ताज़ा खबर
 

रमजान के बाद एक्शन में सेना, बांदीपोरा में किए 2 आतंकी ढेर

28 जून से शुरु होने वाली अमरनाथ यात्रा पर आतंकी हमला कर सकते हैं। यही वजह है कि सरकार ने घाटी में सीजफायर की सीमा को और ज्यादा नहीं बढ़ाने का फैसला किया है।

जम्मू कश्मीर में सेना के जवानों की फाइल फोटो।(image source-Ecpress photo by shuaib masoodi)

रमजान के दौरान कश्मीर में महीने भर तक चले संघर्ष विराम की मियाद केन्द्र सरकार ने खत्म कर दी है, जिसके बाद घाटी में सेना ने फिर से ऑपरेशन ऑल आउट शुरु कर दिया है। इसका नतीजा भी जल्द ही देखने को मिला है और सोमवार को जम्मू कश्मीर के बांदीपोरा में हुई मुठभेड़ में सेना ने 2 आतंकियों को ढेर कर दिया है। फिलहाल ऑपरेशन अभी भी जारी है। बांदीपोरा के अलावा कश्मीर के बिजबेहरा इलाके में भी सेना का सर्च अभियान बड़े पैमाने पर चल रहा है। बता दें कि सेना को बिजबेहड़ा इलाके में आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिली थी, जिसके बाद सेना इलाके में घर-घर तलाशी अभियान चला रही है।

अमरनाथ यात्रा पर आतंकी हमले की आशंकाः खबर है कि 28 जून से शुरु होने वाली अमरनाथ यात्रा पर आतंकी हमला कर सकते हैं। यही वजह है कि सरकार ने घाटी में सीजफायर की सीमा को और ज्यादा नहीं बढ़ाने का फैसला किया है। बताया जा रहा है कि सेना ने भी सरकार को संघर्ष विराम की सीमा और नहीं बढ़ाने की अपील की थी, जिसे सरकार ने मान लिया है। गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने रविवार को ट्वीट कर घाटी में सीजफायर खत्म करने की जानकारी दी थी।

आतंकी घटनाओं में आयी तेजीः खबरें आ रही हैं कि सरकार द्वारा कश्मीर में सीजफायर का ऐलान करने से आतंकियों को फिर से संगठित और मजबूत होने का मौका मिल गया है। यही कारण है कि पिछले कुछ दिनों के दौरान कश्मीर में आतंकी घटनाओं में इजाफा देखने को मिला है। हाल ही में राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी की आतंकियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। वहीं भारतीय सेना के जवान औरंगजेब को आतंकियों ने अगवा कर उसकी हत्या कर दी थी। खबर आ रही है कि सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत भी आज कश्मीर के दौरे पर जा सकते हैं और वह शहीद सैनिक औरंगजेब के परिजनों से भी मुलाकात करेंगे। गौरतलब है कि सरकार ने ऑपरेशन ऑल आउट की शुरुआत के साथ ही बातचीत के दरवाजे भी खुले रखे हैं। यही वजह है कि कश्मीर में बातचीत के लिए नियुक्त किए गए केन्द्र के विशेष प्रतिनिधि दिनेश्वर शर्मा भी सोमवार को जम्मू कश्मीर पहुंच रहे हैं। वो कश्मीर में शनिवार तक रहेंगे। माना जा रहा है कि इस दौरान वह विभिन्न नेताओँ से मुलाकात कर सकते हैं। अलगाववादियों से भी बातचीत का विकल्प खुला रखा गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App