ताज़ा खबर
 

दिल्ली: सीमा पर ‘पोर्टा केबिन’ की छावनी तैयार, किसानों ने लगाए पक्के तंबू; आंदोलन मजबूत होने की संभावना

ये तंबू अब तक बांस की मदद से तैयार किए गए थे। अब इनकी जगह लोहे के रॉड वाले तंबू आ गए हैं। अब आंदोलन आगे भी जारी रहने की उम्मीद है।

किसानों के आंदोलन में फिर मजबूती दिखने पर अब लकड़ी की जगह लोहे वाले टेंट लगाए जा रहे हैं।

बवाल के बाद अब किसान आंदोलन के लिए दिल्ली आने वाले किसानों की संख्या बढ़ी है। समर्थकों को रात में ठहरने की सही व्यवस्था उपलब्ध कराई जा सके इसके लिए अब गाजीपुर पर नए पोर्टा केबिन (तंबू) तैयार किए जा रहे हैं। ये तंबू अब तक बांस की मदद से तैयार किए गए थे। अब इनकी जगह लोहे के रॉड वाले तंबू आ गए हैं।

पोर्टा कैबिन तैयार कर रहे किसान संजय कुमार ने बताया कि गुरुवार को गाजीपुर सीमा पर बढ़ी गतिविधियों के बाद अब वे अपने साथियों के साथ देर रात सीमा पर पहुंचे हैं। यहां पर जो किसान रह रहे थे उनकी मदद से ही नए तंबू लगाने के लिए सभी सामान उपलब्ध हो पाया है। बांस वाले तंबू में परेशानी थी कि उसके बार -बार खुलने से लोगों को दिक्कत आ रही थी। अब आंदोलन आगे भी जारी रहने की उम्मीद है, इसलिए नए तंबू लगाए जा रहे हैं।

इससे और भी किसानों को ठहरने की व्यवस्था मिल सकेगी। आंदोलन का उग्र रूप सामने आने के बाद अब किसान नेता लगातार आंदोलन को शांतिपूर्ण बनाए रखने की अपील करते नजर आए। गाजीपुर पर आने वाले दिनों में और भी किसानों की संख्या बढ़ेगी। शुक्रवार को मेरठ, आगरा, अलीगढ़, कुरुक्षेत्र, जिंद और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के इलाकों से किसान पहुंचे। शामिल से आए अमित कुमार ने बताया कि वे अपने साथियों के साथ आए हैं।

नोएडा सीमा पर यातायात सामान्य : आंदोलन में अब तक एक राज्य से दूसरे राज्य जाने वाले मार्ग पर लोगों को परेशानी थी। अब नोएडा सीमा पर आंदोलन की वजह से बंद हटा दिए गए हैं। इससे इस मार्ग पर दिल्ली से नोएडा का यातायात खुल गया है। अब तक वाहन चालको को अन्य मार्गों से अपने गंतव्य तक पहुंचना पड़ रहा था।

Next Stories
1 महापंचायत में किसान ही नहीं छात्र और नेता भी हुए शामिल, भाजपा को डर, कहीं और विकराल न हो जाए आंदोलन
2 गाजीपुर सीमा पर किसान आंदोलन: बदल गया मायूसी का मंजर फिर खुला उत्साह का मोर्चा
3 किसान आंदोलन: सिंघु सीमा पर भड़की हिंसा, दो पक्षों में नारेबाजी, पथराव
ये पढ़ा क्या?
X