ताज़ा खबर
 

जनसंख्या नीतिः योगी आदित्यनाथ पर बोले संजय निषाद- कहीं इंदिरा गांधी जैसा हाल न हो जाए

संजय निषाद ने आरोप लगाया कि योगी आदित्यनाथ ने सांसद रहते हुए संसद में निषाद आरक्षण के मुद्दे का समर्थन किया था लेकिन अब वह अपना ही वादा पूरा करते नजर नहीं आ रहे हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और संजय निषाद (फोटो- इंडियन एक्सप्रेस, ANI)

देश भर में जनसंख्या नीति को लेकर चल रहे बहस के बीच निषाद पार्टी के नेता संजय निषाद ने कहा है कि योगी आदित्यनाथ की हालत इंदिरा गांधी जैसी न हो जाए। संजय निषाद ने कहा कि मैं जनसंख्या नीति का विरोधी नहीं हूं लेकिन उसे एक सिस्टम के तहत लागू करना चाहिए। निषाद ने कहा कि इंदिरा गांधी ने कड़े फैसले लिए थे तो उनकी सत्ता चली गयी थी।

मंगलवार को मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि निषादों की उपेक्षा करना आगामी विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को बहुत भारी पड़ेगा। पिछले विधानसभा चुनाव के समय भाजपा ने कहा था कि सत्ता में आते ही निषादों के आरक्षण के मुद्दे को प्राथमिकता से हल किया जाएगा लेकिन वे तो सरकार की अंतिम प्राथमिकता में भी नहीं हैं। निषाद समाज में रोष के कारण पंचायत चुनावों में भाजपा को काफ़ी नुक़सान उठाना पड़ा है। यही रवैया रहा तो अगले साल के शुरू में होने वाले राज्य विधानसभा चुनाव में भी भाजपा को यह बहुत भारी पड़ेगा।

उन्होंने आरोप लगाया कि योगी आदित्यनाथ ने सांसद रहते हुए संसद में निषाद आरक्षण के मुद्दे का समर्थन किया था लेकिन अब वह अपना ही वादा पूरा करते नजर नहीं आ रहे हैं। त्रिस्तरीय चुनाव में निषाद पार्टी भाजपा से अलग होकर लड़ी थी। उसका परिणाम यह हुआ कि भाजपा चौथे स्थान पर चली गयी। पूर्व में कांग्रेस ने हमारे लोगों को धोखा दिया तो वह ख़त्म हो गयी।

उसी प्रकार सपा और बसपा ने धोखा दिया उन्हें भी उसका ख़ामियाज़ा भुगतना पड़ा। अगर भाजपा भी यही रवैया अपनाती है तो उसका भी यही हश्र होगा।

खुद को उप मुख्यमंत्री पद का दावेदार घोषित किये जाने की मांग दोहराते हुए निषाद ने कहा कि उत्तर प्रदेश में मछुआरा जातियों की आबादी करीब 18 प्रतिशत है। इतनी बड़ी जनसंख्या का एक प्रतिनिधि सदन में होना आवश्यक है। अगर उप मुख्यमंत्री का पद मिल जाय तो उससे बेहतर और क्या हो सकता है।

Next Stories
1 लालू यादव की जगह तेजस्वी यादव हो सकते हैं आरजेडी के राष्ट्रीय अध्यक्ष, तेजप्रताप को भी मिलेगी बड़ी जिम्मेदारी
2 बंगाल चुनाव के दौरान हुई थी प्रशांत किशोर की जासूसी, 2018 में भी हुई थी कोशिश, रिपोर्ट में दावा
3 पंजाब में कोरोना नियमों में बढ़ी ढील, अब खुल सकेंगे 10वीं से 12वीं तक के स्कूल
ये पढ़ा क्या?
X