ताज़ा खबर
 

बंगाल चुनाव पर बोले प्रणब मुखर्जी के बेटे- कांग्रेस के पास नहीं चुनाव लड़ने के पैसे, हिंदू कांग्रेस को वोट नहीं देते

अभिजीत मुखर्जी ने कहा कि अगर मोदी मेरे पिता की इतनी इज्जत करते तो उनको प्रणाम करते हुए अपने फोटो ट्वीट नहीं करते।

bengal, congressअपने पिता प्रणब मुखर्जी के साथ अभिजीत मुखर्जी। (Twitter)।

देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के बेटे और कांग्रेस नेता अभिजीत मुखर्जी से जब बीबीसी के रिपोर्टर ने सवाल किया कि क्या कांग्रेस पार्टी बंगाल में पैसे और उत्साह की कमी से जूझ रही है? इसका जवाब देते हुए अभिजीत मुखर्जी ने कहा कि निश्चित तौर पर पैसे की कमी है और कांग्रेस पार्टी की मदद से और व्यक्तिगत तौर पर ही उम्मीदवार चुनाव लड़ पा रहे हैं।

अभिजीत मुखर्जी ने कहा कि केंद्र में बीजेपी की सरकार है, जिसके पास पैसों की कमी नहीं है और राज्य में भी टीएमसी की सरकार है। बंगाल में हम 44 साल से सत्ता से बाहर हैं। टीएमसी और बीजेपी से एक साथ लोहा लेना इतना आसान नहीं है। रिपोर्टर ने जब नेता से पूछा कि बिना पैसे के कांग्रेसी प्रत्याशी कैसे चुनाव लड़ेंगे? इसका जवाब देते हुए मुखर्जी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी की विचारधारा पैसे खर्च करके चुनाव जीतने की नहीं है। पीढ़ी दर पीढ़ी लोग कांग्रेस पार्टी के सदस्य रहे हैं और यहां पार्टी के सदस्य खरीदे नहीं जाते हैं। अभिजीत मुखर्जी ने कहा कि वह जमाना चला गया जब कांग्रेस पार्टी टिकट और पैसे दोनों दिया करती थी।

राज्य में बीजेपी के उदय पर अभिजीत मुखर्जी ने कहा कि बंगाल में ज्यादातर आबादी धर्मनिरपेक्ष है। अभिजीत मुखर्जी ने उदाहरण देते हुए कहा कि मेरे पिता प्रणब मुखर्जी चुनाव उस सीट से जीतते थे जहां 72 फीसदी आबादी मुस्लिम आबादी होती थी और वहां से हिंदू उम्मीदवार जीत जाता था। चलिए उनका तो दबदबा था लेकिन मैं भी दो बार जीता। लेकिन बीजेपी ध्रुवीकरण करने में कामयाब रही। मुझे हिंदू होकर हिंदुओं का वोट नहीं मिला। कांग्रेस को ज्यादातर मुसलमानों के वोट ही मिलते हैं।

दलित सीटों पर बीजेपी की जीत और राज्य में मुस्लिम नेतृत्व ना पैदा करने के सवाल पर अभिजीत मुखर्जी ने कहा कि यह आरोप गलत है। कांग्रेस में सबको मौका दिया जाता है। बांग्लादेश से आए दलितों के सवाल पर अभिजीत मुखर्जी ने कहा कि बंगाल में दलित और ब्राह्मण वाला सवाल है ही नहीं।

दिलीपी घोष के सवाल पर अभिजीत मुखर्जी ने कहा कि दिलीप घोष के बीजेपी अध्यक्ष बनने से पहले मैंने उनका नाम ही नहीं सुना था।

जब मुखर्जी से पूछा गया कि आप बंगाल में तो लेफ्ट के साथ मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं और केरल में उनके खिलाफ लड़ रहे हैं? इस पर अभिजीत मुखर्जी ने कहा कि यह युद्ध है और इसमें सब कुछ जायज है।

जब उनसे कहा गया कि प्रणब मुखर्जी की राजनीति को बीजेपी ने हड़पने की कोशिश की तो अभिजीत मुखर्जी ने कहा कि अगर मोदी मेरे पिता की इतनी इज्जत करते तो उनको प्रणाम करते हुए अपने फोटो ट्वीट नहीं करते। साथ ही मुझे सांसद का बंगला खाली करने के लिए समय भी देते।

Next Stories
1 राकेश टिकैत ने बताया, कब होगा समस्या का समाधान, कहा- सड़क से उठेगी आवाज़
2 SGPC ने पास किया आरएसएस के खिलाफ प्रस्ताव, मोदी सरकार से मांग- संघ के एजेंडे पर नहीं करें काम
3 पिछले साल से भी भयावह रूप ले रहा कोरोना? एक दिन में 81 हजार से ज्यादा मामले, अब गांवों में भी कोविड का प्रकोप
ये पढ़ा क्या?
X