाएं देने का दावा कर रहे हैं। अब विडंबना ये है कि विपक्ष ने भी सबका किराया देने की बात कही है! अगर सबलोग इतना कुछ कर रहे हैं तो मजदूर इतने बेबस क्यों हैं और उनसे ये पैसे ले कौन रहा है?”

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 सीएम शिवराज ने दी ‘MODI’ की नई परिभाषा, बोले- पीएम के नाम में छिपा है आत्मनिर्भरता का मंत्र
2 मां-बाप की गुजारिश भी नहीं मानी तो सुरक्षाबलों ने हिजबुल के दो आतंकियों को कर दिया ढेर, कुलगांव में सुबह से चल रही थी मुठभेड़
3 19 हाईकोर्ट्स ने प्रवासी मदजूरों की दुर्दशा पर लगाई लताड़, सॉलिसिटर जनरल बोले- लोग चला रहे समानांतर सरकार