ताज़ा खबर
 

पोप फ्रांसिस ने यौन शोषण के दोषी पादरी से सभी अधिकारी छीने, बना दिया आम आदमी

थालास्सेरी में पॉक्सो अदालत ने पिछले साल वडक्कुमचेरी को 20 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई और उस पर तीन लाख रुपए का जुर्माना लगाया।

Author Edited By Sanjay Dubey नई दिल्ली | Updated: March 1, 2020 6:11 PM
केरल के दोषी पादरी रॉबिन वडक्कमचेरी पर पोप फ्रांसिस ने की कार्रवाई (ANI फोटो)।

नाबालिगों के यौन शोषण में पादरियों के शामिल होने की घटनाओं को कतई बर्दाश्त न करने की नीति पर अडिग पोप फ्रांसिस ने बलात्कार के दोषी केरल के एक पादरी की सभी जिम्मेदारियां और अधिकार छीन लिए हैं। सायरो-मालाबार चर्च का पादरी रॉबिन वडक्कुमचेरी मनंतवाडी डायोसिस में 16 वर्षीय लड़की को गर्भवती करने के जुर्म में अभी जेल में बंद है।

गिरजाघर के एक अधिकारी ने पीटीआई-भाषा को बताया, “वडक्कुमचेरी को पादरी की सभी जिम्मेदारियों और अधिकारों से मुक्त कर दिया गया है। इसका मतलब है कि वह अब एक आम व्यक्ति हो गया है।” उसे 2017 में इस अपराध की खबर आने के फौरन बाद पादरी के कर्तव्यों से निलंबित कर दिया गया था। थालास्सेरी में पॉक्सो अदालत ने पिछले साल वडक्कुमचेरी को 20 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई और उस पर तीन लाख रुपए का जुर्माना लगाया।

50 वर्षीय पादरी, कन्नूर जिले के कोट्टियूर में स्थानीय चर्च का पादरी था और उस स्कूल में प्रबंधक था, जहां पीड़िता पढ़ रही थी। उसे दो साल पहले कनाडा भागने की कोशिश के दौरान गिरफ्तार किया गया था। पोप फ्रांसिस ने दो साल बाद यह स्पष्ट कर दिया है कि बच्चों का यौन शोषण करने वाले पादरियों के प्रति सभी बिशपों को “शून्य सहिष्णुता” की नीति का पालन करना चाहिए। इसके बाद वेटिकन ने यह कार्रवाई की है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 ‘कैसे हिन्दू हो? घर में नहीं रखते हिन्दू देवी-देवताओं की एक भी फोटो’, गिरफ्तार लेक्चरर के परिवार से भीड़ ने पूछा
2 तीन तरफ से घिरे सीएम त्रिवेंद्र रावत: बीजेपी सांसद ने कोर्ट में घसीटा, सर्वे में भी पिछड़े; जल्द कर सकते हैं कैबिनेट विस्तार
3 PF पर बरकरार रह सकता है 8.65 फीसदी ब्याज दर, सूत्रों से खबर, 5 मार्च को बैठक