ताज़ा खबर
 

वक्त पर बिजली के बिल का भुगतान नहीं करने पर होगी मुश्किल, ऊर्जा मंत्रालय ने लेट पेमेंट पर 12% सरचार्ज को दी मंजूरी

कोविड-19 महामारी के चलते इस क्षेत्र में जारी तनाव के देखते हुए यह बात कही गई है। इस समय विलंब शुल्क के कई मामलों में अधिभार की दर प्रति वर्ष 18 प्रतिशत है और इससे लॉकडाउन के दौरान डिस्कॉम पर बुरा असर पड़ा है।

power Corporation, Payment,बिजली (विद्युत) मंत्रालय ने बिजली उत्पादक और पारेषण कंपनियों को सलाह दी है कि वे बिजली वितरण कंपनियों (डिस्कॉम) के देर से भुगतान करने पर उनसे विलंब शुल्क के तौर पर 12 प्रतिशत से अधिक अधिभार न लें।

बिजली के बिल का भुगतान करने में देरी करने वालों के लिए सरकार ने मुश्किल बढ़ा दी है। अब उन्हें देर से भुगतान के लिए अपनी जेब ज्यादा ढीली करनी पड़ेगी। बिजली (विद्युत) मंत्रालय ने बिजली उत्पादक और पारेषण कंपनियों को सलाह दी है कि वे बिजली वितरण कंपनियों (डिस्कॉम) के देर से भुगतान करने पर उनसे विलंब शुल्क के तौर पर 12 प्रतिशत से अधिक अधिभार न लें।

कोविड-19 महामारी के चलते इस क्षेत्र में जारी तनाव के देखते हुए यह बात कही गई है। इस समय विलंब शुल्क के कई मामलों में अधिभार की दर प्रति वर्ष 18 प्रतिशत है और इससे लॉकडाउन के दौरान डिस्कॉम पर बुरा असर पड़ा है।

मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि इस कदम का मकसद डिस्कॉम पर वित्तीय बोझ को कम करना है, जो इससे उपभोक्ताओं को भी लाभ होगा। मंत्रालय ने कहा, ‘‘बिजली मंत्रालय ने सभी उत्पादक कंपनियों और पारेषण कंपनियों को सलाह दी है कि देर से भुगतान की स्थिति में आत्मनिर्भर भारत के तहत पीएफसी और आरईसी की नकदी निवेशन योजना (एलपीएस) के तहत किए जाने वाले सभी भुगतान पर अधिभार 12 प्रतिशत प्रति वर्ष (साधारण ब्याज) से अधिक न लिया जाए।’’

आमतौर पर एलपीएस की दर काफी अधिक होती है, जबकि पिछले कुछ वर्षों के दौरान देश में ब्याज दरें काफी कम हुई हैं। कोरोना वायरस महामारी के चलते डिस्कॉम की नकदी स्थिति पर प्रतिकूल असर पड़ा है। हालांकि, सरकार ने उन्हें राहत देने के कई उपाए किए हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Aarogya Setu में आया ये नया फीचर, किसे क्या मिलेगा लाभ? जानिए
2 कनिमोझी ने फिर उठाया ‘हिंदी थोपने’ का मुद्दाः बेविनार में सचिव बोले थे- जिसे नहीं आती है हिंदी, वह जा सकता है; AYUSH मंत्री से की शिकायत
3 Delhi Riots पर किताब को लेकर पनपा विवाद, Bloomsbury India ने वापस लेने का लिया फैसला
राशिफल
X