scorecardresearch

राहुल गांधी ने आपको भाव नहीं दिया?- पत्रकार ने दागा प्रशांत किशोर से सवाल, ट्यूनिंग से मुद्दों पर दिया यह जवाब

एक चैनल से बात करने के दौरान जब प्रशांत किशोर से सवाल हुआ कि क्या कांग्रेस को इस बात का डर था कि आप उनकी पार्टी पर हावी हो जाएंगे? जवाब में प्रशांत किशोर ने कहा कि किसी के मन में क्या चल रहा है, मुझे नहीं पता।

Prashant Kishor, Congress, Rahul Gandhi
चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर(फोटो सोर्स:ANI)।

बीते दिनों चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने साफ कर दिया कि वो कांग्रेस का दामन नहीं थामेंगे। ऐसे में चर्चा इस बात की भी खूब हुई कि प्रशांत किशोर और कांग्रेस के बीच आखिर किन मुद्दों पर बात नहीं बन पाई। वहीं कई टीवी चैनल्स के इंटरव्यू में भी प्रशांत किशोर से यह सवाल किया गया।

बीते दिनों आजतक के एक शो में प्रशांत किशोर से पत्रकार ने सवाल किया, “कई मीडिया रिपोर्ट्स में सामने आया कि राहुल गांधी ने आपको भाव नहीं दिया? जब आप कांग्रेस नेताओं के सामने अपनी प्रजेंटेशन दिखा रहे थे तो राहुल गांधी वहां मौजूद नहीं थे?”

इस पर प्रशांत किशोर ने कहा, “मेरा कद और किरदार इतना बड़ा नहीं है कि राहुल गांधी मुझे भाव दें, और क्यों दे? मेरी इतनी ताकत नहीं है?” पत्रकार ने कहा कि राहुल गांधी के साथ आपकी तल्खी है? इसपर प्रशांत किशोर ने कहा कि मेरी उनसे दोस्ती है। आगे पत्रकार ने कहा कि अगर दोस्ती है तो फिर आपके प्रजेंटेशन के दौरान वो मौजूद क्यों नहीं रहे?

जवाब में प्रशांत किशोर ने पत्रकार से कहा, “आप अपने सूत्र ठीक कीजिए, राहुल जी उस मीटिंग में मौजूद थे। एक नहीं बल्कि तीन बार वहां मौजूद थे। लेकिन जब सीनियर लीडर्स की कमेटी बनाई गई तो उसमें वो नहीं थे। उनकी उसमें जरुरत नहीं थी।”

बता दें कि प्रशांत किशोर के कांग्रेस में जाने की अटकलों के बीच खुद प्रशांत किशोर ने साफ कर दिया है कि वो अब कांग्रेस में नहीं जा रहे हैं। वहीं एक चैनल से बात करने के दौरान जब प्रशांत किशोर से सवाल हुआ कि क्या कांग्रेस को इस बात का डर था कि आप उनकी पार्टी पर हावी हो जाएंगे? जवाब में प्रशांत किशोर ने कहा कि किसी के मन में क्या चल रहा है, ये घुसकर नहीं जान सकते। इसलिए इस तरह के सवालों के जवाब नहीं दे पाऊंगा।

बता दें कि हाल ही में प्रशांत किशोर ने द इंडियन एक्सप्रेस के ई-अड्डा कार्यक्रम में कांग्रेस को सलाह देते हुए कहा कि था कि कांग्रेस को विपक्ष में रहने और विपक्षी दल की तरह व्यवहार करना चाहिए। उन्होंने कहा कि विपक्ष को ‘कहानी कहने और बने रहने की कोशिश’ का प्रयास करना चाहिए न कि चेहरों की चिंता करनी चाहिए।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट