ताज़ा खबर
 

पीएम मोदी की बत्ती बंद अपील पर पॉवर कंपनियों में हड़कंप, ग्रिड फेल होने का खतरा मंडराया, बिजली कंपनियों को भेजी गई एडवायजरी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में लोगों से अपील की है कि 5 अप्रैल को रात 9 बजे सभी लोग 9 मिनट के लिए घरों की लाइट बंद कर दिये या मोबाइल फ्लैश जलाएं।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र नई दिल्ली | Updated: April 4, 2020 4:03 PM
पीएम मोदी के ऐलान के बाद बिजली कंपनियों को सता रहा ग्रिड फेल होने का डर।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों से अपील की है कि सभी नागरिक 5 अप्रैल को रात 9 बजे अपने घरों की लाइट बंद कर बाल्कनी और छत पर दीये जलाएं या टॉर्च-मोबाइल फ्लैश के जरिए रोशनी करें। पीएम ने कहा था कि 5 अप्रैल को हम सबको मिलकर कोरोना के कोरोनावायरस से उभरे संकट के अंधकार को चुनौती देनी है। उसे प्रकाश की ताकत का परिचय कराना है। हमें 130 करोड़ देशवासियों की महाशक्ति का जागरण करना है। देशवासियों को महासंकल्प को नई ऊंचाइयों पर ले जाना है। पीएम मोदी के इस ऐलान के बाद बिजली कंपनियों में ग्रिड फेल होने का डर पैदा हो गया है।

दरअसल, देशभर के इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड्स को यह चिंता सताने लगी है कि जब अचानक से पूरे देश में लाइटें बंद की जाएंगी और बिजली की खपत कम होगी, तो ग्रिड पर अतिरिक्त बिजली का लोड पड़ सकता है। अब तक उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल सरकार ने अपने-अपने बिजली विभागों को इस सिलसिले में एडवायजरी जारी कर दी है।

क्यों फेल हो सकती है ग्रिड?
पावर ग्रिड के संतुलित और स्थिर रहने के लिए जरूरी है इससे होने वाली बिजली की खपत एक तय फ्रीक्वेंसी में हो। यह फ्रीक्वेंसी है 49.95 से 50.05 हर्ट्ज तक। अगर बिजली की खपत अचानक से बढ़ती या कम होती है, तो इस फ्रीक्वेंसी में बदलाव आता है और ग्रिड अस्थिर होकर फेल हो जाती है। देशभर के बिजली विभागों की चिंता है कि जब देश में सभी लोग अचानक से लाइट बंद करेंगे तो बिजली की खपत में 10 फीसदी तक की कमी आएगी, जिससे ग्रिड फेल होने का खतरा होगा।

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें: कोरोना वायरस से बचना है तो इन 5 फूड्स से तुरंत कर लें तौबा | जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं | क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

महाराष्ट्र के ऊर्जा मंत्री ने कहा- दीये जलाएं, लेकिन बत्ती न बुझाएं
महाराष्ट्र के ऊर्जा मंत्री नितिन राउत ने नागरिकों से कहा है कि वे दीये जलाएं, लेकिन घरों की बिजली न बंद करें। उन्होंने कहा कि इससे ग्रिड फेल हो सकती है और सभी इमरजेंसी सेवाएं फेल हो जाएंगी। ऐसे में व्यवस्था ठीक करने में एक हफ्ते का समय लग सकता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 नरेंद्र मोदी ने पोस्‍ट की अटल जी की कव‍िता, गौरव बल्‍लभ ने पूछा- आप जो इतने दिये जलवा रहे हो क्या चूक है जिसको छुपा रहे हो
2 देश में 20 से 30 हजार वेंटिलेटर पड़े हैं बेकार, डॉक्टर्स मांग रहे 50 हजार पीपीई किट्स, ट्विटर पर छेड़ी मुहिम